Friday, July 1, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'Pak आकर खेलना चाहिए इंग्लैंड को' - वसीम जाफर ने बोली अफरीदी के 'एहसान'...

‘Pak आकर खेलना चाहिए इंग्लैंड को’ – वसीम जाफर ने बोली अफरीदी के ‘एहसान’ वाली भाषा, आपत्ति पर ट्विटर यूजर ब्लॉक

"PCB के पास कई कारण हैं कि वो ECB से निराश हो। पिछले साल जब कोरोना की वैक्सीन भी नहीं आई थी, तब पाकिस्तान और वेस्टइंडीज ने महामारी के दौरान भी इंग्लैंड का दौरा किया था।"

अब जब ‘इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB)’ ने अपनी महिला व पुरुष टीमों का पाकिस्तान दौरा रद्द कर दिया है, भारत के पूर्व क्रिकेटर वसीम जाफर नाराज़ हो गए हैं। वसीम जाफर ने भी पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी की भाषा बोलते हुए इंग्लैंड को पाकिस्तान का ‘एहसान’ दिलाया है। हालाँकि, कई लोगों ने वसीम जाफर को इस पर घेरा भी कि वो पाकिस्तान के लिए अपने दिल में सॉफ्ट कॉर्नर रखते हैं।

वसीम जाफर ने सोशल मीडिया के माध्यम से लिखा, “पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) के पास कई कारण हैं कि वो ECB से निराश हो। पिछले साल जब कोरोना की वैक्सीन भी नहीं आई थी, तब पाकिस्तान और वेस्टइंडीज ने महामारी के दौरान भी इंग्लैंड का दौरा किया था। ECB इसके बदले कम से कम कुछ कर सकता था तो ये कि वो अपना पाकिस्तान दौरा नहीं रद्द करता। क्रिकेट रद्द होता है तो इसमें किसी की जीत नहीं होती है।”

याद दिला दें कि ‘इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB)’ ने घोषणा की है कि उसने अपनी पुरुष व महिला टीमों का अक्टूबर में होने वाला पाकिस्तान दौरा रद्द कर दिया है। ECB ने कहा है कि ताज़ा परिस्थितियों में पाकिस्तान का दौरा करना T-20 विश्व कप की तैयारियों की दिशा में ठीक नहीं होगा। साथ ही बोर्ड ने ये भी कहा कि उसमें बेहतर प्रदर्शन करना उसके लिए सबसे बड़ी प्राथमिकता है। इसके साथ ही पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है।

पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने ‘इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB)’ से अपील की थी कि वो अपना पाकिस्तान दौरा रद्द न करे। न्यूजीलैंड के वापस जाने से पाकिस्तान के क्रिकेट प्रेमी पहले से ही सदमे में थे। शाहिद अफरीदी ने कहा था कि अब समय आ गया है, जब ECB अपने कार्यों के जरिए ‘पाकिस्तानी क्रिकेट बोर्ड (PCB)’ के प्रति सम्मान दिखाए, क्योंकि अब सिर्फ शब्दों से काम नहीं चलने वाला है।

एक ट्विटर यूजर ने वसीम जाफर को जवाब देते हुए लिखा कि आप कभी किसी पाकिस्तानी को आतंकी हमलों की निंदा करते हुए नहीं देखेंगे, लेकिन भारत वालों से लिखवा लो – ‘क्रिकेट असली विजेता है, कला की कोई सीमा नहीं होती और संगीत देशों को जोड़ता है…’। हालाँकि, इसके बाद वसीम जाफर ने ‘बीइंग ह्यूमर’ नाम के इस ट्विटर हैंडल को ब्लॉक कर दिया, जिसके बाद उसने लिखा, “इसकी ही उम्मीद थी। पाकिस्तानियों से ही गले मिल ले तू भाई।”

एक ट्विटर यूजर ने वसीम जाफर को याद दिलाया कि यही पाकिस्तानी आतंकी आपके गृह नगर (मुंबई) को दहलाते हैं और वहाँ के अधिकतर क्रिकेटर खुल कर ‘गजवा-ए-हिन्द’ का समर्थन करते हैं। एक ट्विटर यूजर ने उन्हें ‘ग़दर’ में सनी देओल का डायलॉग याद दिलाया, “मैडम जी, मैं आपको लाहौर छोड़ आऊँ?” लोगों ने पूछा कि जब जीवन पर ही खतरा हो, तब बाकी चीजें मायने रखती हैं क्या? हालाँकि, कई पाकिस्तानियों ने उन्हें धन्यावद भी दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe