Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकाबुल के गुरुद्वारे में जबरन घुसे तालिबानी: धमकी-तलाशी से डरे सिखों ने माँगी भारत...

काबुल के गुरुद्वारे में जबरन घुसे तालिबानी: धमकी-तलाशी से डरे सिखों ने माँगी भारत से मदद, कंधार के शिया मस्जिद में भी हुआ बम धमाका

इंडिया वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चंडोक ने भारत सरकार से अपील की है कि अफगानिस्तान में रह रहे हिंदू और सिख समुदायों को लेकर चिंता जाहिर करें और सर्वोच्च स्तर पर अफगानिस्तान के समकक्षों के साथ उठाया जाए।

अफगानिस्तान के काबुल में स्थित एक गुरुद्वारे में तालिबानी बंदूकधारियों ने घुसकर सिखों को धमकाया। इंडिया वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चंडोक ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि खुद को इस्लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्तान (तालिबानी) की स्पेशल यूनिट का हिस्सा बताने वाले कई हथियारबंद लोग गुरुद्वारा दशमेश पिता में जबरन घुस गए और समुदाय के लोगों को धमकाते हुए गुरुद्वारे की पवित्रता को भंग भी किया।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार चंडोक ने बताया कि ये लोग समुदाय के स्कूल में भी घुसे, जहाँ प्राइवेट सेक्योरिटी गार्ड्स ने उन्हें शुरुआत में रोकने का प्रयास किया लेकिन उन्हें बंदूकधारियों द्वारा धमकी दी गई और उनसे बदसलूकी हुई। इसके बाद ये लोग गुरुद्वारे के पास में ही स्थित पूर्व सांसद नरिंदर सिंह खालसा के दफ्तर और घर में भी घुसे।

इंडिया वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष के अनुसार इस गुरुद्वारे में सिख समुदाय के करीब 20 सदस्य मौजूद हैं। चंडोक ने भारत सरकार से अपील की है कि अफगानिस्तान में रह रहे हिंदू और सिख समुदायों को लेकर चिंता जाहिर करें और सर्वोच्च स्तर पर अफगानिस्तान के समकक्षों के साथ उठाया जाए।

मस्जिद में धमाका

बता दें कि काबुल के गुरुद्वारे में जहाँ पवित्रता को भंग करते हुए बंदूकधारियों ने समुदाय के लोगों को धमकाने का काम किया। वहीं दक्षिण अफगानिस्तान के शहर कंधार में एक शिया मस्जिद में बम विस्फोट की घटना हुई। इसमें 16 लोगों के मारे जाने की खबर है। संख्या बढ़ भी सकती है। विस्फोट शहर की इमाम बारगाह मस्जिद में जुमे की नमाज के समय हुआ है।

मालूम हो कि इस विस्फोट से एक हफ्ते पहले अफगानिस्तान के उत्तरी शहर कुंदुज़ में भी जुमे की नमाज के समय एक ब्लास्ट हुआ था। उस समय आईएस ने उत्तरी प्रांत कुंदुज़ में हुए आत्मघाती बम विस्फोट की जिम्मेदारी ली थी और 46 लोगों की मौत हुई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -