Tuesday, April 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगान राष्ट्रपति आवास में लोग पढ़ रहे थे नमाज, पास में ही गिरे रॉकेट

अफगान राष्ट्रपति आवास में लोग पढ़ रहे थे नमाज, पास में ही गिरे रॉकेट

अफगानिस्तान में जब से अमेरिकी फौजों की वापसी शुरू हुई है, वहाँ पर तालिबान ने बड़े हमले करने शुरू कर दिए हैं। हाल ही में तालिबान ने दावा किया था कि उसने देश के 85 फीसदी हिस्से पर कब्जा कर लिया है।

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल स्थित राष्ट्रपति भवन के करीब आज (मंगलवार,20 जुलाई 2021) सुबह 8 बजे रॉकेट से हमला किए जाने की खबर सामने आई है। अधिकारियों ने बताया है कि हमला बकरीद की नमाज के दौरान किया गया। हालाँकि, इसके पीछे किस संगठन का हाथ है यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है।

काबुल के बाग-ए-अली मरदा, चमन ए हुजुरी और जिला पुलिस एरिया में यह हमला किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक, तीनों मिसाइलों को कार के जरिए दागा गया था। अफगान गृह मंत्रालय के प्रवक्ता मीरवाइज स्टेनकजई ने इन हमलों की पुष्टि की और कहा कि पैलेस के बाहर तीन रॉकेट्स के जरिए हमले किए गए हैं। उन्होंने कहा कि इन हमलों में कोई हताहत नहीं हुआ है। घटना की जाँच की जा रही है।

टोलो न्यूज द्वारा शेयर किए गए वीडियो में देखा जा सकता है कि अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी की उपस्थिति में महल के कंपाउंड में नमाज चल रही थी। इसी दौरान ये रॉकेट ब्लास्ट हुए। रॉकेट हमलों के बावजूद नमाज जारी रखा गया। नमाज खत्म होने के बाद राष्ट्रपति गनी ने एक खुले मंच से भाषण दिया, जिसे स्थानीय मीडिया ने कवर किया।

उन्होंने कहा, “अफगानिस्तान का भविष्य अफगानों द्वारा निर्धारित किया जाता है। अफगानों को अब यह साबित करना चाहिए कि वे एकजुट हैं। अगले तीन से छह महीने के लिए लोगों का कड़ा रुख स्थिति को बदल देगा। क्या तालिबान के पास अफ़गानों, ख़ासकर महिलाओं के प्रति कोई ‘सकारात्मक प्रतिक्रिया’ है?”

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में जब से अमेरिकी फौजों की वापसी शुरू हुई है, वहाँ पर तालिबान ने बड़े हमले करने शुरू कर दिए हैं। हाल ही में तालिबान ने दावा किया था कि उसने अफगानिस्तान के 85 फीसदी हिस्से पर कब्जा कर लिया है। देश के कई प्रांतों की राजधानी को तालिबान ने घेर रखा है।

रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान ने पिछले कुछ वर्षों के विपरीत इस साल ईद पर संघर्ष विराम की घोषणा नहीं की है। अफगान सरकार और तालिबान बीच कतर के दोहा में शांति समझौता विफल होने के बाद सोमवार को काबुल में 15 राजनयिक मिशनों और नाटो के प्रतिनिधि ने तालिबान से हमले बंद करने को कहा था। गौरतलब है कि हाल ही रॉयटर्स के फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी की हत्या भी अफगानिस्तान में ही हुई थी। वह अफगान बलों और तालिबान के बीच संघर्ष को कवर कर रहे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

10000 रुपए की कमाई पर कॉन्ग्रेस सरकार जमा करवा लेती थी 1800 रुपए: 1963 और 1974 में पास किए थे कानून, सालों तक नहीं...

कॉन्ग्रेस की पूर्ववर्ती सरकारों ने कानून पास करके भारतीयों को इस बात के लिए विवश किया था कि वह कमाई का एक हिस्सा सरकार के पास जमा कर दें।

बेटी की हत्या ‘द केरल स्टोरी’ स्टाइल में हुई: कर्नाटक के कॉन्ग्रेस पार्षद का खुलासा, बोले- हिंदू लड़कियों को फँसाने की चल रही साजिश

कर्नाटक के हुबली में हुए नेहा हीरेमठ के मर्डर के बाद अब उनके पिता ने कहा है कि उनकी बेटी की हत्या 'दे केरल स्टोरी' के स्टाइल में हुई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe