Wednesday, April 17, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाशिशु के लिंग के हिसाब से बदलता है माँ के दूध का गुण: सद्गुरु...

शिशु के लिंग के हिसाब से बदलता है माँ के दूध का गुण: सद्गुरु का मजाक उड़ाने वालों की रिसर्च ने खोली पोल

साइंटिफिक रिसर्चों से पता चला है कि माँ का ब्रेस्ट मिल्क बच्चे की ज़रूरत के हिसाब से अपनी प्रवृत्ति में बदलाव करने में सक्षम होता है। न सिर्फ़ वो अपनी मात्रा बदल सकता है, बल्कि रंग और फ्लेवर भी बदल सकता है। ये बच्चे पर निर्भर करता है।

सोशल मीडिया पर हिन्दू संतों का मजाक बनाने का एक चलन सा चल पड़ा है। जब किसी प्रतिष्ठित हिंदुत्ववादी या संत के मुँह से कोई बात निकलती है तो वामपंथी मीडिया उसे मजाक की विषय-वस्तु बना देता है। लाइक और रिट्वीटस’ के लिए इतना नीचे गिर जाता है कि उसके पीछे का कारण जानने की चेष्टा तक नहीं करता। कुछ ऐसा ही सद्गुरु वाले मामले में हुआ। सद्गुरु ने अपने एक सम्बोधन में बताया था कि किसी महिला को अगर बच्चा (मेल चाइल्ड) होता है तो महिला के शरीर में बनने वाले दूध की गुणवत्ता अलग होती है और बच्ची (फीमेल चाइल्ड) के केस में अलग।

‘ऑल्टन्यूज़’ की संस्थापक ने जब ये वीडियो देखा तो उन्होंने इस संबंध में कोई रिसर्च करने की जरूरत नहीं समझी। पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर ट्विटर पर इसका मजाक उड़ा दिया। क्यों? क्योंकि एक संत ने ऎसी बात कही थी। ऐसा करने वाले प्रतीक सिन्हा या ज़ुबैर नहीं, ‘ऑल्टन्यूज़’ की तीसरी संस्थापक सैम जावेद थी। उसने सद्गुरु जग्गी वासुदेव का मजाक उड़ाते हुए लिखा कि इस तरह की बातों को सुन कर उसकी बौद्धिकता को चोट पहुँचती है। साथ ही उसने हँसने वाला इमोजी भी ट्वीट किया।

दरअसल, सैम जावेद का विज्ञान से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है और न ही वो वैज्ञानिक रिसर्च व अध्ययनों की ख़बरों की ओर देखने की जहमत उठाती है। ऐसा इसीलिए, क्योंकि सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने जो भी कहा, वही बात कई वैज्ञानिक रिसर्चों में भी सामने आ चुकी है। सैम जावेद की तरह ही ‘ऑल इंडिया महिला कॉन्ग्रेस’ ने भी सद्गुरु जग्गी वासुदेव का मजाक बनाया। इसके बाद कई अन्य लोगों ने भी उनके बयान की हँसी उड़ाई। इसमें अधिकतर वामपंथी और उनके समर्थक शामिल थे।

दरअसल, साइंटिफिक रिसर्चों से पता चला है कि माँ का ब्रेस्ट मिल्क बच्चे की ज़रूरत के हिसाब से अपनी प्रवृत्ति में बदलाव करने में सक्षम होता है। न सिर्फ़ वो अपनी मात्रा बदल सकता है, बल्कि रंग और फ्लेवर भी बदल सकता है। ये बच्चे पर निर्भर करता है। बीमारी, दूध पिलाने का समय और अन्य कारणों से ये बदलाव हो सकते हैं। केन्या में हुए एक अध्ययन में ये भी स्पष्ट हुआ कि बच्चे और बच्ची के जन्म के हिसाब से माँ के दूध की प्रकृति अलग-अलग हो सकती है।

केन्या में ‘मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी एंड अदर इंस्टीट्यूशंस’ ने 72 महिलाओं पर ये रिसर्च किया। पाया गया कि जिन महिलाओं ने लड़के को जन्म दिया था, उनके दूध में फैट की मात्रा 2.8% थी, जबकि बच्चियों को जन्म देने वाले माँओं के दूध में फैट की मात्रा कम, यानी मात्र 1.4% थी। एक अन्य अध्ययन के मुताबिक, माँ के दूध में शुगर, प्रोटीन और मिनरल्स- इन सभी की मात्रा अलग-अलग हो सकती है, जो बच्चे के लिंग पर निर्भर करता है।हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर कैडटी हेण्डी द्वारा बंदरों पर किए गए रिसर्च में भी ये बात पता चली थी।

सद्गुरु के ईशा फाउंडेशन ने प्रोपेगेंडा वेबसाइट के फर्जी आरोपों का दिया करारा जवाब

सद्गुरु कनकधारा स्तोत्रम की बात कर रहे थे, ‘लिबरल्स’ ढूँढ रहे थे यौन सुख

तुम कंट्रोवर्सी चाहते हो, देश का सवाल है, ऐसा मत करो: सद्गुरु ने राहुल कँवल की ली क्लास

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्कूल में नमाज बैन के खिलाफ हाई कोर्ट ने खारिज की मुस्लिम छात्रा की याचिका, स्कूल के नियम नहीं पसंद तो छोड़ दो जाना...

हाई कोर्ट ने छात्रा की अपील की खारिज कर दिया और साफ कहा कि अगर स्कूल में पढ़ना है तो स्कूल के नियमों के हिसाब से ही चलना होगा।

‘क्षत्रिय न दें BJP को वोट’ – जो घूम-घूम कर दिला रहा शपथ, उस पर दर्ज है हाजी अली के साथ मिल कर एक...

सतीश सिंह ने अपनी शिकायत में बताया था कि उन पर गोली चलाने वालों में पूरन सिंह का साथी और सहयोगी हाजी अफसर अली भी शामिल था। आज यही पूरन सिंह 'क्षत्रियों के BJP के खिलाफ होने' का बना रहा माहौल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe