Tuesday, May 17, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'भारत अपनी शर्तों पर दुनिया से रिश्ते निभाएगा, हमें किसी की सलाह की जरूरत...

‘भारत अपनी शर्तों पर दुनिया से रिश्ते निभाएगा, हमें किसी की सलाह की जरूरत नहीं’: विदेश मंत्री जयशंकर ने पश्चिमी देशों को फिर सुनाया

"भारत अपनी शर्तों पर दुनिया से रिश्ते निभाएगा और इसमें भारत को किसी की सलाह की जरूरत नहीं है। वो कौन हैं समझकर दुनिया को खुश रखने की जगह हमें इस आधार पर दुनिया से संबंध बनाने चाहिए कि हम कौन हैं।"

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार (27 अप्रैल, 2022) को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रायसीना डायलॉग को सम्बोधित करते हुए उन्होंने क्षमता निर्माण की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि भारत को इस बारे में व्यावहारिक होना चाहिए कि वह अंतरराष्ट्रीय वातावरण का लाभ कैसे उठाता है और कड़ी सुरक्षा पर अधिक ध्यान देकर अतीत में की गई गलतियों को कैसे सुधारता है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, भारत के 75 साल कार्यक्रम में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कार्यक्रम के दौरान कहा, “जब हम 75 सालों को पीछे मुड़कर देखते हैं तो हम सिर्फ वो बीते हुए 75 साल नहीं देखते बल्कि वो 25 साल भी देखते हैं जो आने वाले हैं। एक समय था जब दुनिया के इस हिस्से में हम एकमात्र लोकतंत्र थे। अगर लोकतंत्र आज वैश्विक है या आज हम इसे वैश्विक देखते हैं, तो इसका श्रेय भारत को जाता है।”

कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने भारत कहाँ पिछड़ गया है इस सवाल के जवाब में कहा, “भारत ने अतीत में अपने सामाजिक संकेतकों और मानव संसाधनों पर उस तरह का ध्यान नहीं दिया। उन्होंने कहा हमने मैन्युफैक्चरिंग और टेक्नोलाजी ट्रेंड पर उतना ध्यान नहीं दिया, जितना हमें देना चाहिए था। विदेश नीति के लिहाज से हमने कड़ी सुरक्षा को उतना महत्व नहीं दिया। अब भारत को अगले 25 वर्षों में क्षमता निर्माण पर ध्यान देना चाहिए। भारत को परिणामों पर पूरी तरह से तय होना चाहिए और इस बारे में पूरी तरह से व्यावहारिक होना चाहिए कि यह अंतरराष्ट्रीय वातावरण का लाभ कैसे उठाता है।”

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इस बात पर कहा, “भारत अपनी शर्तों पर दुनिया से रिश्ते निभाएगा और इसमें भारत को किसी की सलाह की जरूरत नहीं है। वो कौन हैं समझकर दुनिया को खुश रखने की जगह हमें इस आधार पर दुनिया से संबंध बनाने चाहिए कि हम कौन हैं। दुनिया हमारे बारे में बताए और हम दुनिया से अनुमति लें वो वाला दौर खत्म हो चुका है। अगले 25 सालों में भारत वैश्विककरण का केंद्र होगा।”

वहीं बता दें कि रूस के साथ व्यापार को लेकर विदेश मंत्री ने कहा, “आदेश जैसे ऑर्डर को अब एशिया में चुनौती मिलने लगी है। रूस के साथ व्यापार को लेकर हमें यूरोप से सलाह मिली कि हम रूस के साथ और व्यापार ना करें। कम से कम हम किसी को सलाह देने नहीं जाते।” आदेश जैसे ऑर्डर करने वाले यूरोप पर जमकर बरसते हुए विदेश मंत्री ने बिना चीन का नाम लिए कहा, “यूरोप उस वक्त असंवेदनशील क्यों था जब बीजिंग एशिया को धमका रहा था?”

उन्होंने कहा कि यूरोप के लिए ये जागने का समय है कि वो एशिया की तरफ भी देखे। एशिया दुनिया का हिस्सा है जहाँ अस्थिर सीमाएँ और आंतकवाद जैसी समस्याएँ हैं। दुनिया को समझना होगा कि समस्याएँ आने वाली नहीं हैं बल्कि आ चुकी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कानपुर वाला गुटखा खाकर करेंगे विज्ञापन, कमाएँगे पैसे… मीडिया को बोलेंगे कि बॉलीवुड अफोर्ड नहीं कर सकता: महेश बाबू को इसलिए पड़ रही गाली

महेश बाबू पिछले साल पान मसाला के विज्ञापन का हिस्सा बने थे। नेटिजन्स ने अब उन पर हमला बोलते हुए उसी ऐड को फिर से वायरल करना शुरू कर दिया है।

ज्ञानवापी की वो जगह, जहाँ नहीं हो सका सर्वे: 72*30*15 फीट है मलबा और 15 फीट की दीवार का घेरा, हिंदू पक्ष ने कहा-...

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे से शिवलिंग मिलने के बाद हिंदू पक्ष में जहाँ खुशी की लहर है। वहीं मुस्लिम पक्ष का कहना है कि सांप्रदायिक उन्माद रचने की साजिश कहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,313FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe