Wednesday, July 24, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभारतीय शराब में झूमेगा रूस: ऑफिसर्स चॉइस बनाने वाली कंपनी का दारू बिकेगा वहाँ,...

भारतीय शराब में झूमेगा रूस: ऑफिसर्स चॉइस बनाने वाली कंपनी का दारू बिकेगा वहाँ, बैन के कारण अंग्रेजी व्हिस्की मार्केट से गायब

ऑफिसर्स च्वाइस ब्लू व्हिस्की की बोतल की कीमत 1,000 से 1,200 रूबल (1000-1320 रुपए) के बीच होगी। वहीं, स्टर्लिंग रिजर्व प्रीमियम ब्लेंड की कीमत प्रति बोतल 1,100 से 1,500 रूबल (1100-1650 रुपए) के बीच होगी।

रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध के चलते कई पश्चिमी देशों ने रूस में शराब की बिक्री रोक दी। इससे वहाँ की 70 हजार से अधिक दुकानों और करीब 20 हजार बार की बिक्री प्रभावित हुई। अब हालाँकि रूस के लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब, भारतीय कंपनी एलाइड ब्लेंडर्स एंड डिस्टिलर्स रूस में अपनी शराब बेचेगी।

दरअसल, भारतीय कंपनी एलाइड ब्लेंडर्स एंड डिस्टिलर्स (ABD) ने मंगलवार (28 फरवरी 2023) को ऐलान किया है कि रूस की वोदका बनाने वाली कंपनी अल्कोहल साइबेरियन ग्रुप (एएसजी) एबीडी के दो ब्रांड बेचेगी। रिपोर्ट्स में रूसी अखबार कोमर्सेंट के हवाले से कहा जा रहा है कि पश्चिमी देशों के ब्रांड द्वारा सप्लाई बंद करने के बाद खाली हुए बाजार को भारतीय कंपनी टारगेट करने जा रही है। बड़ी बात यह है कि एबीडी ने अब से पहले कभी भी रूस में शराब नहीं बेची है हालाँकि यह 20 से अधिक देशों को शराब निर्यात करती है।

भारतीय कंपनी एलाइड ब्लेंडर्स एंड डिस्टिलर्स ने फरवरी में अपनी शराब रूस में भेजना शुरू किया था। एबीडी और रूसी कंपनी अल्कोहल साइबेरियन ग्रुप के बीच शराब बिक्री को लेकर 2 साल के लिए कॉन्ट्रैक्ट हुआ है। इस कॉन्ट्रैक्ट के तहत रूसी कंपनी अक्टूबर 2025 तक भारतीय कंपनी की शराब बेचेगी। हालाँकि शराब कितनी बेची जानी है, इसको लेकर दोनों कंपनियों ने डील को सार्वजनिक नहीं किया है।

भारतीय कंपनी एलाइड ब्लेंडर्स एंड डिस्टिलर्स दुनिया की तीसरी सबसे लोकप्रिय व्हिस्की, ‘ऑफिसर्स चॉइस’ का उत्पादन करती है। कहा जा रहा है कि रूस में स्कॉच माल्ट और इंडियन ग्रेन स्पिरिट से बनी ऑफिसर्स च्वाइस ब्लू व्हिस्की की 0.75 लीटर की बोतल की कीमत 1,000 से 1,200 रूबल (1000-1320 रुपए) के बीच होगी। वहीं, स्टर्लिंग रिजर्व प्रीमियम ब्लेंड की कीमत प्रति बोतल 1,100 से 1,500 रूबल (1100-1650 रुपए) के बीच होगी।

बता दें कि इंग्लैंड समेत अन्य पश्चिमी देशों द्वारा शराब की सप्लाई बंद करने के बाद बोतलबंद व्हिस्की का साल 2022 में आयात आधा रह गया था। जॉनी वॉकर, जैक डेनियल, बुशमिल्स, जिम बीम और व्हाइट हॉर्स सहित कुछ ब्रांडों को सप्लाई की अनुमति थी। इससे कुछ हद तक मार्केट में शराब उतरी थी। NielsenIQ के आँकड़ों के अनुसार, साल 2022 के पहले नौ महीनों में 36 नए स्थानीय व्हिस्की ब्रांड रूस के बाजार में दिखाई दिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मेरे बेटे को मार डाला’: आधुनिक पश्चिमी सभ्यता ने दुनिया के सबसे अमीर शख्स को भी दे दिया ऐसा दर्द, कहा – Woke वाले...

लिंग-परिवर्तन कराने वाले को उसके पुराने नाम से पुकारना 'Deadnaming' कहलाता है। उन्होंने कहा कि इसका अर्थ है कि उनका बेटा मर चुका है।

‘बंद ही रहेगा शंभू बॉर्डर, JCB लेकर नहीं कर सकते प्रदर्शन’: सुप्रीम कोर्ट ने ‘आंदोलनजीवी’ किसानों को दिया झटका, 15 अगस्त को दिल्ली कूच...

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा के बीच शंभू बॉर्डर को अभी बंद ही रखने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा किसान JCB लेकर प्रदर्शन नहीं कर सकते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -