Wednesday, July 24, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयछोटे और नहीं दिखने वाले गुप्तांग से लेकर लड़कियों तक का खतना… 5 देशों...

छोटे और नहीं दिखने वाले गुप्तांग से लेकर लड़कियों तक का खतना… 5 देशों के मुस्लिम एक मंच पर करेंगे 12 घंटों तक चर्चा

खतना की शिकार मुस्लिम महिलाओं को जीवन भर भयानक और दर्दनाक यातना से गुजरना पड़ता है। भारत के सुप्रीम कोर्ट ने इसको लेकर कहा था, ''यौन अंगों को काटना महिलाओं की गरिमा और सम्मान के खिलाफ है।'' बता दें कि भारत सहित कई देशों में महिला खतना प्रतिबंधित है।

मलेशियन इंटरनेशनल सर्कुमसीजन कॉन्फ्रेंस का आयोजन 25 और 26 फरवरी 2023 को आयोजित किया जाएगा। इसमें बच्चों एवं बच्चियों के खतना को लेकर चर्चा की जाएगी। इस कॉन्फ्रेंस में पाँच देशों के लोग हिस्सा लेंगे। इसमें छोटे और नहीं दिखने वाले शिश्न के हिस्से की चर्चा प्रमुखता से की जाएगी।

मलेशिया के पुत्राजय शहर के एक होटल में आयोजित इस कॉन्फ्रेंस में पाँच देश हिस्सा लेंगे। कॉन्फ्रेंस की बेवसाइट के अनुसार, सर्कुमसीजन यानी मुस्लिमों में प्रचलित खतना से संबंधित इस कॉन्फ्रेंस में म्यांमार, मलेशिया, जापान, कनाडा, इंडोनेशिया के लोगों के शामिल होने का दावा किया जा रहा है।

बेवसाइट के अनुसार, यह कॉनफ्रेंस खतना को लेकर हुई खोज के बारे में चर्चा करना मुख्य मुद्दा है। इस पर महिला खतना पर चर्चा की जाएगी। इस पर चर्चा के लिए डॉक्टर हफातीन फैरोस बिंती तमादुन मलेशिया में महिला खतना को लेकर चर्चा करेंगी।

बता दें कि पुरूषों की अपेक्षा महिला खतना बेहद क्रूर माना जाता है। इसमें योनि के अगले हिस्से के चमड़े को काटकर निकाल दिया जाता है, ताकि मुस्लिम महिलाओं को यौन आनंद की अनुभूति ना हो। भारत में बोहरा समुदाय सहित इस्लामी देशों में यह प्रथा आज भी जारी है, जिसको लेकर दुनिया भर में इसकी आलोचना होती रहती है।

खतना की शिकार मुस्लिम महिलाओं को जीवन भर भयानक और दर्दनाक यातना से गुजरना पड़ता है। भारत के सुप्रीम कोर्ट ने इसको लेकर कहा था, ”यौन अंगों को काटना महिलाओं की गरिमा और सम्मान के खिलाफ है।” बता दें कि भारत सहित कई देशों में महिला खतना प्रतिबंधित है।

महत्वपूर्ण बात यह है कि इसमें खतना के महत्व पर चर्चा की जाएगी। छोटे और नहीं दिखने वाले पुरुष गुप्तांगों को खतना के जरिए उभारने पर चर्चा की जाएगी। Buried Penis एक प्रकार का डिस्फंक्शन है, जिसके कारण यौन आकांक्षा में कमी या असमर्थता हो जाती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हलाल है या झटका… मीट की दुकान के बाहर लिखो: जयपुर नगर निगम ने जारी किया आदेश, शिव मंदिर के पास और काँवड़ियों के...

जयपुर नगर निगम ने कावंडियों के रास्ते में और शिव मंदिर के निकट खुले में मीट बिक्री पर रोक लगाने की बात कही है।

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -