Thursday, September 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअल्लाह-हू-अकबर बोल...बोल तेरा भगवान ब&^*%द है: अब्दुल ने कॉलर पकड़ कर हिंदू लड़के को...

अल्लाह-हू-अकबर बोल…बोल तेरा भगवान ब&^*%द है: अब्दुल ने कॉलर पकड़ कर हिंदू लड़के को धमकाया, दिलवाई हिंदू भगवानों को गाली

अब्दुल सलाम ने वीडियो को अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया था। कैप्शन में लिखा था, “पाकिस्तान में मुस्लिमों द्वारा हिंदुओं पर अत्याचार।” सोशल मीडिया पर तमाम गाली पड़ने के बाद अब्दुल ने इस वीडियो को यूट्यूब से डिलीट कर दिया है।

सोशल मीडिया पर एक बेहद चौंकाने वाली वीडियो सामने आई है। वीडियो में एक पाकिस्तानी मुस्लिम हिंदू लड़के से अल्लाह-हू-अकबर बुलवा रहा है और साथ में उसे हिंदू देवी-देवताओं को गाली देने के लिए मजबूर कर रहा है।

वीडियो को फेसबुक यूजर प्रकाश हिरानी ने अपलोड किया। आरोपित की पहचान अब्दुल सलाम अबु दाऊद के रूप में हुई है। देख सकते हैं कि उसने कैसे एक हिंदू लड़के को पकड़ा हुआ है और उससे अल्लाह-हू-अकबर बुलवा रहा है। इसके बाद वीडियो में दिखता है कि जब लड़के ने यह बोल दिया तो वो उससे कहता है कि वो हिंदू देवी देवताओं को भी गाली दे।

अब्दुल को कहते सुना जा सकता है, “दे गाली अपने भगवान को दे गाली…चिल्ला अल्लाह- हू-अकबर, चिल्ला अल्लाह-हू-अकबर। भगवान को गाली दे। बहन की माँ की गाली दे। बोल तेरा भगवान बह%$& है। बह*&^% पाकिस्तान में गंद डाल रखा है तुम लोगों ने।”

रहीम यार खान का निवासी अब्दुल सलाम ने यह वीडियो अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड की थी। कैप्शन में लिखा था, “पाकिस्तान में मुस्लिमों द्वारा हिंदुओं पर अत्याचार।” सोशल मीडिया पर तमाम गाली पड़ने के बाद अब्दुल ने इस वीडियो को यूट्यूब से डिलीट कर दिया है लेकिन फेसबुक व अन्य जगह ये वीडियो तेजी से शेयर हो रही है।

यूट्यूब के कमेंट सेक्शन में भी अब्दुल हिंदू भगवानों के लिए गंदी गंदी गाली देता देखा जा सकता है। वह हिंदू भगवानों को समलैंगिक बताकर, देवियों को रेप पीड़िता आदि कह रहा है।

एक वीडियो और थी जिसमें दाऊद को हिंदुओं के नरसंहार की धमकी देते भी सुना गया। यह वीडियो अप्रैल में पोस्ट की गई थी। इसमें उसने कहा, “अगर हम पाकिस्तान में हिंदुओं को मारना शुरू करते हैं तो इसमें केवल 30 मिनट लगेंगे … हम हिंदू पुरुषों को मारेंगे और हिंदू महिलाओं को ले जाएँगे। हम इन महिलाओं से बच्चे पैदा करेंगे और उन्हें ‘मुजाहिद’ (लड़ाकू/इस्लामी आतंकवादी) बना देंगे। हमारे साथ खिलवाड़ मत करो हमारे भारत में बहुत सारे लोग (मुसलमान) हैं जो तुमको (हिंदुओं को) मारने में समय नहीं लेंगे।”

फरवरी 2019 में पोस्ट किए गए एक वीडियो में, उसे राजू कृष्णन नाम के एक हिंदू बच्चे को डराते हुए देखा गया था। वीडियो में देखते हुए उसने कहा था, “यह बच्चा एक हिंदू है। मैं चाहूँ तो इस बच्चे के साथ बहुत कुछ कर सकता हूँ। लेकिन अगर मैं इसे पीटूँ या मारूँ, तो क्या फायदा होगा?” इसके बाद दाऊद ने बच्चे के साथ मारपीट न करने के अपने फैसले के बारे में शेखी बघारते हुए कहा कि उसके इस रवैये से यह साबित हुआ कि वह एक नेक इंसान है और भारत बेगैरत है।

दाऊद के फेसबुक प्रोफाइल के मुताबिक, वह फिलहाल पाकिस्तान के सिंध प्रांत के हैदराबाद में रहता है और थार-कोयला परियोजनाओं में कार्यरत हैं। माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के नियमों और शर्तों का उल्लंघन करने के लिए उसके ट्विटर प्रोफाइल को निलंबित किया जा चुका है। लेकिन हमारी रिपोर्ट लिखने तक उसका इंस्टा अकॉउंट एक्टिव है। 

सिंध में 60 हिंदुओं का एक साथ धर्मांतरण

गौरतलब है कि अभी पिछले दिनों ही खबर आई थी कि पाकिस्तान के सिंध प्रांत में 7 जुलाई 2021 को 60 से अधिक हिंदुओं को सामूहिक रूप से इस्लाम में परिवर्तित किया गया। इस मामले में अब्दुल रऊफ़ निज़ामनी नाम का एक व्यक्ति, जन धर्मांतरण प्रक्रिया का सूत्रधार रहा। एक फेसबुक पोस्ट में, आरोपित ने खुशी जाहिर करते हुए लिखा था, “अल्हम्दुलिल्लाह आज मेरी निगरानी में 60 लोग मुसलमान हुए हैं, इनके लिए दुआ करें।”

अब्दुल रऊफ निजामनी के फेसबुक प्रोफाइल के मुताबिक, वह पाकिस्तान के सिंध में मतली में नगर समिति का अध्यक्ष है। आरपित के निजी प्रोफाइल पर 4275 फॉलोअर्स हैं। उसके द्वारा पोस्ट किए गए एक वीडियो में, एक इस्लामी मौलवी को 60 हिंदुओं को कलमा (इस्लामी शपथ) पढ़ते हुए और उनका धर्मांतरण सुनिश्चित करते हुए देखा जा सकता है।

वीडियो में, उक्त इस्लामी मौलवी को यह दावा करते हुए देखा गया था कि यह उनकी पहली नमाज़ का पाठ था। मौलवी नए धर्मांतरित लोगों से बात करते हुए कहता है, “एक मुसलमान के जीवन का एकमात्र उद्देश्य अल्लाह को खुश करना है। तभी जीवन का उद्देश्य पूरा होगा। केवल उन्हीं का जीवन आगे बढ़ता है, जिन्हें अल्लाह पसंद करते हैं। जिसने अल्लाह को खुश कर लिया, उसकी जिंदगी कामयाब हो जाती है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

100 मलयाली ISIS में हुए शामिल- 94 मुस्लिम, 5 कन्वर्टेड: ‘नारकोटिक्स जिहाद’ पर घिरे केरल के CM ने बताया

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बुधवार को खुलासा किया कि 2019 तक केरल से ISIS में शामिल होने वाले 100 मलयालियों में से लगभग 94 मुस्लिम थे।

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा मेनस्ट्रीम मीडिया: जिस तस्वीर पर NDTV को पड़ी गाली, वह HT ने किस ‘दहशत’ में हटाई

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा हुआ मेन स्ट्रीम मीडिया! ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि हिंदुस्तान टाइम्स ने ऐसा एक बार फिर खुद को साबित किया। जब कोरोना से सम्बंधित तमिलनाडु की एक खबर में वही तस्वीर लगाकर हटा बैठा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,886FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe