Wednesday, April 17, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमस्जिद की ‘पवित्रता’ भंग… हुई गाने की शूटिंग: पाकिस्तानी अभिनेत्री सबा कमर की बढ़ी...

मस्जिद की ‘पवित्रता’ भंग… हुई गाने की शूटिंग: पाकिस्तानी अभिनेत्री सबा कमर की बढ़ी मुश्किलें, अदालत ने तय किए आरोप

"सबा क़मर और बिलाल के मस्जिद में गाने और नाचने के बाद इस्लाम खतरे में आ चुका है। आज इन दोनों के पीछे पूरे देश के वो गाज़ी पड़ चुके हैं जो तब एक भी शब्द नहीं बोलते जब मस्जिद और मदरसों में हजारों बच्चों के साथ दुष्कर्म होता है."

भले ही शुरू से अब तक पाकिस्तानी अदाकारा सबा क़मर सफाई पेश करती आ रही हों कि उन्होंने मस्जिद में कोई डांस या संगीत का आयोजन नहीं किया है पर आख़िरकार उनकी मुश्किलों को बढ़ाते हुए पाकिस्तान की एक अदालत ने बुधवार (6 अक्टूबर 2021) को उनके विरुद्ध इसी मामले में आरोप तय कर दिया है। यह मामला पिछले वर्ष अगस्त 2020 का है।

पिछले साल इसी मामले में लाहौर पुलिस ने पाकिस्तान की हिंदी मीडियम अभिनेत्री सबा कमर और पाकिस्तानी गायक बिलाल सईद के खिलाफ लाहौर के पुराने शहर में मौजूद मस्जिद वजीर खान को नापाक करने का दोषी मानते हुए केस दर्ज किया था। इन दोनों पर मस्जिद के अंदर नाचने का आरोप लगा था जिस पर पाकिस्तान के तमाम मज़हबी समूहों ने न सिर्फ कड़ी प्रतिक्रिया दी थी बल्कि दोनों आरोपितों के खिलाफ कड़े एक्शन की माँग की थी।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आरोप तय करने वाली अदालत के न्यायिक मजिस्ट्रेट जावेरिया भट्टी हैं। अदालत में नियमित रूप से न पेश होने के चलते कुछ समय पूर्व ही सबा क़मर के विरुद्ध अरेस्ट वारंट जारी किया गया था। आरोप तय होने के दौरान दोनों कलाकार अदालत में मौजूद थे जिनके विरुद्ध अभियोजन पक्ष को आगामी 14 अक्टूबर को गवाह पेश करने का आदेश मिला है। अपने पुराने बयान पर कायम सबा कमर ने एक बार फिर कहा कि ”मस्जिद में कोई डांस या संगीत नहीं हुआ और इस मामले में मुझे झूठा फँसाया गया है।’

अगस्त 2020 के इस विवादित प्रकरण में पंजाब प्रांत के मज़हबी मामलों के मंत्री सईद हसन शाह ने बताया था कि मस्जिद में वीडियो बनाने की अनुमति देने वाले निदेशक और सहायक निदेशक को सस्पेंड कर दिया गया था। वीडियो वायरल होने के बाद लाहौर स्तर पर उग्र प्रदर्शन भी हुए थे और अदाकारा सबा कमर को लगातार जान से मार देने की धमकियाँ भी मिलती रहीं।

इसी प्रकरण पर हंगामा करते कट्टरपंथियों को जवाब देते हुए पाकिस्तानी यूट्यूबर और मानवाधिकार कार्यकर्ता आरिफ आजाकिया (Arif Aajakia) ने लिखा था, “सबा क़मर और बिलाल के मस्जिद में गाने और नाचने के बाद इस्लाम खतरे में आ चुका है। आज इन दोनों के पीछे पूरे देश के वो गाज़ी पड़ चुके हैं जो तब एक भी शब्द नहीं बोलते जब मस्जिद और मदरसों में हजारों बच्चों के साथ दुष्कर्म होता है.”

गौरतलब है कि पाकिस्तान में अभिनेत्री सबा कमर पर सिर्फ इसीलिए ईशनिंदा का मुकदमा दायर कर दिया गया क्योंकि उन्होंने मस्जिद में एक वीडियो की शूटिंग की थी। अभिनेत्री सबा कमर और गायक बिलाल सईद सहित कई लोगों के खिलाफ लाहौर का वज़ीर खान मस्जिद की ‘पवित्रता भंग करने’ का आरोप लगाया गया था जिसे अब वहाँ के कोर्ट ने तय कर दिया है। इन दोनों ने मस्जिद के भीतर म्यूजिक वीडियो की शूटिंग की थी। उस समय कोर्ट ने पुलिस को क़ानून के हिसाब से कार्रवाई करने का आदेश भी दे दिया था।

रिपोर्ट के अनुसार, उक्त मस्जिद को पाकिस्तान का एक ऐतिहासिक स्थल माना जाता है और वहाँ गाने की शूटिंग के बाद बड़ा विवाद खड़ा हो गया था। अधिवक्ता सरदार फरहत मंजूर खान ने सबा कमर के खिलाफ मामला दर्ज कराया था, जिस पर एडिशनल डिस्ट्रिक्ट सेशन जज अतिकुर रहमान ने अगस्त 13, 2020 को सुनवाई की। लाहौर में मस्जिद की सुरक्षा व्यवस्था को धता बताने के लिए लोगों ने सबा कमर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नॉर्थ-ईस्ट को कॉन्ग्रेस ने सिर्फ समस्याएँ दी, BJP ने सम्भावनाओं का स्रोत बनाया: असम में बोले PM मोदी, CM हिमंता की थपथपाई पीठ

PM मोदी ने कहा कि प्रभु राम का जन्मदिन मनाने के लिए भगवान सूर्य किरण के रूप में उतर रहे हैं, 500 साल बाद अपने घर में श्रीराम बर्थडे मना रहे।

शंख का नाद, घड़ियाल की ध्वनि, मंत्रोच्चार का वातावरण, प्रज्जवलित आरती… भगवान भास्कर ने अपने कुलभूषण का किया तिलक, रामनवमी पर अध्यात्म में एकाकार...

ऑप्टिक्स और मेकेनिक्स के माध्यम से भारत के वैज्ञानिकों ने ये कमाल किया। सूर्य की किरणों को लेंस और दर्पण के माध्यम से सीधे राम मंदिर के गर्भगृह में रामलला के मस्तक तक पहुँचाया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe