Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजअब पाकिस्तानी हिन्दू परिवार भी गंगा में प्रवाहित कर सकेंगे अपनों की अस्थियाँ: मोदी...

अब पाकिस्तानी हिन्दू परिवार भी गंगा में प्रवाहित कर सकेंगे अपनों की अस्थियाँ: मोदी सरकार ने लिया फैसला, कराची में इंतजार कर रही 300 मृतकों की अस्थियाँ

अब नीति में बदलाव के तहत मृत हिंदू के परिवार के सदस्यों को उनकी अस्थियाँ विसर्जित करने के लिए भारत का 10 दिनों का वीजा दिया जाएगा।

पाकिस्तान के हिंदू भी अब भारत आकर गंगा में अपने मृत परिजनों की अस्थियों को प्रवाहित कर सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की अगुवाई वाली केंद्र सरकार ने स्पॉन्सरशिप नीति (Sponsorship Policy) में बदलाव किया है। इसके फलस्वरूप अब 426 मृत पाकिस्तानी हिंदुओं की अस्थियों को हरिद्वार स्थित गंगा नदी में प्रवाहित किया जा सकता है।

हिंदू धर्म में मान्यता है कि गंगा नदी में अस्थियों को प्रवाहित करने से उक्त आत्मा को सद्गति प्राप्त होती है। इसलिए, पाकिस्तान में भी कई हिन्दुओं की इच्छा रहती है कि मरणोपरांत उनकी अस्थियों को गंगा नदी में प्रवाहित किया जाए। हालाँकि स्पॉन्सरशिप नीति की वजह से ऐसा होना आसान नहीं था। दरअसल पहले यह प्रावधान था कि पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू के परिवार का भारत में रहने वाला कोई सदस्य या करीबी उन्हें स्पॉन्सर करे। इसके बाद हीं उन्हें वीजा दिया जा सकता था। दोनों देशों के बीच विभाजन हुए काफी समय बीत गए। ऐसे में पाकिस्तान में रहने वाले काफी कम हिन्दुओं के परिवार ही अब भारत में बचे हैं।

अब नीति में बदलाव के तहत मृत हिंदू के परिवार के सदस्यों को उनकी अस्थियाँ विसर्जित करने के लिए भारत का 10 दिनों का वीजा दिया जाएगा। इसके तहत 426 हिंदू परिवार अपने मृत परिजनों की अस्थियों को गंगा में प्रवाहित करने में सक्षम होंगे। हालाँकि वर्ष 2011 और 2016 के बीच 295 हिंदुओं की अस्थियों को वाघा बॉर्डर भेजा गया था। लेकिन, ऐसा पहली बार होगा कि हिंदू परिवार खुद इन अस्थियों को लेकर भारत आएँगे और पूरे क्रिया-कर्म से अस्थियों का विसर्जन करेंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान के कराची में सोनपुर श्मशान घाट में 300 हिंदुओं की अस्थियाँ रखी हुईं हैं। इसके साथ हीं अन्य जगहों पर भी 128 अस्थियाँ गंगा में प्रवाहित होने का इंतजार कर रही हैं।पाकिस्तान में ऐसे बहुत सारे हिंदू हैं जो अपने प्रियजनों का अंतिम संस्कार करने के बाद अस्थियों को मंदिरों या श्मशान में सुरक्षित रख देते हैं। इन लोगों को आशा थी कि किसी न किसी दिन वे अपने प्रियजनों (मृतकों) की अस्थियाँ गंगा में प्रवाहित कर सकेंगे। मोदी सरकार के इस फैसले से ऐसे लोगों की मनोकामना पूरी होगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जम्मू-कश्मीर के डोडा में 4 जवान बलिदान, जंगल में छिपे थे इस्लामी आतंकवादी: हिन्दू तीर्थयात्रियों पर हमला करने वाले आतंकी समूह ने ली जिम्मेदारी

जम्मू कश्मीर के डोडा में हुए आतंकी हमले में एक अफसर समेत 4 जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं। इस हमले की जिम्मेदारी कश्मीर टाइगर्स ने ली है।

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -