Friday, March 1, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय12 गोलियों के निशान, सिर-छाती को भारी वाहन से कुचल लाश को घसीटा: दानिश...

12 गोलियों के निशान, सिर-छाती को भारी वाहन से कुचल लाश को घसीटा: दानिश सिद्दीकी के साथ तालिबानी बर्बरता की नई डिटेल

रवीश कुमार जैसों ने जिस दानिश सिद्दीकी की हत्या के बाद ‘बंदूक से निकली गोली’ को लानतें भेजीं थी, उस फोटो जर्नलिस्ट के साथ तालिबानी बर्बरता को लेकर नया खुलासा हुआ है।

अंतरराष्ट्रीय न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के लिए काम करने वाले फोटोजर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी की अफगानिस्तान में तालिबान के द्वारा की गई हत्या के संबंध में नया खुलासा हुआ है। सिद्दीकी की मेडिकल रिपोर्ट और X-Ray से यह पता चला है कि उन्हें 12 गोलियाँ मारी गई थी और उनके सिर एवं छाती को भारी वाहन से कुचला गया था।

News18 ने सिद्दीकी की मेडिकल रिपोर्ट एक्सेस करने का दावा किया है। मेडिकल रिपोर्ट के साथ सिद्दीकी की लाश की कई फोटोग्राफ हैं और साथ ही X-Ray रिपोर्ट भी है। इसके माध्यम से यह दावा किया गया है कि मरने के बाद सिद्दीकी की लाश के साथ बर्बरता की गई। रिपोर्ट्स में अफगानी खुफिया सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि सिद्दीकी के शरीर में 12 गोलियों के निशान मिले हैं। इसके अलावा उनके शरीर में कई गोलियाँ मौजूद थीं।

News18 की रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि सिद्दीकी के शरीर पर घसीटने के निशान मौजूद हैं। इसके अलावा उनकी हत्या के बाद उनकी लाश को किसी भारी वाहन से क्षत-विक्षत किया गया, क्योंकि उनके चेहरे और छाती पर गाड़ी के टायर के निशान थे। सिद्दीकी की रिपोर्ट से साफ़ तौर पर यह पता चलता है कि उनके शरीर पर कई फ्रैक्चर भी हुए थे जो तालिबान के आतंकियों के द्वारा उनके साथ की गई बर्बरता की कहानी बताते हैं।

हालाँकि सिद्दीकी की हत्या के बारे में अफगानिस्तान के कमांडर बिलाल अहमद ने पहले ही खुलासा किया था कि उनके शव के साथ भी बर्बरता की गई थी। उन्होंने इसका कारण बताते हुए कहा था कि चूँकि दानिश सिद्दीकी भारतीय थे और तालिबानी भारत से नफरत करते थे, इसीलिए उनके शव के साथ भी बर्बरता की गई थी। उन्होंने बताया कि सबसे पहले तो गोली मार के दानिश सिद्दीकी की हत्या की गई, फिर जैसे ही तालिबानियों को पता चला कि वो भारतीय हैं उनके सिर के ऊपर गाड़ी चढ़ा दी।

16 जुलाई को हुई इस वारदात के बारे में भारतीय वामपंथी मीडिया ने ‘गोलीबारी में मारे जाने’ की बात कही थी। लिबरल गिरोह ने तालिबान को दोष देने की बजाए हिन्दुओं को भला-बुरा कहा था। रवीश सरीखे पत्रकारों ने ‘बंदूक से निकली गोली’ को लानतें भेजीं थी। लेकिन तालिबान ने सिद्दीकी की मौत पर कहा था कि वो अपनी मौत के लिए खुद ही जिम्मेदार हैं, क्योंकि उन्होंने युद्ध क्षेत्र में आने से पहले तालिबान की अनुमति नहीं ली थी। साथ ही तालिबान ने सिद्दीकी की हत्या के लिए माफी माँगने से भी इनकार कर दिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2 से ज्यादा बच्चे होने पर नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी… SC ने माना नियम बिलकुल सही: खारिज की राजस्थान के पूर्व सैनिक की याचिका

किसी व्यक्ति को दो से ज्यादा बच्चे होने के कारण सरकारी नौकरी न देना कहीं से संविधान के खिलाफ नहीं है। ऐसा सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान के एक मामले की सुनवाई में कहा।

‘मैंने लोगों को बुलाकर ED अधिकारियों पर हमले का आदेश दिया’: शाहजहाँ शेख ने कबूला जुर्म, महिलाओं को धमकाने वाला उसका करीबी अमीर अली...

TMC से निलंबित शाहजहाँ शेख ने पुलिस के सामने स्वीकार किया कि उसने भीड़ को ईडी अधिकारियों और सुरक्षबलों पर हमले के लिए भीड़ को उकसाया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe