Thursday, April 22, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया 'फैक्ट चेक' करने वाले ने जब फैलाया फेक न्यूज, प्रोपेगेंडा परोसने के लिए Alt...

‘फैक्ट चेक’ करने वाले ने जब फैलाया फेक न्यूज, प्रोपेगेंडा परोसने के लिए Alt News को पड़ रही गाली

ईवीएम चोरी का दावा करने वाला यह वीडियो फर्जी है और इसे झूठे दावों के साथ जनता के समक्ष पेश किया गया। क्यों? क्योंकि चुनाव आयोग ने तब खुद ही इस मामले पर प्रेस में स्पष्टीकरण जारी किया था, सभी मीडिया ने इसे चलाया भी था लेकिन Alt News वालों ने प्रोपेगेंडा के तहत...

भाजपा को बदनाम करने के लिए ऑल्ट न्यूज का नया कारनामा उजागर हुआ है। इस कारनामे को जानने के बाद आपको भी एक बार फिर साफ होगा कि ऑल्ट न्यूज का काम फैक्ट चेक आदि करने का नहीं, बल्कि भाजपा के ख़िलाफ़ केवल प्रोपेगेंडा चलाने का है। दरअसल, सोशल मीडिया पर कुछ दिन पहले अनऑफिशियल: सुब्रमण्यम स्वामी नाम के फेसबुक पेज पर एक वीडियो डाली गई। वीडियो में दावा किया गया कि भाजपा कार्यकर्ता ईवीएम मशीनों की चोरी कर रहे हैं। अब आप सोचेंगे इससे ऑल्ट न्यूज का क्या कनेक्शन? तो बता दें कि अनऑफिशियल: सुब्रमण्यम स्वामी नाम के फेसबुक पेज को ऑल्ट न्यूज के को-फॉउंडर द्वारा संचालित किया जाता है। इसलिए इस फेक न्यूज को प्रचारित-प्रसारित करने का सीधा संबंध ऑल्ट न्यूज से ही है।

पेज पर शेयर किए गए फेसबुक पोस्ट पर वैसे तो अभी तक 510 लाइक और 243 शेयर आ चुके हैं। लेकिन वीडियो अब यहाँ मौजूद नहीं है। शायद हकीकत खुलने के बाद इसे हटाया गया। जानकारी के अनुसार, इस वीडियो को एनएस न्यूज ने 8 फरवरी को अपने यूट्यूब पर अपलोड किया था। साथ ही इस पर लिखा – “दिल्ली इलेक्शन के बाद भाजपा कार्यकर्ता ईवीएम चोरी करते पकड़े गए। देखिए, किस तरह इलेक्शन के बाद ईवीएम मशीन रिप्लेस की जा रही है। इनका स्थान बदला जा रहा है।”

जो विडियो हटा लिया गया है, उसमें एक शख्स ईवीएम के गायब होने का दावा कर रहा था। यह भी कहा जा रहा था कि दिल्ली के कबीरनगर की गली नंबर 4 पर SVN पब्लिक स्कूल के इम्प्लॉयज को भाजपा के साथ मिलकर ईवीएम चोरी करते पकड़ा गया। इसके अलावा वीडियो में ईवीएम हटाए जाने की बात को भी स्पष्ट तौर पर बोला गया था। लेकिन, अब हकीकत क्या है? आइए जानें… दरअसल, ईवीएम चोरी का दावा करने वाला यह वीडियो फर्जी है और इसे झूठे दावों के साथ जनता के समक्ष पेश किया गया। दिल्ली के बाबरपुर में किसी भाजपा कार्यकर्ता ने स्ट्रॉन्ग रूम से ईवीएम मशीन नहीं चुराई और न ही किसी ने उनकी मदद की।

अगर हम टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट ‘Delhi polls 2020: Replacement poll equipment led to confusion, says EC’ देंखें, तो स्पष्ट होगा कि उन दोनों मशीनों को केवल रिप्लेसमेंट के लिहाज से रखा गया था। उनका इस्तेमाल नहीं हुआ था। इसके अलावा इस मामले पर कन्फ्यूजन होने के कारण मुख्य चुनाव अधिकारी ने भी उस समय अपनी सफाई पेश की थी। उन्होंने उन दो ईवीएम पर सफाई पेश करते हुए कहा कि बस में रिजर्व ईवीएम थीं, जिनका वोटिंग में इस्तेमाल नहीं हुआ था। उन्होंने लोगों द्वारा बस को घेरने समेत उसके बाद क्या-क्या हुआ, उसका तफसील से ब्यौरा भी दिया था। आयोग ने साफ कहा था कि लोगों को गलतफहमी हुई थी, मगर अब सभी पक्ष संतुष्ट हैं।

फेक न्यूज फैलाते फिर पकड़ा गया ऑल्ट न्यूज

जानकारी के लिए बता दें कि चीफ इलेक्शन अधिकारी रणबीर सिंह का ये बयान लगभग हर मीडिया हाउस ने उस समय कवर किया था। मगर फिर भी ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक ने अपने पेज पर इस झूठ को फैलते रहने दिया। उन्होंने इस न्यूज का कोई फैक्ट चेक तक नहीं किया, न ही इस पर सवाल उठाए, बल्कि ऑल्ट न्यूज ने तो इसका इस्तेमाल भाजपा के ख़िलाफ़ प्रोपेगेंडा फैलाने के लिए किया और वीडियो शेयर करते हुए लिखा था – भाजपा अब हमें और हैरान नहीं कर सकती।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मतुआ समुदाय, चिकेन्स नेक और बांग्लादेश से लगे इलाके: छठे चरण में कौन से फैक्टर करेंगे काम, BJP से लोगों को हैं उम्मीदें

पश्चिम बंगाल की जनता उद्योग चाहती है, जो उसके हिसाब से सिर्फ भाजपा ही दे सकती है। बेरोजगारी मुद्दा है। घुसपैठ और मुस्लिम तुष्टिकरण पर TMC कोई जवाब नहीं दे पाई है।

अंबानी-अडानी के बाद अब अदार पूनावाला के पीछे पड़े राहुल गाँधी, कहा-‘आपदा में मोदी ने दिया अपने मित्रों को अवसर’

राहुल गाँधी पीएम मोदी पर देश को उद्योगपतियों को बेचने का आरोप लगाते ही रहते हैं। बस इस बार अंबानी-अडानी की लिस्ट में अदार पूनावाला का नाम जोड़ दिया है।

‘सरकार ने संकट में भी किया ऑक्सीजन निर्यात’- NDTV समेत मीडिया गिरोह ने फैलाई फेक न्यूज: पोल खुलने पर किया डिलीट

हालाँकि सरकार के सूत्रों ने इन मीडिया रिपोर्ट्स को भ्रांतिपूर्ण बताया क्योंकि इन रिपोर्ट्स में जिस ऑक्सीजन की बात की गई है वह औद्योगिक ऑक्सीजन है जो कि मेडिकल ऑक्सीजन से कहीं अलग होती है।

देश के 3 सबसे बड़े डॉक्टर की 35 बातें: कोरोना में Remdesivir रामबाण नहीं, अस्पताल एक विकल्प… एकमात्र नहीं

देश में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। 2.95 लाख नए मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़ कर...

‘गैर मुस्लिम नहीं कर सकते अल्लाह शब्द का इस्तेमाल, किसी अन्य ईश्वर से तुलना गुनाह’: इस्लामी संस्था ने कहा- फतवे के हिसाब से चलें

मलेशिया की एक इस्लामी संस्था ने कहा है कि 'अल्लाह' एक बेहद ही पवित्र शब्द है और इसका इस्तेमाल सिर्फ इस्लाम के लिए और मुस्लिमों द्वारा ही होना चाहिए।

आज वैक्सीन का शोर, फरवरी में था बेकारः कोरोना टीके पर छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार ने ही रचा प्रोपेगेंडा

आज छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री इस बात से नाखुश हैं कि पीएम ने राज्यों को कोरोना वैक्सीन देने की बात नहीं की। लेकिन, फरवरी में वही इसके असर पर सवाल उठा रहे थे।

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,787FansLike
82,850FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe