Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअमेरिका के LGBTQ क्लब में जबरदस्त गोलीबारी, 5 की हो गई मौत और 18...

अमेरिका के LGBTQ क्लब में जबरदस्त गोलीबारी, 5 की हो गई मौत और 18 घायल: ‘ट्रांसजेंडर डे ऑफ रिमेम्बरेंस’ के दिन

हमले के बाद LGBTQ नाइट क्लब 'क्यू' ने फेसबुक पर एक पोस्ट करते हुए संदिग्ध हमलावर को पकड़ने के लिए क्लब में मौजूद लोगों का धन्यवाद किया है।

अमेरिका के कोलोराडो स्प्रिंग्स शहर के LGBTQ नाइट क्लब में रविवार (20 नवंबर, 2022) को हुई अंधाधुंध फायरिंग में 5 लोगों की मौत हो गई। वहीं, 18 लोग घायल हुए हैं। क्लब में मौजूद लोगों ने मुस्तैदी दिखाते हुए संदिग्ध हमलावर को पकड़ते हुए पुलिस को सौंप दिया है। फिलहाल, हमले के कारणों का पता नहीं चल सका है। पुलिस, मामले की जाँच कर रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह हमला अमेरिका के कोलोराडो स्प्रिंग्स शहर में स्थित LGBTQ नाइट क्लब ‘क्यू’ में हुआ है। अपनी गूगल लिस्टिंग में, क्लब ‘क्यू’ ने खुद को ‘गे एंड लेस्बियन नाइट क्लब’ बताया है।

(फोटो: गूगल लिस्टिंग का स्क्रीनशॉट)

इस घटना को लेकर कोलोराडो स्प्रिंग्स की लेफ्टिनेंट पामेला कास्त्रो का कहना है कि यह हमला ‘ट्रांसजेंडर डे ऑफ रिमेंबरेंस (TDOR)’ के दिन हुआ है। आरोपित ने रात करीब 11:30 बजे क्लब में घुसकर अंधाधुंध गोलीबारी की जिससे वहाँ मौजूद 23 लोगों को गोली। इसमें, 5 लोगों की मौत हो गई, जबकि 18 घायल हैं।

पामेला कास्त्रो ने यह भी कहा है कि हमले के बाद क्लब में मौजूद लोगों ने हिम्मत दिखाते हुए संदिग्ध आरोपित को पकड़ लिया। इसके बाद, पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने आरोपित को हिरासत में लिया है। संदिग्ध आरोपित को भी गोली लगी है, पुलिस सुरक्षा में उसका इलाज चल रहा है। इलाज के बाद उससे पूछताछ की जाएगी, तब हमले का कारण सामने आ सकेगा। हालाँकि, कोलोराडो स्प्रिंग्स की लेफ्टिनेंट पामेला कास्त्रो ने हमले में इस्तेमाल किए गए हथियार के बारे में कुछ भी बताने से इनकार कर दिया।

हमले के बाद LGBTQ नाइट क्लब ‘क्यू’ ने फेसबुक पर एक पोस्ट करते हुए संदिग्ध हमलावर को पकड़ने के लिए क्लब में मौजूद लोगों का धन्यवाद किया है। क्लब ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा, “हमारे समुदाय पर मूर्खतापूर्ण हमले से क्लब क्यू तबाह हो गया है। हमारी प्रार्थना और संवेदनाएँ सभी पीड़ितों और उनके परिवार और दोस्तों के साथ हैं। हम क्लब में मौजूद उन लोगों को धन्यवाद देते हैं जिन्होंने बहादुरी दिखाते हुए हमलावर को पकड़ लिया।”

बता दें, अमेरिका में गोलीबारी की घटनाएँ बढ़ती जा रही हैं। इससे पहले गत बुधवार (16 नवंबर, 2022) को कोलंबिया के रोज गोल्ड क्लब में फायरिंग की घटना सामने हुई थी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। इससे पहले, 5 नवंबर को फिलाडेल्फिया के बार में गोलीबारी की खबर सामने आई थी। इस हमले में 9 लोगों की मौत हुई थी, जबकि कई अन्य घायल हुए थे। वहीं, गत 20 अक्टूबर को सिएटल से लगभग 450 किलोमीटर पूर्व केलर में भी गोलीबारी हुई थी। इस गोलीबारी में दो लोगों की मौत हो गई थी। मामले में पुलिस ने तीन संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

कमलेश तिवारी हत्याकांड के साजिशकर्ता को सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत, घटना से पहले हत्यारों से लगातार बात कर रहा था सैयद आसिम अली:...

सैयद आसिम अली पर हत्यारों के संपर्क में रहने और उन्हें कानूनी सहायता उपलब्ध कराने का आरोप है। सर्वोच्च न्यायालय का मानना है कि उसका कोई आपराधिक इतिहास नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -