Wednesday, December 8, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयवामपंथी विश्वविद्यालयों को ट्रंप ने दी फंडिंग रोकने की धमकी, कहा- बच्चों को शिक्षा...

वामपंथी विश्वविद्यालयों को ट्रंप ने दी फंडिंग रोकने की धमकी, कहा- बच्चों को शिक्षा चाहिए, उन्हें गुमराह मत करो

"बहुत से विश्वविद्यालय और स्कूलों की प्रणाली सिर्फ कट्टर वाम प्रेरणा पर आधारित है ना कि शिक्षा पर। अगर सार्वजनिक नीतियों के विरुद्ध ये काम करते रहे तो इन्हें मिलने वाली फंडिंग से इन्हें वंचित किया जाएगा। हमारे बच्चों को शिक्षा चाहिए, ना कि उन्हें गुमराह किया जाना चाहिए।"

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्रेजरी विभाग से विश्वविद्यालयों और स्कूलों को कर में मिलने वाली छूट और केन्द्रीय फंडिंग की स्थिति की समीक्षा करने के लिए कहा है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि बहुत सारे विश्वविद्यालय सिर्फ ‘रेडिकल लेफ्ट इनडॉक्टरिनेशन’ (कट्टर वामपंथी मत) हैं और उनका शिक्षा से कोई वास्ता नहीं।

ट्रंप प्रशासन विश्वविद्यालयों पर अगस्त से स्कूल खोलने का दबाव डाल रहा है, ताकि यह संदेश दिया जा सके कि कोरोना के बाद अब हालात नॉर्मल हो रहे हैं। राष्ट्रपति ट्रंप चाहते हैं कि सारे विश्वविद्यालय, स्कूल और कॉलेज अगस्त में खुल जाएँ और उन्होंने धमकी दी है कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो वे इन संस्थाओं में सरकारी अनुदान रोक देंगे।

ह्वाइट हाउस में एक कार्यक्रम में ट्रंप ने कहा कि वे सारे गवर्नर और संबंधित लोगों पर दबाव डालेंगे ताकि स्कूल जल्द से जल्द खुलें। उन्होंने यह भी कहा कि यदि उनका प्रोपेगेंडा जारी रहता है तो उनकी फंडिंग रद्द कर दी जाएगी।

ट्रंप ने अपने ट्वीट में कहा, “हमारे बच्चों को शिक्षित होना चाहिए, न कि उन्हें प्रेरित कर गुमराह किया जाना चाहिए!”

‘कट्टरपंथी वाम नीतियों’ के लिए स्कूल और उनकी शिक्षा प्रणालियों पर हमला करते हुए, अमेरिकी राष्ट्रपति ने देश भर के स्कूलों से कहा कि वे कोरोना महामारी के बाद कुछ महीनों में कर्मचारियों और छात्रों के स्वास्थ्य को खतरे में डाले बिना सुरक्षित रूप से संस्थानों को फिर से खोल सकते हैं।

उन्होंने कहा कि कुछ स्कूल, जैसे कि न्यूयॉर्क सिटी पब्लिक स्कूल, एक हाइब्रिड मॉडल को अपना रहे हैं, जिसके तहत छात्र खुद और ऑनलाइन, दोनों तरह के कोर्स करेंगे।

ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, “बहुत से विश्वविद्यालय और स्कूलों की प्रणाली सिर्फ कट्टर वाम प्रेरणा पर आधारित है ना कि शिक्षा पर। इस कारण मैं ट्रेजरी विभाग से इनकी टैक्स में छूट और फंडिंग की समीक्षा की माँग के लिए कह रहा हूँ। अगर सार्वजनिक नीतियों के विरुद्ध ये काम करते रहे तो इन्हें मिलने वाली फंडिंग से इन्हें वंचित किया जाएगा। हमारे बच्चों को शिक्षा चाहिए, ना कि उन्हें गुमराह किया जाना चाहिए।”

ट्रंप ने स्कूल के दिशा-निर्देशों को बदलने के लिए महामारी नियंत्रण केंद्रों पर दबाव बनाने की भी माँग की है, लेकिन यूएस सीडीसी के निदेशक रॉबर्ट रेडफील्ड ने कहा कि वह उन्हें संशोधित नहीं करेंगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना काल में ₹42 लाख का क्रिकेट मैच… खिलाड़ी झारखंड के ‘माननीय’ MLA लोग, मैन ऑफ द मैच खुद CM सोरेन

कोरोना महामारी के दौरान 42 लाख रुपए का क्रिकेट मैच खेल लिया झारखंड के विधायकों ने। मैन ऑफ द मैच खुद बने मुख्यमंत्री सोरेन।

‘वसीम रिजवी का सिर कलम करने वाले को 25 लाख रुपए का इनाम’: कॉन्ग्रेस नेता ने खुलेआम किया दोबारा ऐलान

कॉन्ग्रेस विधायक राशिद खान ने मंगलवार को कहा कि वह शिया वक्‍फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी का सिर काटने वाले को 25 लाख रुपए का इनाम देने की बात पर अभी भी कायम हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
142,284FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe