Tuesday, June 18, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयहाथ नहीं आया दाऊद इब्राहिम का भतीजा सोहैल कासकर, अमेरिका से दुबई होते हुए...

हाथ नहीं आया दाऊद इब्राहिम का भतीजा सोहैल कासकर, अमेरिका से दुबई होते हुए भाग गया पाकिस्तान: रिपोर्ट्स

सोहैल के सहयोगी दानिश अली को 2019 में भारत को प्रत्यर्पित कर दिया गया था। उसी के बाद दाऊद के भाई नूरा के बेटे सोहैल कासकर के भारत को प्रत्यर्पण की उम्मीदें जगी थीं। यदि उसे भारत भेजा जाता तो वह दाऊद के बारे में तमाम जानकारियाँ देता। सोहैल की गिरफ़्तारी के दौरान उसके पास से भारतीय पासपोर्ट बरामद हुआ था।

मुंबई पुलिस (Mumbai Police) की तमाम कोशिशों को उस समय बड़ा झटका लगा, जब पाकिस्तान में बैठा अंडरवर्ल्ड डॉन और वांछित आतंकी दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) के भतीजे सोहैल कासकर (Sohail Kaskar) को भारत वापस लाने की कोशिश नाकाम हो गई। कासकर के दुबई के रास्ते पाकिस्तान चले जाने की खबर है। सोहैल को अमेरिका की खुफिया एजेंसियों ने नार्को टेररिज्म (Narco Terrorism) के आरोप में गिरफ़्तार किया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारतीय जाँच एजेंसियों ने हाल ही में एक आवाज इंटरसेप्ट की थी, जो सोहैल कासकर की थी। एजेंसियों ने जब तहकीकात शुरू की तो पता चला कि वह अमेरिका से निकल चुका है और दुबई होते हुए पाकिस्तान चला गया है। अमेरिका ने सोहैल को भारत को सौंपने के बजाय क्यों जाने दिया, ये अभी पुलिस को भी समझ में नहीं आया है।

सोहैल कासकर और दिल्ली के दानिश अली को साल 2014 में अमेरिकी एजेंसियों ने गिरफ्तार किया था। इन दोनों पर ड्रग्स तस्करी और एयर मिसाइल की डीलिंग का आरोप था। इसकी जाँच फ़ेडरल ब्यूरो ओफ़ इंवेस्टिगेशन (FBI) ने की थी।

दानिश अली को 2019 में भारत को प्रत्यर्पित कर दिया गया था। उसी के बाद दाऊद के भाई नूरा के बेटे सोहैल कासकर के भारत को प्रत्यर्पण की उम्मीदें जगी थीं। यदि उसे भारत भेजा जाता तो वह दाऊद के बारे में तमाम जानकारियाँ देता। सोहैल की गिरफ़्तारी के दौरान उसके पास से भारतीय पासपोर्ट बरामद हुआ था। साल 2005 में भारत और अमेरिका के बीच हुए म्यूचअल लीगल असिस्टेंट्स ट्रीटी साइन के तहत ही सोहैल को भारत सौंपने की उम्मीद जताई गई थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दलितों का गाँव सूना, भगवा झंडा लगाने पर महिला का घर तोड़ा… पूर्व DGP ने दिखाया ममता बनर्जी के भतीजे के क्षेत्र का हाल,...

दलित महिला की दुकान को तोड़ दिया गया, क्योंकि उसके बेटे ने पंचायत चुनाव में भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ा था। पश्चिम बंगाल में भयावह हालात।

खालिस्तानी चरमपंथ के खतरे को किया नजरअंदाज, भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों को बिगाड़ने की कोशिश, हिंदुस्तान से नफरत: मोदी सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार में जुटी ABC...

एबीसी न्यूज ने भारत पर एक और हमला किया और मोदी सरकार पर ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले खालिस्तानियों की हत्या की योजना बनाने का आरोप लगाया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -