Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयTwitter को अब नहीं खरीदेंगे एलन मस्क: कहा- कंपनी बार-बार छुपा रही सूचनाएँ, ₹79...

Twitter को अब नहीं खरीदेंगे एलन मस्क: कहा- कंपनी बार-बार छुपा रही सूचनाएँ, ₹79 अरब का लग सकता है चूना

मस्क ने कहा कि वह सौदे से इसलिए भी अलग हो रहे हैं, क्योंकि ट्विटर ने कंपनी के उच्च अधिकारियों और एक तिहाई प्रतिभा अधिग्रहण टीम को निकाल दिया, जो कि 'वर्तमान व्यावसायिक संगठन के भौतिक घटकों को काफी हद तक संरक्षित करने' के अपने दायित्व का ट्विटर द्वारा उल्लंघन है।

टेस्ला (Tesla) कंपनी के मालिक और दुनिया के सबसे धनी व्यक्ति एलन मस्क (Elon Musk) ने शुक्रवार (8 जुलाई 2022) को सोशल मीडिया साइट ट्विटर (Twitter) की डील को रद्द करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि कंपनी ने विलय (Merger) के कई प्रावधानों का उल्लंघन किया है। वहीं, ट्विटर ने इस पर कानूनी कार्रवाई करने की बता कही है।

मस्क ने कहा कि वह सौदे से इसलिए भी अलग हो रहे हैं, क्योंकि ट्विटर ने कंपनी के उच्च अधिकारियों और एक तिहाई प्रतिभा अधिग्रहण टीम को निकाल दिया, जो कि ‘वर्तमान व्यावसायिक संगठन के भौतिक घटकों को काफी हद तक संरक्षित करने’ के अपने दायित्व का ट्विटर द्वारा उल्लंघन है।

बता दें कि मस्क ने अप्रैल 2022 में माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर के 100% शेयर खरीदने के लिए $54.20 (करीब 4000 रुपए) प्रति शेयर के हिसाब से भुगतान करने का ऑफर दिया था, जिसकी कुल कीमत करीब 44 बिलियन डॉलर (करीब 3400 अरब रुपए) है। बाद में यह सौदा तय हो गया था।

मस्क द्वारा विलय से पीछे हटने के बाद ट्विटर के चेयरमैन ब्रेट टेलर ने माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म पर कहा कि बोर्ड ने विलय समझौते को लागू करने के लिए कानूनी कार्रवाई करने की योजना बनाई है। उन्होंने कहा, “ट्विटर बोर्ड श्री मस्क के साथ सहमत मूल्य और शर्तों पर लेनदेन को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है और विलय समझौते को लागू करने के लिए कानूनी कार्रवाई करने की योजना बना रहा है। हमें विश्वास है कि हम डेलावेयर कोर्ट ऑफ चांसरी में जीत हासिल करेंगे।”

एक फाइलिंग में मस्क के वकीलों ने कहा कि ट्विटर प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध नकली या स्पैम खातों की जानकारी के लिए कई अनुरोधों का जवाब देने में विफल रहा या मना कर दिया। यह किसी भी कंपनी के व्यवसायिक प्रदर्शन के लिए प्रमुख है।

अंतरराष्ट्रीय न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, फाइलिंग में कहा गया है, “ट्विटर उस समझौते के कई प्रावधानों का उल्लंघन कर रहा है। ऐसा लगता है कि उस गलत और भ्रामक जानकारियों पर विश्वास करके मस्क ने विलय समझौता किया था।”

मस्क की घोषणा के बाद ट्विटर के शेयर में गिरावट जारी है। कारोबार के दिन ट्विटर के शेयर 6% गिरकर 34.58 डॉलर पर पहुँच गए। यह मस्क द्वारा अप्रैल में प्रति शेयर $54.20 भुगतान करने की सहमत मूल्य से 36% कम है। हालाँकि, जब मस्क द्वारा ट्विटर के अधिग्रहण की खबर आई तो शेयरों में उछाल देखने को मिला, लेकिन जल्दी ही इस सौदे पर छाए ग्रहण को लेकर शेयरों में बिकवाली शुरू हो गई।

मई में मस्क में ट्विटर के अधिग्रहण के डील को होल्ड कर दिया था। मस्क का कहना था कि यह डील तब तक होल्ड पर रहेगा, जब तक कि कंपनी यह साबित नहीं कर देती कि प्लेटफॉर्म के कुल यूजर में स्पैम बोट 5 प्रतिशत से कम हैं।

मस्क द्वारा सौदे से पीछे हटने के बाद उन्हें 1 बिलियन डॉलर (लगभग 79.33 अरब रुपए) की पेनाल्टी देनी पड़ सकती है। विलय समझौता पत्र के अनुसार, अगर मस्क इस सौदे पर पूरा नहीं करते हैं या उससे अलग होते हैं तो उन्हें ट्विटर को 79.33 अरब रुपए देना होगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

शराब घोटाले में जेल में ही बंद रहेंगे दिल्ली के CM केजरीवाल, हाई कोर्ट ने जमानत पर लगाई रोक: निचली अदालत के फैसले पर...

हाई कोर्ट ने कहा कि निचली अदालत ने मामले के पूरे कागजों पर जोर नहीं दिया जो कि पूरी तरह से अनुचित है और दिखाता है कि अदालत ने मामले के सबूतों पर पूरा दिमाग नहीं लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -