Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'इंशाअल्लाह, खाना मिल जाएगा, बैठ जाएँ': भाषण रोक कर पाकिस्तान के PM शाहबाज शरीफ...

‘इंशाअल्लाह, खाना मिल जाएगा, बैठ जाएँ’: भाषण रोक कर पाकिस्तान के PM शाहबाज शरीफ को देना पड़ा दिलासा, भूख से जूझ रहा लगभग कंगाल इस्लामी मुल्क

इसे सबसे पहले पाकिस्तान के उर्दू न्यूज़ चैनल पीटीवी न्यूज़ ने जारी किया था। इसे बाद में अन्य न्यूज़ चैनलों और पोर्टल्स ने भी शेयर किया और वीडियो वायरल होते देरी नहीं लगी।

बुरे आर्थिक हालात का सामना कर रहे पाकिस्तान के पीएम शहबाज़ शरीफ का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। इस वीडियो में शहबाज़ शरीफ यह कहते सुने जा रहे हैं कि बैठ जाएँ, अभी खाना मिल जाएगा, फिक्र न करें।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान के वज़ीरे आज़म शहबाज शरीफ सोमवार को खैबर पख्तूनख्वा के लिए विकास परियोजनाओं के बारे में बात कर रहे थे। अपने संबोधन में वे किसी एयरपोर्ट को बनाए जाने का जिक्र कर रहे थे। तभी यह घटना हुई। वीडियो में उनके संबोधन के बीच एक शख्स नारेबाजी करने लगता है। इस पर शहबाज को अपना भाषण रोक देना पड़ता है। शहबाज़ शरीफ कहते हैं, “बैठ जाएँ न जी, अभी इंशाअल्लाह खाना मिल जाएगा, फिक्र न करें।” सभा में मौजूद लोग इस पर ठहाके लगाने लगते हैं। इसके बाद पीएम शरीफ भी मुस्कुराहट के साथ अपना भाषण फिर से शुरू कर देते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वीडियो सोमवार (26 दिसंबर, 2022) का बताया जा रहा है। इसे सबसे पहले पाकिस्तान के उर्दू न्यूज़ चैनल पीटीवी न्यूज़ ने जारी किया था। इसे बाद में अन्य न्यूज़ चैनलों और पोर्टल्स ने भी शेयर किया और वीडियो वायरल होते देरी नहीं लगी। शहबाज़ शरीफ खैबर पख्तूनख्वा के दौरे पर थे। यहाँ वे विकास की बात कर रहे थे लेकिन ऐसा लग रहा था लोगों का ध्यान उनकी बातों से ज्यादा खाने पर था।

आपको बता दें कि अक्टूबर महीने में संयुक्त राष्ट्र की मानवीय सहायता एजेंसी ने चेतावनी जारी की थी कि पाकिस्तान में बाढ़ से प्रभावित लगभग 57 लाख लोगों को तीन महीनों में बड़े खाद्य संकट का सामना करना पड़ सकता है। संयुक्त राष्ट्र कार्यालय की तरफ से जारी की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिक बारिश और बाढ़ से पाकिस्तान में बड़ी आबादी को खाने के संकट का सामना करना होगा। हालाँकि, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, सैलाब से पहले भी पाकिस्तान की लगभग 16 प्रतिशत आबादी खाद्य असुरक्षा का सामना कर रही थी। ऐसे में बाढ़ ने हालात बद से बदतर कर दिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -