Wednesday, July 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयऑस्ट्रेलिया में दौड़ेगी भारत में बनी मेट्रो, मेक इन इंडिया की एक और सफलता

ऑस्ट्रेलिया में दौड़ेगी भारत में बनी मेट्रो, मेक इन इंडिया की एक और सफलता

सिडनी में पहली बार ड्राइवर लेस मेट्रो लाइन खुली है, जिसमें 6 कोच वाली 22 एल्सटॉम ट्रेनों के द्वारा सेवा दी जाएगी। यह मेट्रो नॉर्थ वेस्ट रेल लिंक में तल्लावांग स्टेशन से चैट्सवुड स्टेशन के बीच कुल 13 स्टेशनों में चलेगी।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने दावा किया कि केंद्र सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट ‘मेक इन इंडिया’ लगातार सफलता के नए आयाम छूता जा रहा है। पीयूष गोयल ने मंगलवार को एक वीडियो ट्वीट कर लिखा, “मेक इन इंडिया की एक और सफलता। गोयल ट्वीट में लिखा है कि अब ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में भारत में बनी अत्याधुनिक मेट्रो दौड़ेगी। मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए शुरू किए गए ‘मेक इन इंडिया’ अभियान से देश तकनीक की दुनिया में उभरता हुआ सितारा बन रहा है।

बता दें कि देशी और विदेशी कंपनियों द्वारा निर्माण को बढ़ावा देने के लिए ‘मेक इन इंडिया’ अभियान की शुरुआत की गई। वीडियो में बताया गया है कि भारत में बने मेट्रो रेलवे कोच ऑस्ट्रेलिया के सिडनी मेट्रो लाइन पर चलेंगे। सिडनी में पहली बार ड्राइवर लेस मेट्रो लाइन खुली है, जिसमें 6 कोच वाली 22 एल्सटॉम ट्रेनों के द्वारा सेवा दी जाएगी। यह मेट्रो नॉर्थ वेस्ट रेल लिंक में तल्लावांग स्टेशन से चैट्सवुड स्टेशन के बीच कुल 13 स्टेशनों में चलेगी।

इन ट्रेनों के आंध्र प्रदेश के श्री सिटी में असेंबल किया गया है। ये ट्रेनें पूरी तरह से स्वचालित हैं और इसमें एलईडी लाइट, आपातकालीन इंटरकॉम, सीसीटीवी कैमरे जैसी सभी अत्याधुनिक सुविधाएँ हैं। कंपनी ने 15 सालों के लिए डिपो चलाने और सिग्नलिंग सिस्टम की देख-रेख के लिए सिडनी मेट्रो के साथ संधि की है। भारत में निर्मित ये मेट्रो दुनिया भर में ‘मेक इन इंडिया’ की सफलता का प्रमाण हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक शक्तिपीठ जहाँ गर्भगृह में नहीं है प्रतिमा, जहाँ हुआ श्रीकृष्ण का मुंडन संस्कार: गुजरात का अंबाजी मंदिर

गुजरात के बनासकांठा जिले में राजस्थान की सीमा पर अरासुर पर्वत पर स्थित है शक्तिपीठों में से एक श्री अरासुरी अंबाजी मंदिर।

5 या अधिक हुए बच्चे तो हर महीने पैसा, शिक्षा-इलाज फ्री: जनसंख्या बढ़ाने के लिए केरल के चर्च का फैसला

केरल के चर्च के फैसले के अनुसार, 2000 के बाद शादी करने वाले जिन भी जोड़ों के 5 या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें प्रत्येक माह 1500 रुपए की मदद दी जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,576FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe