Thursday, May 30, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयराष्ट्रपति कोविंद ने किया रमना काली बारी मंदिर का उद्घाटन: पाकिस्तानी फौज ने कर...

राष्ट्रपति कोविंद ने किया रमना काली बारी मंदिर का उद्घाटन: पाकिस्तानी फौज ने कर दिया था ध्वस्त, 250 हिंदुओं का हुआ था नरसंहार

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने 3 दिवसीय बांग्लादेश दौरे के दौरान आज ढाका में पुननिर्मित रमना काली बारी मंदिर का लोकार्पण किया।

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने 3 दिवसीय बांग्लादेश दौरे के दौरान आज (17 दिसंबर 2021) ढाका में पुननिर्मित रमना काली बारी मंदिर का लोकार्पण किया। इस मंदिर को साल 1971 में पाकिस्तानी सेना ने ध्वस्त कर दिया था और पिछले कुछ सालों में ही इसका जीर्णोद्धार किया गया है। 

काली बारी मंदिर के लोकार्पण पर विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने इस उद्घाटन को दोनों देशों के लिए भावनात्मक क्षण करार दिया। उन्होंने बताया था कि 17 दिसंबर को राष्ट्रपति कोविंद पुनर्निर्मित रमना काली मंदिर का उद्घाटन करेंगे, जिसे 1971 में ‘ऑपरेशन सर्चलाइट’ के दौरान पाकिस्तानी सेना द्वारा पूरी तरह से नष्ट किया गया था। उनके अनुसार, यह पुनर्निर्मित रमना काली मंदिर केवल प्रतीकात्मक ही नहीं, बल्कि यह दोनों देशों के लिए एक बहुत ही भावनात्मक क्षण है। 

मालूम हो कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तीन दिवसीय राजकीय यात्रा पर बुधवार (15 दिसंबर) को बांग्लादेश के लिए रवाना हुए थे। वे वहाँ 50वें विजय दिवस समारोह में शामिल होने गए थे। इस राजकीय यात्रा के लिए उन्हें उनके समकक्ष अब्दुल हामिद ने निमंत्रण दिया था। 

बता दें कि ढाका में स्थित काली बारी मंदिर वही जगह है जिसे पाकिस्तानी सेना ने 1971 में तोड़ डाला था। उस दौरान पाकिस्तानी सेना ने मंदिर में सैंकड़ों हिंदुओं की हत्या की थी। ये हत्याएँ ऑपरेशन सर्चलाइट के तहत की गई थीं। इस ऑपरेशन में हिंदुओं के साथ लाखों स्थानीय तब के पूर्वी पाकिस्तान में मारे गए थे।

रिपोर्ट्स के अनुसार, 600 साल पुराने इस मंदिर पर 27 मार्च 1971 को ताबड़तोड़ गोलियाँ दागी गई थीं। मंदिर के पुजारी श्रीमठ स्वामी परमानंद गिरी ने मूर्तियों को हाथ में पकड़ा था, मगर पाकिस्तानी सेना ने उन्हें भी जिंदा नहीं छोड़ा। अनुमान है कि कुछ 250 हिंदू पुरूष, महिलाएँ और बच्चे उस दिन हमले में मारे गए थे। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

3 साल में 4 गुना हुआ बैंक फ्रॉड, लेकिन नुकसान की रकम एक तिहाई हुई: RBI रिपोर्ट से खुलासा, प्राइवेट बैंक के कस्टमर झाँसे...

वित्त वर्ष 2023-24 में लोगों से बैंक धोखाधड़ी के 36,075 मामले हुए। इस धोखाधड़ी के कारण लोगों का ₹13,930 करोड़ का नुकसान हुआ है।

डियर लड़की! यह जोश यह जवानी ‘भाड़े की गर्लफ्रेंड’ बनने के लिए नहीं है, क्योंकि रील के आगे जहाँ और भी हैं

छोटी-छोटी लड़कियों को आज इंस्टाग्राम पर ऐसी वीडियोज बनाते देखा जा सकता है जिसमें टैलेंट कम और अश्लीलता ज्यादा नजर आती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -