Wednesday, May 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकाबुल में गुरुद्वारा के पास भीषण बम ब्लास्ट, सिरसा ने कहा- 'अफगानिस्तान में बचे...

काबुल में गुरुद्वारा के पास भीषण बम ब्लास्ट, सिरसा ने कहा- ‘अफगानिस्तान में बचे 235 हिन्दू-सिखों को जल्द निकाले सरकार’

इसके पहले 12 नवंबर 2021 को नंगरहार प्रांत के स्पिनघर जिला स्थित एक मस्जिद में जुमे की नमाज के दौरान ब्लास्ट हुआ था। इस ब्लास्ट में कम-से-कम तीन लोगों की मौत और कई लोगों के घायल होने की खबर आई थी। रिपोर्ट के मुताबिक, इस घटना में नमाज पढ़ा रहे मस्जिद के मौलवी सहित तकरीबन एक दर्जन लोग बुरी तरह से घायल हुए थे।

तालिबान प्रशासित इस्लामिक अमीरात अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के एक गुरुद्वारे के पास भीषण बम विस्फोट हुआ है। इस विस्फोट में बड़ी संख्या में लोगों के हताहत होने की बात कही जा रही है। हालाँकि, अभी तक ये पता नहीं चला है कि इस घटना में कितने लोग हताहत हुए हैं और ना ही किसी ने अभी तक पुष्टि की है। खबर लिखे जाने तक इस विस्फोट की जिम्मेदारी किसी संगठन ने भी नहीं ली है। अफगानिस्तान की न्यूज एजेंसी टोलो न्यूज ने काबुल के सुरक्षा विभाग के प्रवक्ता जनरल मोबिन के हवाले से इस धमाके की पुष्टि की है।

इस ब्लास्ट को लेकर दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने ट्विटर पर एक वीडियो मैसेज में कहा, “अफगानिस्तान के काबुल के अंदर कार्त-ए-परवान गुरुद्वारा है, उसके चौक में एक बहुत बड़ा बम ब्लास्ट हुआ है। इसके बारे में वहाँ की संगत ने मुझे जानकारी दी। बड़ा ब्लास्ट था, जिसके कारण शीशे तक टूट गए। वहाँ काफी बड़ी संख्या में लोगों के जख्मी होने और हताहत होने की जानकारी मिल रही है।” इस वीडियो में दिख रहा है कि एंबुलेंस घटनास्थल की ओर रवाना हो रही हैं।

हिंदू-सिख समुदाय के सुरक्षित होने की जानकारी देते हुए सिरसा ने वीडियो में आगे बताया, “गुरुद्वारे के अंदर बहुत दहशत का माहौल है। गुरुद्वारे के सभी दरवाजे बंद कर दिए गए हैं और किसी को अंदर आने नहीं दिया जा रहा है। अफगानिस्तान में अभी भी 235 हिंदू-सिख हैं, जिनके वीजा अभी अप्रूव नहीं हुए हैं। मैं भारत सरकार से आग्रह करता हूँ कि जैसे 835 लोगों को पहले निकाला गया, वैसे ही इन लोगों के वीजा ग्रांट किए जाएँ, ताकि ये भी वहाँ से सुरक्षित बाहर निकल पाएँ। अभी तक हमारे लोग बिल्कुल सुरक्षित हैं। हालाँकि वहाँ पर काफी बड़ा नुकसान हुआ है।”

इसके पहले 12 नवंबर 2021 को नंगरहार प्रांत के स्पिनघर जिला स्थित एक मस्जिद में जुमे की नमाज के दौरान ब्लास्ट हुआ था। इस ब्लास्ट में कम-से-कम तीन लोगों की मौत और कई लोगों के घायल होने की खबर आई थी। रिपोर्ट के मुताबिक, इस घटना में नमाज पढ़ा रहे मस्जिद के मौलवी सहित तकरीबन एक दर्जन लोग बुरी तरह से घायल हुए थे। तालिबान के एक अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफपी से बातचीत में बम ब्लास्ट की पुष्टि की थी। अधिकारी ने कहा था, “मैं स्पिन घर जिले में एक मस्जिद के अंदर जुमे की नमाज के दौरान विस्फोट की पुष्टि करता हूँ। इसमें मौत भी हुई है और लोग घायल भी हुए हैं।” नंगरहार प्रांत के सरकारी प्रवक्ता कारी हनीफ ने एपी समाचार एजेंसी को बताया था कि ऐसा लगता है कि बम मस्जिद में रखा गया था।

अक्टूबर 2021 के मध्य में काबुल में स्थित एक गुरुद्वारे में तालिबानी बंदूकधारियों ने घुसकर सिखों को धमकाया था। इंडिया वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चंडोक ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि खुद को इस्लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्तान (तालिबानी) की स्पेशल यूनिट का हिस्सा बताने वाले कई हथियारबंद लोग गुरुद्वारा दशमेश पिता में जबरन घुस गए और समुदाय के लोगों को धमकाते हुए गुरुद्वारे की पवित्रता को भंग भी किया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -