Saturday, June 15, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगानिस्तान पर हथियारों के बल पर 'कब्ज़ा' और शरिया शासन वाला तालिबान, अब दे...

अफगानिस्तान पर हथियारों के बल पर ‘कब्ज़ा’ और शरिया शासन वाला तालिबान, अब दे रहा है रूस-यूक्रेन संघर्ष में संयम बरतने का ज्ञान

इसी तालिबान ने अफगानिस्तान में पिछले साल अगस्त में एक के बाद एक हमले कर न केवल सैकड़ों हत्याएँ की थीं। तालिबान से पहले की सरकारों में सैनिक और पुलिसकर्मियों को चुन-चुनकर तालिबान ने हत्या की थी।

रूस और यूक्रेन (Russia-Ukraine War) के बीच जारी जंग के बीच अब वो संगठन भी ‘शांति की वकालत’ कर रहा है, जिसने जिहाद (Jihad) और हथियारों के दम पर अफगानिस्तान (Afghanistan) में भारी खून-खराबा कर उस पर कब्जा किया है। तालिबान (Taliban) ने यूक्रेन में रूसी हमलों के कारण आम नागरिकों के मारे जाने पर चिंता जाहिर करते हुए शांति की अपील की है। तालिबान ने दोनों देशों से विवादित मुद्दों को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने की अपील की है।

ऐसे वक्त में जब दुनिया भर के तमाम देश रूस पर प्रतिबंधों की बौछार कर रहे हैं और पुतिन की आलोचना कर रहे हैं, तब तालिबान ने यूक्रेन संकट पर यह बयान दिया है। तालिबान ने कहा है कि सभी पक्षों को उन कदमों को उठाने से बचने की जरूरत है, जिनसे हिंसा के हालात बनें। इसके साथ ही तालिबान ने रूस और यूक्रेन से परस्पर संवाद करने की अपील भी की है।

उल्लेखनीय है कि रूस और यूक्रेन के बीच हो रहे युद्ध का आज दूसरा दिन है। रूस ने यूक्रेन के नेवल बेस, एयर डिफेंस सिस्टम और सैकड़ों सैनिकों को खत्म कर दिया है। रूसी सेना कीव पहुँच चुकी है। उधर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन लगातार यूक्रेन को सरेंडर करने के लिए कह रहे हैं। वहीं नाटो और अमेरिका रूस को कार्रवाई की चेतावनी तो दे रहे हैं, लेकिन पुतिन के खिलाफ जंग में उतरने की हिम्मत नहीं दिखा रहे हैं। नाटो और अमेरिका स्पष्ट कर चुके हैं कि वो यूक्रेन में अपनी सेना नहीं भेजेंगे। हालाँकि, दुनिया भर के कई देश रूस पर आर्थिक प्रतिबंध जरूर थोप रहे हैं।

अफगानिस्तान में लोकतान्त्रिक तरीके से चुनी गई सरकार को हथियारों के दम पर हटाकर सत्ता पर कब्जा करने वाला तालिबान आज भले ही शांति की बात कर रहा है, लेकिन इसी ने अफगानिस्तान में पिछले साल अगस्त में एक के बाद एक हमले कर न केवल सैकड़ों हत्याएँ की थीं। तालिबान से पहले की सरकारों में सैनिक और पुलिसकर्मियों को चुन-चुनकर तालिबान ने हत्या की थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW – अमित शाह ने सबको बुलाया: कश्मीर में ‘एक्शन’ की तैयारी में...

NSA अजीत डोभाल के अलावा उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, तीनों सेनाओं के प्रमुख के अलावा IB-R&AW के मुखिया व अर्धसैनिक बलों के निदेशक भी मौजूद रहेंगे।

अब तक की सबसे अधिक ऊँचाई पर पहुँचा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, उधर कंगाली की ओर बढ़ा पाकिस्तान: सिर्फ 2 महीने का बचा...

एक तरफ पाकिस्तान लगातार बर्बादी की कगार पर पहुँच रहा है, तो दूसरी तरफ भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार बढ़ता जा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -