Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीति13+9 सीटों पर बीजेपी दे रही कड़ी टक्कर, केजरीवाल और कुर्सी के बीच पिक्चर...

13+9 सीटों पर बीजेपी दे रही कड़ी टक्कर, केजरीवाल और कुर्सी के बीच पिक्चर अभी बाकी है!

रुझानों में आम आदमी पार्टी को बहुमत मिलता दिख रहा है, जोकि अभी तक 57 सीटों पर आगे चल रही है। लेकिन 13 सीटों पर बीजेपी ने भी बढ़त बना रखी है। साथ ही...

दिल्ली विधानसभा चुनावों की मतगणना जारी है। हर किसी की निगाहें परिणाम पर टिकी हुई हैं। भले ही रुझानों में आम आदमी पार्टी को बहुमत मिलता दिख रहा है, जोकि अभी तक 57 सीटों पर आगे चल रही है। लेकिन 13 सीटों पर बीजेपी ने भी बढ़त बना रखी है। साथ ही कॉन्ग्रेस और अन्य के खाते में एक भी सीट जाती हुई नहीं दिख रही। वहीं, आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया अपनी विधानसभा क्षेत्र पटपड़गंज से पीछे चल रहे हैं।

13 सीटों (जहाँ BJP आगे है) के अलावा दिलचस्प बात यह है कि दिल्ली की करीब 9 सीटें ऐसी हैं, जहाँ बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच काँटे का टक्कर चल रहा है। इन सीटों पर बढ़त का अंतर एक हजार वोटों से कम का है। इनमें विश्वास नगर विधानसभा, सीलमपुर, आदर्श नगर, द्वारका, हरिनगर, किराड़ी, कालकाजी, नजफगढ़, मुंडका, ओखला, शालीमार बाग शामिल है।

कौन-कौन सी सीटों पर बीजेपी फिलहाल आगे

  • विश्वास नगर से ओपी शर्मा आगे
  • मुस्तफाबाद से जगदीश प्रधान आगे
  • किराड़ी से अनिल झा आगे
  • शकूरबस्ती से एससी वत्स आगे
  • पटपड़गंज से रविंदर सिंह नेगी आगे
  • करावलनगर से मोहन सिंह बिष्ट आगे
  • उत्तर पूर्वी दिल्ली से मनोज तिवारी आगे
  • जनकपुरी से आशीष सूद आगे
  • बवाना से रविंदर कुमार आगे
  • मुंडका से मास्टर आजाद सिंह आगे
  • शालीमार बाग से रेखा गुप्ता
  • त्रिनगर से तिलक राम गुप्ता आगे
  • मंडीपुर से कैलाश संकला आगे
  • दिल्ली कैंट से मनीष सिंह आगे
  • जंगपुरा से इंप्रीत सिंह बख्शी आगे
  • कालकाजी धर्मबीर सिंह आगे
  • ओखला से ब्रहम सिंह आगे
  • लक्ष्मी नगर से अभय वर्मा आगे
  • कृष्णा नगर से अनिल गोयल आगे
  • शाहदरा से संजय गोयल आगे
  • गोकलपुर से रंजीत सिंह आगे
  • घोंडा से अजय महावर आगे

8 मुस्लिम बहुल इलाकों का हाल: कौन आगे, कौन पीछे – मुस्तफाबाद में समीकरण गड़बड़ाया

कॉन्ग्रेस नेता ने डेढ़ घंटे में ही मान ली हार, ट्वीट कर ‘पहली फुरसत’ में निकल लिए

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe