Saturday, July 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजो मॉडल बनी 'मिस पाकिस्तान यूनिवर्स', उसके पीछे मुल्क के प्रधानमंत्री ने ही लगा...

जो मॉडल बनी ‘मिस पाकिस्तान यूनिवर्स’, उसके पीछे मुल्क के प्रधानमंत्री ने ही लगा दी ISI: मुल्ले-मौलवी भी बता रहे शर्मनाक, कह रहे – हमारा नाम खराब किया

पाकिस्तान के एक इस्लामी स्कॉलर तकी उस्मानी ने माँग की कि सरकार प्रतियोगिता के आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई करे और इस विचार से पीछा छुड़ाए कि रॉबिन पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व कर रही थी।

पाकिस्तान में 24 साल की एरिका रॉबिन ने ‘मिस यूनिवर्स पाकिस्तान 2023’ बनने पर बवाल छिड़ गया है। तारीफों की जगह उन्हें आलोचनाओं और तरह-तरह के तंजों का सामना करना पड़ रहा है। उनकी बेइज्जती की जा रही है। इससे उनके नवंबर में अल साल्वाडोर में होने जा रही 72वीं ग्लोबल मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में शामिल होने पर भी सवालिया निशान लग गया है।

मालदीव में गुरुवार (14 सितंबर, 2023) को आयोजित मिस यूनिवर्स पाकिस्तान प्रतियोगिता में जीत हासिल करने वाली इस मॉडल की अपने ही देश में जमकर मुखालफत हो रही है। इसमें केवल मजहबी नेता ही नहीं, बल्कि वहाँ के कार्यवाहक प्रधानमंत्री अनवारुल हक काकड़ भी शामिल हैं।

सब मिलकर पाकिस्तान यूनिवर्स 2023 के पीछे पड़ गए हैं और इंटेलिजेंस एजेंसी ISI को इन्वेस्टीगेशन के ऑर्डर तक दे दिए गए हैं। एरिका ने इस खिताब को पाने के लिए हीरा इनाम (24), जेसिका विल्सन (28), मलिका अल्वी (19) और सबरीना वसीम (26) को पीछे छोड़ा था। अब उसका ये ताज जीतना दकियानूसी पाकिस्तान के लिए शर्म की बात बन गई है।

मिस यूनिवर्स पाकिस्तान का अपमान

गौरतलब है कि बेहद रूढ़िवादी मुस्लिम-बहुल देश ने पाकिस्तान ने पहले कभी वैश्विक मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में शिरकत नहीं की। ‘इंडिपेंडेंट‘ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मजहबी नेताओं से लेकर कार्यवाहक प्रधानमंत्री तक सभी ने प्रतियोगिता और रॉबिन के इस इवेंट में भाग लेने पर लानत-मलानत की है।

कार्यवाहक पीएम अनवारुल हक काकड़ की सरकार ने देश की खुफिया एजेंसी से प्रतियोगिता के आयोजकों की जाँच करने को कहा है। उनका कहना है कि वे सरकार की मंजूरी के बगैर देश के नाम पर प्रतियोगिता कराने में कैसे कामयाब हो पाए। काकड़ ने मालदीव प्रतियोगिता के आयोजन को ‘शर्मनाक कृत्य’ और ‘पाकिस्तान की महिलाओं का अपमान और शोषण’ कहा है।

कौन हैं एरिका रॉबिन?

रॉबिन के पास बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की डिग्री है और उन्होंने जनवरी 2020 में अपने पेशेवर मॉडलिंग करियर की शुरुआत की थी। तब उनकी तस्वीरें ‘दिवा मैगज़ीन पाकिस्तान’ सहित कई पत्रिकाओं में दिखाई दीं। उन्होंने हाल ही में उन्होंने ‘वॉयस ऑफ अमेरिका’ को बताया था कि उन्हें अपने कंधों पर बहुत सारी जिम्मेदारी महसूस होती है क्योंकि उनका मानना है कि यह पहली बार होगा कि पाकिस्तान से वैश्विक मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में कोई प्रतिभागी शामिल होगी।

तब उन्होंने कहा था, “मैं ऐसा कुछ नहीं करूँगी जिससे देश की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुँचे।” अब गुरुवार (21 सितंबर, 2023) को मालदीव के रा एटोल में ब्रेनिया कोटेफारू रिसॉर्ट में विजेता होने का ऐलान होते ही पाकिस्तान के सीने पर साँप लोट गया। सब उनकी इस उपलब्धि की तारीफ की जगह उन्हें उलाहने देने में बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं।

पाकिस्तान के एक इस्लामी स्कॉलर तकी उस्मानी ने माँग की कि सरकार प्रतियोगिता के आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई करे और इस विचार से पीछा छुड़ाए कि रॉबिन पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व कर रही थी।

पाकिस्तान में सूचना और प्रसारण मंत्री मुर्तज़ा सोलांगी ने एक्स (पहले ट्विटर) पर पोस्ट किया, “पाकिस्तान की सरकार और देश का प्रतिनिधित्व देश और सरकारी संस्थान करते हैं। हमारी सरकार ने ऐसी किसी भी गतिविधि के लिए किसी भी गैर-मुल्क और गैर-सरकारी शख्स या संस्था को नामित नहीं किया है और ऐसा कोई भी शख्स, संस्था और देश पाकिस्तान की सरकार का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकता है।”

वहीं एक अन्य राजनेता मुश्ताक अहमद खान ने इस घटना को ‘पाकिस्तान का अपमान’ कहा। उन्होंने ‘X’ (ट्विटर) पर पोस्ट किया, “पाकिस्तान में इस सौंदर्य प्रतियोगिता के आयोजक कौन हैं? यह शर्मनाक काम कौन कर रहा है?”

कैसे पहुँची थी मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में?

दुबई की एजेंसी युगेन ग्रुप ने मार्च में पहली मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता के आयोजन का ऐलान किया था। इसके लिए उसने पाकिस्तान की युवतियों से आवेदन माँगे थे। रिपोर्टों के अनुसार, एजेंसी के पास मिस यूनिवर्स बहरीन और मिस यूनिवर्स मिस्र फ्रेंचाइजी का भी स्वामित्व है। इसके लिए रॉबिन ने अप्लाई किया और शीर्ष 10 प्रतियोगियों में जगह बनाई। इसके बाद शीर्ष पाँच में जगह बनाई।

अपनी जीत के बाद कराची के एक ईसाई परिवार में पैदा हुई रॉबिन ने कहा था, “मैं पहली मिस यूनिवर्स पाकिस्तान बनकर सम्मानित और विनम्र महसूस कर रही हूँ और मैं पाकिस्तान की सुंदरता को दिखाना चाहती हूँ। हमारे पास एक खूबसूरत संस्कृति है जिसके बारे में मीडिया बात नहीं कर रहा है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तराखंड में तेज़ी से बढ़ रही मुस्लिमों और ईसाईयों की जनसंख्या: UCC पैनल की रिपोर्ट में खुलासा – पहाड़ों से हो रहा पलायन

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में आबादी घट रही है, तो मैदानी इलाकों में बेहद तेजी से आबादी बढ़ी है। इसमें सबसे बड़ा योगदान दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों ने किया है।

जम्मू कश्मीर के उप-राज्यपाल को अब दिल्ली के LG जितनी शक्तियाँ, ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए भी उनकी अनुमति ज़रूरी: मोदी सरकार के आदेश पर भड़के...

जब से जम्मू कश्मीर का पुनर्गठन हुआ है, तब से वहाँ चुनाव नहीं हो पाए हैं। मगर जब भी सरकार का गठन होगा तब सबसे अधिक शक्तियाँ राज्यपाल के पास होंगी। ये शक्तियाँ ऐसी ही हैं, जैसे दिल्ली के एलजी के पास होती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -