Monday, June 17, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय2 मिनट का गूगल मीट, 200 लोगों की नौकरी से छुट्टी: जो FrontDesk दूसरों...

2 मिनट का गूगल मीट, 200 लोगों की नौकरी से छुट्टी: जो FrontDesk दूसरों को देती थी बसेरा, उसने अपने सभी कर्मचारियों की छीनी रोजी-रोटी

एक अमेरिकी कंपनी ने दो मिनट के गूगल मीट कॉल पर पूरे स्टाफ की छंटनी कर दी। इस दौरान 200 से अधिक कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। इस कंपनी ने दिवालियापन से बचने के लिए आवेदन किया है।

एक अमेरिकी कंपनी ने दो मिनट के गूगल मीट कॉल में पूरे स्टाफ की छंटनी कर दी है। फ्रंटडेस्क नाम की इस कंपनी ने 200 से अधिक कर्मचारियों को एक झटके में बाहर का रास्ता दिखा दिया। फ्रंटडेस्क के सीईओ ने कंपनी के कामकाज के लिए अमेरिकी सरकार से मदद माँगी है, ताकी कंपनी को दिवालिया होने से बचाया जा सके।

फ्रंटडेस्क के सीईओ जेसी डीपिंटो ने गूगल मीट कॉल के दौरान अपने कर्मचारियों को बताया कि कंपनी स्टेट रिसीवरशिप के लिए आवेदन कर रही है। दरअसल अमेरिका में यह प्रक्रिया दिवालियापन की वैकल्पिक व्यवस्था है। फ्रंटडेस्क एक स्टार्टअप है, जो अपार्टमेंट को किराए पर देने का काम करती है। कंपनी 30 से ज्यादा मार्केट में ऑपरेट करती है।

टेक क्रंच की रिपोर्ट के मुताबिक, फ्रंटडेस्क कंपनी ने जिन कर्मचारियों को निकाला है, उनमें फुलटाइम, पार्टटाइम और कॉन्ट्रैक्टर्स शामिल हैं। कंपनी की शुरुआत साल 2017 में हुई थी और यह कंपनी अमेरिका में 1200 से ज्यादा फर्निश्ड अपार्टमेंट मैनेज करती है। बीते कुछ समय से कंपनी बढ़ती लागत और डिमांड में भारी उतार-चढ़ाव के चलते चुनौतियों का सामना कर रही है।

फ्रंटडेस्क कंपनी ने निवेशकों से करीब 26 मिलियन डॉलर (लगभग 216 करोड़ रुपए) का निवेश हासिल किया था। इस कंपनी के निवेशकों में कई बड़े निवेशक भी शामिल हैं। यह कंपनी निवेशकों से और पैसे जुटाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन उसमें सफल नहीं हो पाई। ऐसे में कंपनी ने अपने स्टाफ की छंटनी का फैसला किया।

बता दें कि दो साल पहले भारतीय मूल के एक सीईओ ने जूम कॉल पर 900 कर्मचारियों का कॉन्फ्रेंस किया था। Better नाम की इस कंपनी के सीईओ विशाल गर्ग ने कॉन्फ्रेंस कॉल में शामिल सभी 900 कर्मचारियों को निकाल दिया था। उस समय वो कंपनी काफी चर्चा में रही थी। अब ऐसा ही कदम फ्रंटडेस्क कंपनी के सीईओ ने उठाया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -