Saturday, May 25, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाआजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के...

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

"जैसा कि हमने वादा किया था कि दीपिका पादुकोण अगर आएँगी तो हमारे कैमरे से नहीं बचेंगी, हमने आपको एक्सक्लूसिव तस्वीरें दे दी हैं। यहीं से दीपिका पादुकोण ने एंट्री की है और वो फेस मास्क पहनी हुई थीं। उनके पहनावे में काफी सादगी थी। कैमरामैन, जरा दिखाइए..."

‘इंडिया टुडे’ और ‘आजतक’ की टीआरपी गिरने और अर्नब गोस्वामी की ‘रिपब्लिक’ की दोनों भाषा में बादशाहत कायम करने के बाद राजदीप सरदेसाई और राहुल कँवल पत्रकारिता की नैतिकता पर ज्ञान बाँच रहे थे। अजीब तो ये है कि जिन चीजों के लिए ये दोनों रिपब्लिक को निशाना बना रहे थे उनका खुद का चैनल भी दिन-रात वही काम कर रहा है। शनिवार को एनसीबी दफ्तर जाते वक्त ‘आजतक’ और ‘इंडिया टुडे’ ने दीपिका पादुकोण का लगातार पीछा किया।

दीपिका पादुकोण के NCB दफ्तर पहुँचने को लेकर ‘आजतक’ ने उसी तरह की रिपोर्टिंग की, जिसके लिए राजदीप सरदेसाई और राहुल कँवल दूसरों की आलोचना करते हैं। एक पत्रकार कहता दिखता है, “हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण“। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा। ‘आजतक’ का ये रिपोर्टर कहता है,

“जैसा कि हमने वादा किया था कि दीपिका पादुकोण अगर आएँगी तो हमारे कैमरे से नहीं बचेंगी, हमने आपको एक्सक्लूसिव तस्वीरें दे दी हैं। यहीं से दीपिका पादुकोण ने एंट्री की है और वो फेस मास्क पहनी हुई थीं। उनके पहनावे में काफी सादगी थी। कैमरामैन, जरा दिखाइए… इस दरवाजे से दीपिका अंदर गई हैं। दीपिका पादुकोण छिपते-छिपाते यहाँ आई हैं। वो जैसे ही यहाँ आईं, ‘आजतक’ के कैमरे ने उन्हें कैद कर लिया। वो अकेले ही आई हैं। माना जा रहा था कि वो अपने घर नहीं, किसी होटल में रुकी हुई थीं।”

इसके बाद स्टूडियो में बैठी एंकर भी कहती हैं कि दीपिका पादुकोण मास्क पहन कर NCB के दफ्तर में जाती दिख रही हैं दीपिका की कार पार्किंग से लेकर सारे डिटेल्स शेयर किए गए, जिनका NCB की पूछताछ से कोई लेना-देना नहीं है। राजदीप सरदेसाई और राहुल कँवल इन्हीं चीजों के लिए दूसरे न्यूज़ चैनलों को पत्रकारिता का पाठ पढ़ाते हैं।

इस दौरान ‘आजतक’ की एक रिपोर्टर यह भी कहती नजर आईं कि दीपिका पादुकोण की कार के पीछे उनके पति रणवीर सिंह की भी कार थी, जिसने NCB की दफ्तर के एंट्रेंस गेट तक आने के बाद दिशा बदल ली। वो कहती हैं, “रणवीर सिंह चाहता थे कि वो दीपिका पादुकोण के साथ रहे, लेकिन वो साथ तो नहीं रह पाया।” राजदीप सरदेसाई ने इससे पहले आरोप लगाया था कि दीपिका पादुकोण को 25 सितम्बर को इसीलिए समन किया गया है, ताकि उस दिन किसानों के हड़ताल पर फोकस न रहे।

लेकिन, उनके खुद के पत्रकार गोवा से लेकर मुंबई तक दीपिका पादुकोण की मिनट दर मिनट की गतिविधियों की रिपोर्टिंग करते नज़र आए। ये तो ‘इंडिया टुडे’ का दोहरा रवैया हुआ, क्योंकि एक तरफ दीपिका को फोकस में रखने को वो सरकार की साजिश बताते हैं और दूसरी तरफ खुद कैमरा लेकर दीपिका के पीछे-पीछे भागते हैं। गोवा में उनके पत्रकारों ने होटल से लेकर एयरपोर्ट तक दीपिका पादुकोण का पीछा किया।

ज्ञात हो कि मीडिया रिपोर्ट्स में सामने आया था कि दीपिका उस व्हाट्सएप ग्रुप की एडमिन थी, जिसमें ड्रग्स को लेकर बॉलीवुड से जुड़े लोग बात करते थे। इस व्हाट्सएप ग्रुप के ज़रिए कई बड़े कलाकारों का नाम सामने आने की संभावना है। दीपिका के अलावा करिश्मा और जाया साहा भी इस ग्रुप की एडमिन थीं। इस व्हाट्सग्रुप में दीपिका पादुकोण के कुल 2 नंबर शामिल थे। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -