रायबरेली में भाजपा कार्यकर्ता की लाठी डंडों से पीट-पीटकर हत्या

जब भीड़ ने दोनों भाइयों की कार पर हमला किया तो मृतक शिव का भाई गोपाल तो वहाँ से बचकर भागने में सफल रहा मगर शिव वहीं फँस गए। जब वह बेसुध होकर जमीन पर गिर पड़े तो...

रायबरेली में मंगलवार को दो सगे भाइयों पर जानलेवा हमला किया गया। दलित गुटों द्वारा मारपीट में गंभीर रूप से घायल युवक की मौत हो गई जबकि उसके घायल भाई का इलाज चल रहा है। हमलावरों ने उस समय घटना को अंजाम दिया, जब दोनों भाई कार में बैठकर घर जा रहे थे। पुलिस हमलावरों की तलाश कर रही है।

भाजपा कार्यकर्ता था शिव सिंह

हरचंदपुर थाना क्षेत्र के मझिगवां हरदोई गाँव निवासी एवं पूर्व प्रधान के छोटे बेटे शिव प्रताप सिंह उर्फ शिव सिंह (32 वर्ष) ठेकेदारी करते थे। साथ ही वो भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता भी थे। मंगलवार (मई 14, 2019) लगभग चार बजे शिव सिंह अपने भाई गोपाल सिंह के साथ गाड़ी से घर लौट रहे थे। सलेमपुर तिराहे के पास गाँव के ही 15-20 लोगों ने उन्हें रोक लिया और कार में तोड़ फोड़ की। दोनों भाइयों को कार से घसीटकर लाठी-डंडों से जमकर पीटा। इसमें दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए।

शोरगुल मचाने पर आसपास के लोग पहुँचे, तो हमलावर फरार हो गए। इस मामले पर एसपी सुनील कुमार सिंह का कहना है कि लाठी-डंडों से पीटकर हत्या की गई है। इस हमले में मृतक शिव सिंह भाजपा के लोकसभा प्रत्याशी दिनेश प्रताप सिंह के करीबी माने जाते हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रिपोर्ट्स के अनुसार, शिव सिंह पर यह हमला मंगलवार सुबह कॉन्ग्रेस MLA अदिति सिंह के काफिले पर हरचन्दपुर एरिया, लखनऊ-रायबरेली हाइवे पर हुए हमले के कुछ देर बाद हुआ। हालाँकि, पुलिस विभाग का कहना है कि शिव सिंह पर हुए इस हमले का कॉन्ग्रेस MLA पर हुए हमले से कोई सम्बन्ध नहीं है।

जब भीड़ ने दोनों भाइयों की कार पर हमला किया तो मृतक शिव का भाई गोपाल तो वहाँ से बचकर भागने में सफल रहा मगर शिव वहीं फँस गए। जब वह बेसुध होकर जमीन पर गिर पड़े और आसपास के लोग जुटने लगे तो हमलावर वहाँ से भाग निकले। शिव सिंह के जानने वाले उन्हें लेकर आनन-फानन में नजदीकी सीएचसी पहुँचे। फिर उन्हें शहर के निजी अस्पताल भेजा गया, लेकिन वहाँ चिकित्सक ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घायल गोपाल का इलाज अभी भी चल रहा है।

प्रधानी की रंजिश हो सकती है वजह

ग्रामीणों ने बताया कि शिव के पिता रंजीत सिंह पूर्व प्रधान हैं। प्रधानी की रंजिश को लेकर ही शिव सिंह का विवाद हमलावर पक्ष से चल रहा था, इसी को लेकर हमला हुआ। उनकी मौत की खबर सुनकर बड़ी संख्या में उसके जानने वाले अस्पताल पहुँचे।

शिव सिंह की हत्या की सूचना पर एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह भी निजी अस्पताल पहुँचे। वहाँ वह शिव के पिता रंजीत सिंह से मिले और सांत्वना दी। एमएलसी ने कहा कि जिला पंचायत से इस वारदात का कोई वास्ता नहीं है और गाँव में आपसी विवाद के चलते यह वारदात हुई है।

नजदीकी पुलिस स्टेशन हरचन्दपुर में इस मामले पर FIR दायर कर दी गई है और अपराधियों की पहचान करने की प्रक्रिया जारी है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

"वैज्ञानिक नाम्बी नारायणन पर जासूसी का आरोप लगा था लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उनके ख़िलाफ़ लगे सारे आरोपों को निराधार पाया था। वे निर्दोष बरी हुए। लेकिन, किसी को नहीं पता है कि उनके ख़िलाफ़ साज़िश किसने रची? ये सब रतन सहगल ने किया। सहगल हामिद अंसारी का क़रीबी है।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

दलित की पिटाई

मुस्लिम भीड़ द्वारा दलित की बेरहम पिटाई, अमेठी पुलिस ने की पुष्टि: वीडियो Viral पर मीडिया गिरोह में चुप्पी

अमेठी में एक दलित व्यक्ति शशांक को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पीटा। इस दौरान शशांक के साथ-साथ उसके भाई और पत्नी को भी चोटें आईं थीं। इस घटना का वीडियो भी वायरल हुआ। अमेठी पुलिस ने इस घटना की पुष्टि की है। लेकिन मीडिया गिरोह में चुप्पी है, स्क्रीन काली नहीं की गई है।
गौ तस्कर

गौ तस्करी के आरोपित को पकड़ने गई पुलिस पर फायरिंग, महिलाओं ने की पत्थरबाजी: 7 पुलिसकर्मी घायल

गौ तस्कर नुरैन को पकड़ कर जब पुलिस जाने लगी तो महिलाओं समेत सैकड़ों की संख्या में इकट्ठी भीड़ ने पुलिस को घेर लिया। पुलिस पर लाठी-डंडों और पत्थरों से हमला करने लगे। मौका पाकर कुछ युवक नुरैन को ले भागे और पीछे दौड़ते चौकी प्रभारी पर गोलियाँ भी चलाईं।
अस्पताल में मारपीट

सायरा बानो की मौत पर अस्पताल में भीड़ का उत्पात: डॉक्टरों ने किया कार्य बहिष्कार, इमरजेंसी सेवाएँ ठप

सायरा बानो के परिजनों और उनके साथ की भीड़ ने अस्पताल में तोड़फोड़ और मारपीट की। डॉक्टरों ने क्लोक रूम से लेकर बाथरूम में छिप कर जान बचाई। भीड़ को शांत करने के लिए 3 थानों की पुलिस बुलानी पड़ी। भीड़ का आवेश इतना उग्र था कि पुलिस भी लाचार खड़ी देखती रही।
एजाज़ खान

तबरेज का बदला लेगा उसका आतंकवादी बेटा! एजाज़ खान ने TikTok वीडियो में दिया आरोपितों का साथ

हिन्दुओं के खिलाफ हिंसा फैलाने की धमकी देने वाले और संविधान से पहले कुरान को मानने वाले विवादास्पद अभिनेता अजाज़ खान का एक और आपत्तिजनक वीडियो सामने आया है। एजाज़ खान की TikTok प्रोफाइल पर शेयर किए गए इस वीडियो में वह मुंबई पुलिस का मज़ाक उड़ाते नज़र आते हैं।
हत्या

चेहरे को कुचला, हाथ को किया क्षत-विक्षत… उभरती मॉडल ख़ुशी परिहार का बॉयफ्रेंड अशरफ़ शेख़ गिरफ़्तार

चेहरे को पत्थर से कुचल दिया। दाहिने हाथ को क्षत-विक्षत किया गया। यह सब इसलिए ताकि पहचान छिपाई जा सके। लेकिन 3 टैटू, सोशल मीडिया प्रोफाइल और मोबाइल लोकेशन ने अपनी ही गर्लफ्रेंड के हत्या आरोपित अशरफ़ शेख़ को पहुँचाया जेल।
प्रेम, निकाह, धर्म परिवर्तन

बिजनौर: प्यार-धर्म परिवर्तन-बलात्कार के बाद फराज ने आखिर में हड़प लिए ₹5 लाख

एक दिन फराज ने महिला को फोन कर नगीना बुलाया। प्यार का झाँसा देकर उससे निकाह करने की बात कही। फराज ने अक्टूबर, 2016 में मौलवी को बुलवाकर अपने तीन दोस्तों के सामने पहले उसका धर्म परिवर्तन करवाया फिर मौलाना से फर्जी निकाह पढ़वा दिया। इसके बाद उसने महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाए और 5 लाख रुपए भी लिए। कुछ दिन तक सब ठीक चलता रहा, लेकिन कुछ दिन बाद वह महिला से दूरियाँ बनाने लगा।
गिरने से मौत

खिड़की से शादीशुदा GF के घर में घुस रहा था नियाज शेख, 9वीं मंजिल से गिरकर मौत

जिस बिल्डिंग में यह घटना घटी नियाज वहीं 15वीं मंजिल पर रहता था। नियाज 2 साल पहले बिहार से मुंबई आया था और अपने मामा के साथ रहता था। बिल्डिंग की 9वीं मंजिल पर रहने वाली 24 वर्षीय शादीशुदा महिला से उसे प्रेम हो गया। काफी दिनों से उनका प्रेम-प्रसंग चल रहा था। एक दिन मामा ने उसे महिला के घर जाते देख लिया था। इसके बाद नियाज ने दरवाजे की जगह खिड़की से महिला के घर आना-जाना शुरू कर दिया।
मलिक काफूर

परिवार न होना, सत्ता का लालच न होने की गारंटी नहीं, यकीन न हो तो पढ़े मलिक काफूर की कहानी

खम्भात पर हुए 1299 के आक्रमण में अलाउद्दीन खिलजी के एक सिपहसालार ने काफूर को पकड़ा था। कुछ उस काल के लिखने वाले बताते हैं कि उसे मुसलमान बनाकर खिलजी को सौंपा गया था। कुछ दूसरे इतिहासकार मानते हैं कि उसे 1000 दीनार की कीमत पर खरीदा गया था, इसीलिए काफूर का एक नाम 'हजार दिनारी' भी था।
यूपी रोडवेज

UP: बस में पति की मौत, ड्राइवर जुनैद और कंडक्टर सलमान ने शव समेत पत्नी को बीच रास्ते उतारा

मोहम्मद सलमान ने कहा है कि राजू के सीने में दर्द होने पर उसने रामपुर में बस रोकी थी और पास के क्लीनिक से डी.पी सिंह को भी बुलाया था। लेकिन उससे पहले ही राजू की मौत हो चुकी थी। कंडक्टर का कहना है कि उसने यूपी पुलिस के 100 नंबर पर फोन किया, लेकिन वहाँ से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।
मौलाना सुहैब क़ासमी

मॉब लिंचिंग के लिए BJP, RSS नहीं, कॉन्ग्रेस ज़िम्मेदार: मौलाना सुहैब क़ासमी

हाल ही में सूरत नगर निगम (एसएमसी) के एक कॉन्ग्रेस पार्षद असलम साइकिलवाला को पुलिस ने गुजरात के सूरत शहर के अठवा लाइन्स इलाक़े में हुई एक भगदड़ की घटना में हिरासत में लिया था। इस घटना में झारखंड में तबरेज़ अंसारी की कथित रूप से हत्या के ख़िलाफ़ रैली निकाल रहे प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर जमकर पथराव किया था। साइकिलवाला के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 307 के तहत मामला दर्ज किया गया था।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

57,101फैंसलाइक करें
9,637फॉलोवर्सफॉलो करें
74,740सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: