Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकाबुल के राष्ट्रपति भवन में लत्तम-जूत्तम: डिप्टी PM मुल्ला बरादर पर चले लात-घूसे, हक्कानी...

काबुल के राष्ट्रपति भवन में लत्तम-जूत्तम: डिप्टी PM मुल्ला बरादर पर चले लात-घूसे, हक्कानी गुट ने तालिबान की बैंड बजाई

कुछ वक्त पहले अफगानिस्तान के डिप्टी पीएम मुल्ला अब्दुल गनी बरादर की मौत की घटना सामने आई थी। हालाँकि, बाद में बरादर ने एक वीडियो जारी कर अपने जिंदा होने की पुष्टि की।

अउगानिस्तान की सत्ता पर तालिबान को कब्जा कि हुए ही अभी अधिक समय नहीं बीता है, लेकिन जिहादी सरकार की अंदरूनी फूट उभरकर सामने आ गई है। मुल्ला अब्दुल गनी बरादर तालिबान के संस्थापकों में से एक है। वहाँ की सरकार में हक्कानी गुट का दबदबा बढ़ता जा रहा है। अब खबर सामने आई है कि काबुल स्थित राष्ट्रपति भवन में हक्कानी गुट के एक कमांडर ने मुल्ला बरादर को जमकर लात-घूँसों से पीटा।

कुछ वक्त पहले अफगानिस्तान के डिप्टी पीएम मुल्ला अब्दुल गनी बरादर की मौत की घटना सामने आई थी। हालाँकि, बाद में बरादर ने एक वीडियो जारी कर अपने जिंदा होने की पुष्टि की। अमेरिकी मीडिया के मुताबिक, काबुल में बरादर के साथ मारपीट के साथ ही वहाँ गोली भी चली है।

रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान के अदर जारी अंदरूनी घमासान के बीच काबुल के राष्ट्रपति भवन में तालिबानी कैबिनेट के गठन को लेकर बैठक हुई थी। बैठक के दौरान मुल्ला बरादर गैर तालिबानी नेता औऱ जातीय अल्पसंख्यकों को शामिल किए जाने की बातों पर जोर दे रहा था। बरादर का मानना था कि ऐसा करने से दुनिया में तालिबानी सरकार को मान्यता मिल सकती है। हालाँकि, हक्कानी गुट इससे सहमत नहीं था।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बरादर की बातें हक्कानी गुट के कमांडर खलील उल रहमान हक्कानी को इतनी नागवार गुजरी की वो अचानक से अफनी जगह से उठा और बरादर पर लात-घूँसों की बौछार कर दी। इसके बाद दोनों के बॉडीगार्ड के बीच गोलियाँ भी चलीं। इस घटनाक्रम में कई लोग घायल भी हुए। वहीं मुल्ला बरादर हैबतुल्ला अखुंदजादा से बात करने के लिए कंधार रवाना हो गया।

मुल्ला बरादर को किया गया साइडलाइन

रिपोर्ट के मुल्ला बरादर ही तालिबान का वह नेता है, जो अमेरिका तक से बातचीत कर रहा था। लेकिन, नई तालिबानी सरकार उसे साइडलाइन कर दिया गया है। दरअसल, तालिबान की अफगानिस्तान में जब तालिबान की सरकार बनी तो बरादर के समर्थकों क उम्मीद थी कि उसे इसमें शामिल किया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -