Sunday, May 29, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसिलसिलेवार बम धमाकों से दहला काबुल, शिया बहुल क्षेत्र में ट्रेनिंग सेंटर और स्कूल...

सिलसिलेवार बम धमाकों से दहला काबुल, शिया बहुल क्षेत्र में ट्रेनिंग सेंटर और स्कूल पर आत्मघाती हमला, 25 बच्चों की मौत, कई घायल

अफगानिस्तान के हवाले से कहा जा रहा है कि हमारे शिया भाइयों को निशाना बनाया गया है। स्कूल पर तीन से पाँच आत्मघाती हमलावरों ने हमला किया। उनमें से तीन ने बम विस्फोट किए हैं।

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में मंगलवार (19 अप्रैल, 2022) को ट्रेनिंग सेंटर और स्कूल को निशाना बनाकर सिलसिलेवार तीन बम विस्फोट हुए। जिसमें बड़ी संख्या में लोगों के हताहत होने की खबर सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पहला धमाका पश्चिमी काबुल में मुमताज स्कूल के पास और दूसरा अब्दुल रहीम शाहिद स्कूल के सामने हुआ। समाचार एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार इन धमाकों में 25 बच्चे मारे गए हैं। काबुल के दश्त-ए-बर्ची इलाके में ये धमाका उस वक्त हुआ जब स्कूली बच्चे स्कूल से बाहर निकल रहे थे।

अफगानिस्तान के आंतरिक मंत्रालय ने अब्दुल रहीम शहीद हाई स्कूल के पास विस्फोट की पुष्टि की है। मंत्रालय ने कहा कि घटना की जाँच शुरू कर दी गई है। वहीं मीडिया रिपोर्ट में अफगानिस्तान के हवाले से कहा जा रहा है कि हमारे शिया भाइयों को निशाना बनाया गया है। स्कूल पर तीन से पाँच आत्मघाती हमलावरों ने हमला किया। उनमें से तीन ने बम विस्फोट किए हैं। वहीं मीडिया रिपोर्ट में यह भी कहा जा रहा है कि पहला हमला काबुल के पश्चिम में मुमताज ट्रेनिंग सेंटर के पास भी विस्फोट हुआ। हमले में 25 की मौत के साथ के साथ कई लोगों के घायल होने की बात सामने आई है।

स्थानीय अफगानिस्तान समाचार को कवर करने वाले एक पत्रकार ने घटना को लेकर ट्वीट किया, “एक आत्मघाती हमलावर ने काबुल के एक स्कूल पर हमला किया, जो मुख्य रूप से शिया बहुल है। विस्फोट अब्दुल रहीम शाहिद स्कूल के मुख्य एग्जिट गेट में हुआ जहाँ छात्रों की भीड़ थी, एक शिक्षक ने जो आश्चर्यजनक रूप से हमले से बच गया उसने मुझे बताया कि कई लोगों के हताहत होने की आशंका है।”

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, काबुल पुलिस प्रवक्ता खालिद जादरान ने तीन धमाकों की पुष्टि की है, लेकिन जान-माल के नुकसान और धमाके पर और अधिक डिटेल साझा नहीं किए हैं। वहीं इस हमले की जिम्मेदारी अभी तक किसी भी संगठन ने नहीं ली है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

‘कब्ज़ा कर के बनाई गई मस्जिद को गिरा दो’: मंदिरों को ध्वस्त कर बनाए गए मस्जिदों पर बोले थे गाँधी – मुस्लिम खुद सौंप...

गाँधी जी ने लिखा था, "अगर ‘अ’ (हिन्दू) का कब्जा अपनी जमीन पर है और कोई शख्स उसपर कोई इमारत बनाता है, चाहे वह मस्जिद ही हो, तो ‘अ’ को यह अख्तियार है कि वह उसे गिरा दे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe