Friday, September 24, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयवो तो हमने जब्र कर रखा था, वरना युद्ध हो गया होता: पाकिस्तानी विदेश...

वो तो हमने जब्र कर रखा था, वरना युद्ध हो गया होता: पाकिस्तानी विदेश मंत्री कुरैशी की डींगें

कुरैशी ने इस बैठक में झूठों की झड़ी ही लगा दी। उन्होंने राजनयिकों को भरमाने की कोशिश में यह भी दावा किया कि कश्मीर में अब तक कर्फ़्यू लगा है, जबकि सच्चाई यह है कि वहाँ से कर्फ़्यू बहुत दिन पहले ही हटाया जा चुका है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने यूरोपीय राजदूतों के सामने डींगें हाँकने के चक्कर में बेहद हास्यास्पद बयान दिया है। उन्होंने दावा किया है कि वह तो पाकिस्तान ने खुद पर नियंत्रण जैसे तैसे कर रखा है, वरना 5 अगस्त को कश्मीर के भारत के साथ पूर्ण विलय और उसका विशेष दर्जा ख़त्म करने की भारत की ‘हरकतों’ के बाद तो दोनों देशों में जंग हो ही जानी थी। साथ ही उन्होंने घाटी में भारत के ‘अत्याचारों’ का प्रोपेगंडा भी दोहराया, जबकि सच्चाई यह है कि 5 अगस्त के बाद से जहाँ जिहादियों ने वहाँ 88 आतंकी घटनाओं को अंजाम दिया है और कई हत्याएँ की हैं, वहीं सुरक्षा बलों के हाथों इसी कालखंड में अब तक एक भी नागरिक की जान नहीं गई है।

कुरैशी ने इस बैठक में झूठों की झड़ी ही लगा दी। उन्होंने राजनयिकों को भरमाने की कोशिश में यह भी दावा किया कि कश्मीर में अब तक कर्फ़्यू लगा है, जबकि सच्चाई यह है कि वहाँ से कर्फ़्यू बहुत दिन पहले ही हटाया जा चुका है। यह तो स्थानीय और पाकिस्तान-समर्थित जिहादियों की साठ-गाँठ है जो जनजीवन सामान्य नहीं होने दे रही है। यहाँ तक कि लोग अपने बच्चों को जिहादियों के डर से स्कूल भी नहीं भेज पा रहे हैं, और स्कूल वाले अखबारों में इश्तिहार छाप कर बच्चों को पाठ्यपुस्तकों से पढ़ाई के निर्देश भेज रहे हैं ताकि उनकी शिक्षा कुछ-न-कुछ जारी रहे।

अपने यूरोपीय मेहमानों को बरगलाने के लिए कुरैशी ने यह भी कहा कि भारत खुद ही कोई कार्रवाई (फॉल्स फ़्लैग ऑपरेशन) कर उसका ठीकरा पाक के सिर फोड़ सकता है, जिसके बाद वह पाक की सीमा का अतिक्रमण कर सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि “भारत के उठाए हुए कदमों से” कश्मीर में मानवाधिकारों की स्थिति दीर्घकालिक रूप से खराब हो सकती है। यह भी पूरी तरह झूठ है, क्योंकि अब कश्मीर में केवल वही नेता नज़रबंद या जेल में हैं, जो यह सामान्य सा आश्वासन देने के लिए तैयार नहीं हैं कि वे कश्मीर में हिंसा फैलाने वाली या भड़काऊ बातें नहीं करेंगे। यह बात खुद 370 हटने की बात भर से अलगाववाद-समर्थक के तौर पर सामने आ चुकीं पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती की बेटी इल्तज़ा ने कही है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुझे राष्ट्रवादी होने की सजा दी जा रही, कलंकित करने वालों मुझे रोकना असंभव’: मनोज मुंतशिर का ‘गिरोह’ को करारा जवाब

“मेरी कोई रचना शत-प्रतिशत ओरिजिनल नहीं है। मेरे खिलाफ याचिका दायर करें। मुझे माननीय न्यायालय का हर फैसला मंजूर है। मगर मीडिया ट्रायल नहीं।"

‘₹96 लाख दिल्ली के अस्पताल को दिए, राजनीतिक दबाव में लौटा भी दिया’: अपने ही दावे में फँसी राणा अयूब, दान के गणित ने...

राणा अयूब ने दावा किया कि उन्होंने नई दिल्ली के एक अस्पताल को 130,000 डॉलर का चेक दिया था। जिसे राजनीतिक दबाव की वजह से लौटा दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,995FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe