Thursday, January 21, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया कड़ाके की ठंड, घुप्प अँधेरी रात, 20 किमी घुमाया, कपड़े उतरवाए: दिलीप मंडल का...

कड़ाके की ठंड, घुप्प अँधेरी रात, 20 किमी घुमाया, कपड़े उतरवाए: दिलीप मंडल का विरोध करने की सजा

मध्य प्रदेश में कॉन्ग्रेस की सरकार बन​ते ही माखनलाल विश्वविद्यालय में राजनीतिक प्रयोग का सिलसिला शुरू हुआ। इसके तहत ही कुछ महीने पहले अनुबंध पर दिलीप मंडल और मुकेश कुमार की नियुक्ति हुई। इन्हीं प्रयोगों का परिणाम है कि पत्रकार पैदा करने वाले संस्थान में आज जातिगत भेदभाव चरम पर है।

सौरभ कुमार, प्रखरादित्य, राघवेन्द्र, आशुतोष, अभिलाष, अर्पित, अंकित, रविरंजन… ये चंद नाम हैं जो हाल ही में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के एमपी नगर थाने की कागजों में दर्ज किए गए हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों से आए ये उन छात्रों के नाम हैं जो भोपाल में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मीडिया की पढ़ाई कर रहे हैं। इनका कसूर यह है कि इन्होंने यूनिवर्सिटी प्रशासन से दो प्राध्यापकों के खिलाफ जातिगत भेदभाव को लेकर शिकायत की। प्रशासन ने उनकी नहीं सुनी तो वे शांतिपूर्वक धरने पर बैठ गए। प्रशासन को यह नागवार गुजरा और पुलिस फौरन हरकत में आई। इसके बाद इन छात्रों के साथ क्या हुआ इसकी कहानी पर आने से पहले उन दो प्रोफेसरों का नाम जान लीजिए जो आरोपों के घेरे में हैं।

एक हैं दिलीप मंडल। मंडल साहब के ब्राह्मणवाद विरोधी ट्वीट पर सोशल मीडिया में आपकी नजर पड़ती ही होगी। ये ब्राह्मणवादी ट्विटर से लड़कर ब्लू टिक लेने के लिए भी कु-ख्यात हैं। दूसरे हैं मुकेश कुमार। प्रदेश में कॉन्ग्रेस की सरकार बनने के बाद इस विश्वविद्यालय में राजनीतिक जो प्रयोगों का सिलसिला शुरू हुआ है उसके तहत ही कुछ महीने पहले दोनों की अनुबंध पर नियुक्ति हुई है। आरोप है कि दोनों प्रोफेसर ने छात्रों के बीच जातिगत भेदभाव कर माहौल खराब कर रहे हैं।

इस संबंध में 11 दिसंबर को छात्रों ने कुलपति के नाम एक लिखित आवेदन दिया था। उन्होंने शिकायत की थी कि दिलीप सी मंडल और मुकेश कुमार जाति के आधार पर छात्रों के साथ भेदभाव करते हैं और जातिगत कटुता बढ़ाने का काम कर रहे हैं। छात्रों का आरोप है कि दिलीप मंडल और मुकेश कुमार सोशल मीडिया पर जाति विशेष को लेकर लगातार पोस्ट कर रहे हैं। छात्रों ने 24 घंटे इंतजार किया मगर इस दौरान विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से न तो उनसे संपर्क करने की कोई कोशिश की गई और न ही ज्ञापन से संबंधित कोई जवाब दिया गया। उल्टा कुलपति ने इनके खिलाफ नामजद शिकायत दर्ज करवा दी।

छात्र अर्पित शर्मा ने ऑप इंडिया को बताया कि दिलीप मंडल और मुकेश कुमार क्लास में छात्रों की जाति जानना चाहते हैं। जाति का पता चलने के बाद कथित तौर पर सवर्ण छात्रों से बदतमीज़ी करते हैं। इसके लिए वो क्लास में आते ही छात्र से पूरा नाम पूछते हैं और सवर्ण होने पर उन पर जातिगत टिप्पणियाँ की जाती है। उनके साथ दुर्व्यवहार किया जाता है।

नई दुनिया में प्रकाशित खबर

इससे त्रस्त छात्र जब 12 दिसंबर को कुलपति को दिए ज्ञापन का जवाब माँगने पहुँचे तो किसी ने उनसे बात नहीं की। इसके बाद छात्र कुलपति कार्यालय के सामने शांतिपूर्ण धरने पर बैठ गए और भजन करने लगे। विश्वविद्यालय प्रशासन ने काफी देर तक छात्रों से कोई बातचीत नहीं की। उसके बाद विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार दीपक बघेल छात्रों से बात करने आए मगर उनकी कोई बात नहीं सुनी। उन्होंने छात्रों को भगाने की कोशिश की। छात्रों ने जब कुलपति से फोन पर बात करनी चाही तो तरह-तरह के बहाने बनाए जाने लगे। उनसे कहा गया कि वह सेमिनार में हैं और फोन पर उपलब्ध नहीं हो सकते। फिर जब उन्होंने लिखित आश्वासन माँगा तो रजिस्ट्रार एवं विभागाध्यक्षों ने कहा कि वो लिखित में नहीं दे सकते लेकिन कुलपति के साथ उनकी बात करा सकते हैं।

अगले दिन जब छात्र कुलपति से मिलने पहुँचे तो सभी को कॉन्फ्रेंस हॉल में बैठाया गया। उनसे कहा गया कि वे अपना नाम, कोर्स और मोबाइल नंबर लिख कर दें। इसके बाद कुलपति ने छात्रों से चर्चा की। चर्चा के दौरान कुलपति ने सभी की बातें सुनी, उन्होंने सभी बोलने का मौका तो दिया, लेकिन कोई समाधान नहीं दिया। छात्रों ने अपनी माँगों के संबंध में कुलपति से लिखित आश्वासन की माँग की, जिसके लिए भी कुलपति ने साफ तौर पर इनकार कर दिया।

पीड़ित छात्र सौरव कुमार सुना रहे पुलिसिया जुल्म की दास्तॉं

विश्विद्यालय के एक छात्र सौरभ कुमार ने इस घटना के बारे में ऑप इंडिया को बताया, “कुलपति द्वारा माँगों को न माने के बाद विद्यार्थी शांतिपूर्वक कुलपति कक्ष के बिल्कुल बाहर गाँधीवादी तरीके से धरने पर बैठ गए। इस दौरान हम सब ‘रघुपति राघव राजा राम’ का पाठ कर रहे थे एवं संविधान की पुस्तक अपने साथ लेकर बैठे थे। हमने किसी का भी रास्ता नहीं रोका था। इस दौरान शिक्षकों एवं अन्य आगंतुकों की आवाजाही बनी रही, जो कि  सीसीटीवी में साफ तौर पर देखा जा सकता है। थोड़ी देर बाद पुलिस पहुँची और हमे हटने की चेतावनी दी गई। हम शांतिपूर्वक भजन करते रहे।”

सौरभ ने आगे बताया कि इसके पुलिस ने बलपूर्वक विद्यार्थियों को धकेलना शुरू किया। फिर पुलिस उन्हें जबरदस्ती सीढ़ियों से घसीटकर नीचे ले गई। इस दौरान एक छात्र आशुतोष भार्गव के पाँव में  फ्रैक्चर हो गया। अन्य छात्रों को भी चोटें आई। लेकिन पुलिसिया दमन नहीं रुका।

एक छात्र आकाश शुक्ला के सीने में चोट लगी और वह बेहोश हो गए। इसके बावजूद कोई पुलिसकर्मी या प्रशासन का कोई व्यक्ति छात्रों की मदद के लिए नहीं आया। छात्रों को जब पुलिस ने बलपूर्वक बिल्डिंग से बाहर निकाल दिया तो वे मुख्य द्वार की सीढ़ियों के पास धरने पर बैठ गए।

एक अन्य छात्र रवि रंजन ने बताया उनके जिन साथियों को चोंटें लगीं थीं, उनकी फर्स्ट एड की व्यवस्था भी नहीं की गई। छात्रों ने खुद ही अपनी ज़ख्म साफ किए। कुछ देर बाद रात 9 बजे के करीब पुलिस ने 10 मिनट के अंदर परिसर खाली न करने पर लाठी चार्ज करने की धमकी दी। छात्रों ने परिसर खाली करने से इनकार किया तो पुलिस ने बल प्रयोग कर उन्हें गिरफ्तार किया। इतना ही नहीं गिरफ्तार करने के बाद बगल के एमपी नगर थाने ले जाने की बजाए ठंड की रात में पुलिस छात्रों को लगभग 20 किलोमीटर दूर बिलखिरिया थाने ले गई (वीडियो में सुनें सौरभ कुमार का बयान)।

थाने में देर रात छात्रों के कपडे उतरवाए गए। इसके बाद छात्रों को कुछ कागजों पर दस्तख़त के लिए मजबूर किया गया। आखिरकार 4 घंटे के बाद छात्रों को एमपीनगर थाने लाया गया और रात के 2 बजे के आसपास छात्रों को कागजों पर दस्तखत करवा कर छोड़ दिया गया। पीड़ित छात्रों ने बताया की अभी तक 25 लोगों पर नामज़द FIR दर्ज करवाया गया है। रघुपति राघव राजा राम गा रहे छात्रों पर बलवे की धारा लगाई गई है। इस संबंध में हमने पुलिस का पक्ष जानने की कोशिश की पर बात नहीं हो पाई।

छात्र दोनों प्रोफेसरों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई चाहते हैं। एक समिति बनाई गई है। कमेटी 15 दिनों के भीतर रिपोर्ट देगी। सौरभ ने बताया कि रजिस्ट्रार दीपेंद्र बघेल ने उनकी दो माँगें तो मान ली है। लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रों पर कर्मचारियों के साथ जातिसूचक शब्दों के इस्तेमाल का जो आरोप लगाया था उसका अब तक खंडन नहीं किया गया है। रजिस्ट्रार दीपेंद्र बघेल ने बताया, “मामले की जाँच की जा रही है। जाँच पूरी होने तक दिलीप मंडल और मुकेश कुमार विश्वविद्यालय में प्रवेश नहीं करेंगे।”

दिलीप मंडल पढ़ाने की जगह ‘जाति के आधार पर विभाजन’ खड़ा कर रहे हैं: माखनलाल यूनिवर्सिटी में बवाल

पूरा नाम क्या है? जाति जानने के बाद प्रताड़ित करते हैं दिलीप मंडल: माखनलाल यूनिवर्सिटी के छात्र

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ढाई साल की बच्ची का रेप-मर्डर, 29 दिन में फाँसी की सजा: UP पुलिस और कोर्ट की त्वरित कार्रवाई

अदालत ने एक ढाई साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई है। UP पुलिस की कार्रवाई के बाद यह फैसला 29 दिन के अंदर सुनाया गया है।

मोदी सरकार निकम्मों की तरह क्यों देख रही है किसान आंदोलन को?

किसान आंदोलन को ले कर मोदी सरकार का रवैया ढीला, हल्का और निकम्मों जैसा क्यों दिख रहा है? मोदी की क्या मजबूरी है आखिर?

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

127 साल पुरानी बाइबिल से शपथ लेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन: जानिए क्या है ऐसा करने की खास वजह

यह बाइबिल बाइडेन के पिता की ओर से है। जोकि 1893 से उनके परिवार के पास है। उन्होंने अपने सभी सात शपथ ग्रहण समारोहों के लिए एक ही बाइबिल का उपयोग किया है।

एक ही जामा मस्जिद 2-2 जगहों पर.. नई बन गई, फिर भी पुरानी पर अवैध कब्जा: टिहरी डैम की सरकारी जमीन को लेकर एक्शन...

विस्थापन नीति के तहत जब पुरानी टिहरी से मंदिर-मस्जिद का विस्थापन कर दिया गया था तो अब भी THDC क्षेत्र में यह जामा मस्जिद कैसे जारी है?

‘अल्लाह’ पर टिप्पणी के कारण कंगना के अकॉउंट पर लगा प्रतिबंध? या वामपंथियों ने श्रीकृष्ण से जुड़े प्रसंग को बताया ‘हिंसक’?

"जो लिब्रु डर के मारे मम्मी की गोद में रो रहे हैं। वो ये पढ़ लें कि मैंने तुम्हारा सिर काटने के लिए नहीं कहा। इतना तो मैं भी जानती हूँ कि कीड़े मकोड़ों के लिए कीटनाशक आता है।"

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

महाराष्ट्र पंचायत चुनाव में 3263 सीटों के साथ BJP सबसे बड़ी पार्टी, ठाकरे की MNS को सिर्फ 31 सीट

महाराष्ट्र में पंचायत चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी। शिवसेना ने दावा किया है कि MVA को राज्य की ग्रामीण जनता ने पहली पसंद बनाया।

‘अश्लील बातें’ करने वाले मुफ्ती को टिकटॉक स्टार ने रसीद किया झन्नाटेदार झापड़: देखें वायरल वीडियो

टिकटॉक स्टार कहती हैं, "साँप हमेशा साँप रहता है। कोई मलतलब नहीं है कि आप उससे कितनी भी दोस्ती करने की कोशिश करो।"

देवी-देवताओं को गाली देने वाले फारुकी के बचाव में सामने आया एक और ‘कॉमेडियन’, किया कश्मीरी पंडितों के नरसंहार का इस्तेमाल

“आज कश्मीरी पंडित नरसंहार के 31 साल पूरे हो गए हैं। मैं चाहता हूँ कि मैं अपनी मातृभूमि, कश्मीर वापस जाऊँ, जहाँ मुझे अपनी न्यायिक प्रणाली की मृत्यु के बारे में पढ़ने के लिए इंटरनेट नहीं होगा।”
- विज्ञापन -

 

ढाई साल की बच्ची का रेप-मर्डर, 29 दिन में फाँसी की सजा: UP पुलिस और कोर्ट की त्वरित कार्रवाई

अदालत ने एक ढाई साल की बच्ची के साथ रेप और हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई है। UP पुलिस की कार्रवाई के बाद यह फैसला 29 दिन के अंदर सुनाया गया है।
00:30:41

मोदी सरकार निकम्मों की तरह क्यों देख रही है किसान आंदोलन को?

किसान आंदोलन को ले कर मोदी सरकार का रवैया ढीला, हल्का और निकम्मों जैसा क्यों दिख रहा है? मोदी की क्या मजबूरी है आखिर?

TMC की धमकी- ‘गोली मारो… से लेकर बंगाल माँगोगे तो चीर देंगे’ पर BJP का पलटवार, पूछा- क्या यह ‘शांति’ की परिभाषा है?

टीएमसी की रैली में 'बंगाल के गद्दारों को गोली मारो सालो को' जैसे नारे लगा कर BJP कार्यकर्ताओं को जान से मारने की धमकी दी तो वहीं ममता सरकार में परिवहन मंत्री ने भाजपा को लेकर कहा, "अगर दूध माँगोगे तो खीर देंगे, लेकिन अगर बंगाल माँगोगे तो चीर देंगे।"

मंदिर की दीवारों पर ईसाई क्रॉस पेंट कर चर्च में बदलने की कोशिश, पहले भी मूर्तियों और दानपात्र को पहुँचाई गई थी क्षति

तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में एक हिंदू मंदिर की दीवारों पर ईसाई क्रॉस चिन्ह पेंट कर उसे एक चर्च में बदलने का प्रयास किया गया है।

आएँगे हम.. अंगद के पाँव की तरह: कश्मीर घाटी से पलायन की पीड़ा कविता और अभिनय से बयाँ करती अभिनेत्री भाषा

डेढ़ साल की थीं भाषा सुंबली जब अपनी माँ की गोद में रहते हुए उन्हें कश्मीर घाटी छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा। 19 जनवरी 1990 की उस भयावह रात को अब 31 साल बीत गए हैं।

3 में 3 स्टार, 4 लाख में 4… ऐसे दी जाती है बॉलीवुड फिल्मों की रेटिंग: फिल्ममेकर ने खुद बताई हकीकत

विकास खन्ना ने कहा कि उन्हें 'पक्षपात और भाई-भतीजावाद का पहला अनुभव' हुआ जब क्रिटिक्स में से एक ने उन्हें उनकी फिल्म के रिव्यू के लिए पैसे देने के लिए कहा और इसके लिए राजी नहीं होने पर उन्हें बर्बाद करने की धमकी भी दी गई थी।

चारों ओर से घिरी Tandav: मुंबई, UP में FIR के बाद अब इंदौर के न्यायालय में हुई शिकायत दर्ज

UP पुलिस 'तांडव' की पूरी टीम और अमेजन प्रबंधन से पूछताछ कर रही है तो दूसरी ओर इंदौर में अब तांडव को लेकर जारी आक्रोश न्यायालय तक पहुँ च गया है।

‘हर बच्चा एक मुसलमान के रूप में पैदा होता है’: भगोड़े जाकिर नाइक का एक और ‘हास्यास्पद’ दावा, देखें वीडियो

डॉ. जाकिर नाइक ने इस बार एक और विवादित दावा किया है। यूट्यूब चैनल पर अपलोड किए गए अपने एक वीडियो में उसने दावा किया है कि 'हर बच्चा मुसलमान पैदा होता है।'

127 साल पुरानी बाइबिल से शपथ लेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन: जानिए क्या है ऐसा करने की खास वजह

यह बाइबिल बाइडेन के पिता की ओर से है। जोकि 1893 से उनके परिवार के पास है। उन्होंने अपने सभी सात शपथ ग्रहण समारोहों के लिए एक ही बाइबिल का उपयोग किया है।

एक ही जामा मस्जिद 2-2 जगहों पर.. नई बन गई, फिर भी पुरानी पर अवैध कब्जा: टिहरी डैम की सरकारी जमीन को लेकर एक्शन...

विस्थापन नीति के तहत जब पुरानी टिहरी से मंदिर-मस्जिद का विस्थापन कर दिया गया था तो अब भी THDC क्षेत्र में यह जामा मस्जिद कैसे जारी है?

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
383,000SubscribersSubscribe