Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभारत दौरे से पहले अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा, 'मोदी है तो मुमकिन है'

भारत दौरे से पहले अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा, ‘मोदी है तो मुमकिन है’

माइक पॉम्पियो ने अपने संबोधन में भारत आने को लेकर और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री जयशंकर से मिलने को लेकर उत्सुकता दिखाई। उन्होंने कहा, "मैं इस महीने के अंत में नई दिल्ली की यात्रा, पीएम मोदी और उनके नए विदेश मंत्री एस जयशंकर से मिलने के लिए बहुत उत्सुक हूँ।"

इंडिया आइडियाज समित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने भारत में हुए 2019 लोकसभा चुनाव में मोदी सरकार द्वारा इस्तेमाल किए गए नारे ‘मोदी है तो मुमकिन है’ को दोहराया। माइक पॉम्पियो ने इस नारे का इस्तेमाल भारत और अमेरिका के संबंधों को नई ऊँचाई तक पहुँचाने के संदर्भ में किया।

अमेरिका में इंडिया आइडियाज समिट में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा, “…प्रधानमंत्री मोदी ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान जो नारा दिया, ‘मोदी है तो मुमकिन है’, ‘मोदी मेक्स इट पॉसिबल’, मैं भी भारत और अमेरिका के बीच संबंध को आगे बढ़ते देख रहा हूँ।”

माइक पॉम्पियो ने अपने संबोधन में भारत आने को लेकर और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री जयशंकर से मिलने को लेकर उत्सुकता दिखाई। उन्होंने कहा, “मैं इस महीने के अंत में नई दिल्ली की यात्रा, पीएम मोदी और उनके नए विदेश मंत्री एस जयशंकर से मिलने के लिए बहुत उत्सुक हूँ।”

गौरतलब है पॉम्पियो 24 से 30 जून तक भारत, श्रीलंका, जापान और साउथ कोरिया का दौरा करेंगे। चार देशों की इस यात्रा का खाका राष्ट्रपति डॉनाल्ड ट्रम्प के हिंद-प्रशांत क्षेत्र की रणनीतिक साझेदारी बढ़ाने के मद्देनजर तैयार किया गया है।

खबरों के मुताबिक, अमेरिकी विदेश मंत्री पॉम्पियो इस मुलाकात में प्रधानमंत्री मोदी और भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात के दौरान भारत और अमेरिका के मध्य सामरिक साझेदारी के महत्तवकांक्षी एजेंडे पर चर्चा करेंगे।

इस विषय पर अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मोर्गन ओर्तागस ने मंगलवार को कहा था कि पोम्पियो की हिंद-प्रशांत यात्रा का मकसद अमेरिका के महत्तवपूर्ण देशों के साथ साझेदारी और मज़बूत करना है, जिससे साझा लक्ष्य को पाने की दिशा में आगे बढ़ा जा सकेगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -