Friday, March 5, 2021
Home देश-समाज भारत के कट्टरपंथी पाकिस्तानियों के साथ मिल कर अरब देशों में कार्यरत हिंदुओं को...

भारत के कट्टरपंथी पाकिस्तानियों के साथ मिल कर अरब देशों में कार्यरत हिंदुओं को बना रहे निशाना

कुछ भारतीयों द्वारा शुरू किए गए लगातार भारत विरोधी अभियान के बाद, पश्चिम में इस्लामी कट्टरपंथी खाड़ी देशों (gulf countries) में भारतीयों के खिलाफ जहर उगलने का मौका पा गए हैं।

अरब (Arab) देशों में भारतीय हिन्दू लोगों के खिलाफ अब पाकिस्तानियों ने नया मोर्चा खोल लिया है, जो संभवतः आईएसआई (ISI) द्वारा समर्थित है। सोशल मीडिया पर अपने आपको अरब (Arab) का दिखा कर, भारतीय प्रधानमंत्री मोदी से इस्लामोफोबिया फैलाने की ‘शिकायत’ कर रहे हैं। ऑर्गेनाइज़र के एक लेख में कहा गया है कि नागरिकता संशोधन अधिनियम पारित करने के जवाब में कुछ भारतीयों द्वारा शुरू किए गए लगातार भारत विरोधी अभियान के बाद, पश्चिम में इस्लामी कट्टरपंथी खाड़ी देशों (gulf countries) में भारतीय हिन्दू लोगों के खिलाफ जहर उगलने का मौका पा गए हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, केरल स्थित इस्लामी चरमपंथियों ने नफ़रत फैलाने वाले अभियान का नेतृत्व किया, जिसमें अरब देशों की पुलिस आदि से खाड़ी में काम करने वाले भारतीय हिन्दू लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह किया गया क्योंकि वे भारत में समुदाय विशेष वालों को मारते हैं। इसी काम को अंजाम देने के लिए, सोशल मीडिया पर कई फर्जी अकाउंट भारत के खिलाफ झूठ फैलाने के उद्देश्य से बनाए गए हैं।

यह एक सच्चाई है कि नई दिल्ली में निजामुद्दीन मरकज़ के तब्लीगी जमात ने भारत में कुल कोरोनावायरस रोगियों का 30% योगदान दिया है। आम जनता का गुस्सा इसलिए भी है कि इनमें से कई ने अपने यात्रा इतिहास को छिपाया है और स्वास्थ्यकर्मियों के साथ दुर्व्यवहार भी किया है। इसमें नर्सों से छेड़छाड़ और डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों पर पथराव भी शामिल है।

रिपोर्ट के अनुसार, केरल मे स्थित विभिन्न इस्लामी संगठनों ने अरबों को प्रभावित करने के लिए प्रमुख व्यापारियों और धार्मिक नेताओं का उपयोग किया और उन्हें भारत के खिलाफ नकली बयान के साथ बरगलाया। अरब देशों के बाहर गल्फन्यूज़, अल जज़ीरा, खलीज टाइम्स जैसे मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल भारत में वहाँ के हिन्दू लोगों द्वारा समुदाय विशेष के साथ किए गए बर्ताव की गलत जानकारी को फैलाने के लिए किया गया था।

पाकिस्तान ने भारतीय समुदाय विशेष से हाथ मिलाया

पाकिस्तान की 2016 की नीति ‘भारत और पाकिस्तान के बीच विकसित नवीनतम परिस्थितियों के मद्देनजर नीतिगत दिशा-निर्देश’ शीर्षक से ‘भारतीय प्रसार प्रचार’ के सदस्यों के रूप में चुनिंदा पत्रकारों के साथ ‘मीडिया समन्वय समिति’ रखने और विशेष रूप से एक मीडिया रणनीति को बढ़ावा देने की सिफारिश की थी। नीति ने अंतरराष्ट्रीय लॉबिस्टों और रणनीतिक संचार संगठनों को वैश्विक नैरेटिव बदलने की आवश्यकता पर भी जोर दिया। नीति दस्तावेज में भारतीय समाज में ‘दोष-रेखाओं’ को उजागर करने का आह्वान किया गया है। वे विशेष रूप से मजहब विशेष, सिखों, ईसाइयों और दलितों को अलग-थलग वर्गों के रूप में उल्लेख करना चाहते थे। नीति ने मोदी और आरएसएस (RSS) की विचारधारा को लक्षित करने के लिए भी कहा, और भारत में उन लोगों तक पहुँचने का सुझाव दिया जो “मोदी के अतिवाद के विरोध में” हैं। नीति ने विशेष रूप से राजनीतिक दलों, मीडिया और नागरिक समाज में लोगों तक पहुँचने के बारे में बात की।

इसलिए, पाकिस्तान का इस प्रचार पर समर्थन मिलना कि “भारत मजहब विशेष के खिलाफ है,” उतने आश्चर्य की बात नहीं है।

अलर्ट नेटिज़ेंस ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में, विभिन्न ट्विटर उपयोगकर्ताओं ने अपने ट्विटर हैंडल को बदल कर भारत में समुदाय विशेष के खिलाफ ‘घृणा’ की निंदा करने के लिए ट्वीट किया।

जैसा कि ऊपर देखा जा सकता है कि किस तरह “H. H. Mona bint Fahad al” के ट्विटर हैंडल से किस प्रकार भारत को धमकियाँ दी जा रही है।

पिछले कुछ दिनों में इस तरह के कई ट्विटर हैंडल लगातार ट्रेंड कर रहे हैं।

ट्विटर पर अरब होने का दिखावा करने वाले Kahlown Yasin संभवतः पाकिस्तान से है। जैसा कि ट्विटर यूजर @PokerShash ने पता लगाया कि यासीन कोई शेख नहीं, बल्कि खाड़ी में काम करने वाला पाकिस्तानी है।

कई लोगों ने तो अपने प्रोफाइल हैंडल और चित्रों को भी महिला के नाम और चेहरे से बदल दिया और यह दिखाने का प्रयास किया कि महिलाएँ भी भारत में हो रहे ‘समुदाय विशेष के खिलाफ अत्याचारों’ की निंदा कर रही है।

अरब मामला: भारतीय हिन्दू कर्मचारियों पर निशाना

ऑर्गेनाइज़र की रिपोर्ट में कहा गया है कि कुछ प्रवासी भारतीयों ने कहा था कि पश्चिम एशिया और अरब देशों में भारतीयों, विशेष रूप से हिंदू लोगों के खिलाफ़, सीएए के विरोध प्रदर्शनों को लेकर जल्द ही हमला होने वाला है। केरल के एक प्रवासी कार्यकर्ता का हवाला देते हुए, ऑर्गनाइज़र का कहना है कि पीएफ़आई और जमात-ए-इस्लामी जैसे इस्लामिक संगठनों के कैडर नियमित रूप से यूएई, सऊदी, कुवैत, कतर आदि में भारतीयों को निशाना बनाते हैं। दिसंबर 2019 में, इस्लामी कट्टरपंथियों के एक झुंड ने कतर अस्पताल से एक भारतीय डॉक्टर को यह कह कर निष्कासित करवा दिया था कि सीएए के प्रति डॉक्टर का समर्थन समुदाय विरोधी और सांप्रदायिक था।

तब्लीगी जमात के सदस्यों की लापरवाही और दुर्व्यवहार के खिलाफ गुस्सा व्यक्त करने के कारण अब कई लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

कुछ इस्लामी कट्टरपंथियों ने तो भारतीयों पर किए गए हमले को भी सराहा है:

कई भारतीयों, विशेष रूप से पत्रकारों को, ऐसा लगता है कि उनके अनुसार की गई अनर्गल बाते लोगो के हित के लिए होती है। मगर वो ये भूल जाते हैं कि उनकी वजह से लोगो में एक दूसरे के प्रति डर का माहौल पैदा कर दिया गया है।

तब्लीगी, इस्लाम में एक विचारधारा है। जो इस्लाम के अंदर आता है। उनके गलत बर्ताव पर उनका बचाव करना या उनके अनुसार कार्य करना पूरे समुदाय को बदनाम करता है। इसमें अधिकांश लोग वो भी आ जाते है जिनका इससे कोई लेना देना ही नहीं होता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘हिंदू भगाओ, रोहिंग्या-बांग्लादेशी बसाओ पैटर्न का हिस्सा है मालवणी’: 5 साल पहले थे 108 हिंदू परिवार, आज बचे हैं 7

मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा ने महाराष्ट्र विधानसभा में मालवणी में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार का मसला उठाया है।

तापसी की चिंता में डूबे बॉयफ्रेंड भी आए IT जाँच के दायरे में, असली वजह फेर सकती है ‘गैंग’ के सपनों पर पानी

तापसी पन्नू के बॉयफ्रेंड बो के अनुराग कश्यप सहित कई बॉलीवुड हस्तियों के खिलाफ चल रही आयकर विभाग की कार्रवाई से बहुत गहरा संबंध है। एक और मामले से बो का जुड़ाव पता चला है जो उसके परेशानी का वास्तविक कारण है।

केरल गोल्ड तस्करी में CM विजयन और 3 कैबिनेट मंत्री डायरेक्ट शामिल: मुख्य आरोपित स्वप्ना सुरेश ने किया खुलासा

केरल के सोना और डॉलर तस्करी मामले में मुख्य आरोपित स्वप्ना सुरेश ने बेहद चौंकाने वाला खुलासा किया। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन खुद ही...

तापसी के बॉयफ्रेंड को PM मोदी के मंत्री ने समझाया देश का कानून, टैक्स मामले में ट्वीट कर बता रहा था परेशानी

“भूमि का कानून सर्वोच्च है और हमें उसका पालन करना चाहिए। यह विषय आपके और मेरे डोमेन से परे है। हमें भारतीय खेलों के सर्वोत्तम हित में अपने पेशेवर कर्तव्यों पर कायम रहना चाहिए।"

33 आरोपित-200 चश्मदीद, रिया चकवर्ती का भी नाम: सुशांत सिंह से जुड़े ड्रग्स मामले में चार्जशीट फाइल

अभिनेता सुशांत सिंह राजूपत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने चार्जशीट दाखिल कर दी है।

प्रचलित ख़बरें

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

16 महीने तक मौलवी ‘रोशन’ ने चेलों के साथ किया गैंगरेप: बेटे की कुर्बानी और 3 करोड़ के सोने से महिला का टूटा भ्रम

मौलवी पर आरोप है कि 16 माह तक इसने और इसके चेले ने एक महिला के साथ दुष्कर्म किया। उससे 45 लाख रुपए लूटे और उसके 10 साल के बेटे को...

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।

‘जाकर मर, मौत की वीडियो भेज दियो’ – 70 मिनट की रिकॉर्डिंग, आत्महत्या से ठीक पहले आरिफ ने आयशा को ऐसे किया था मजबूर

अहमदाबाद पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्ड्स को एक्सेस किया। नदी में कूदने से पहले आरिफ से...

BBC के शो में PM नरेंद्र मोदी को माँ की गंदी गाली, अश्लील भाषा का प्रयोग: किसान आंदोलन पर हो रहा था ‘Big Debate’

दिल्ली में चल रहे 'किसान आंदोलन' को लेकर 'BBC एशियन नेटवर्क' के शो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी (माँ की गाली) की गई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,951FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe