Sunday, July 3, 2022
Homeरिपोर्टमीडिया'The Hindu' के चेन्नई हेडक्वार्टर में चीन का राजदूत, जानिए कैसे बीजिंग के प्रोपेगेंडा...

‘The Hindu’ के चेन्नई हेडक्वार्टर में चीन का राजदूत, जानिए कैसे बीजिंग के प्रोपेगेंडा को आगे बढ़ाता है वामपंथी मीडिया संस्थान

वीडियो में वेइदॉन्ग को संपादक सुरेश नंबथ और अन्य पत्रकारों के साथ बातचीत और विचारों का आदान-प्रदान करते हुए देखा जा सकता है। उन्हें पूरे मीडिया आउटलेट के कामकाज की प्रशंसा करते हुए भी देखा जा सकता है।

चीन के राजदूत सन वेइदॉन्ग (Chinese Ambassador Sun Weidong) भारत की दो दिवसीय यात्रा पर तमिलनाडु आए हुए हैं। यहाँ उन्होंने वामपंथी आउटलेट द हिंदू के मुख्यालय का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने संपादक सुरेश नंबथ और स्टाफ के अन्य सदस्यों से मुलाकात की। सन वेइदॉन्ग ने इस मुलाकात का वीडियो अपने ट्विटर हैंडल पर भी शेयर किया है। उन्होंने लिखा, “द हिंदू के मुख्यालय का दौरा किया। आमने-सामने बैठकर कई मुद्दों पर बातचीत की, जो हमारी आपसी समझ और विश्वास को बढ़ावा देता है। चीन और अन्य मुद्दों पर बातचीत करने के लिए आप सभी का स्वागत है।”

वीडियो में वेइदॉन्ग को संपादक सुरेश नंबथ और अन्य पत्रकारों के साथ बातचीत और विचारों का आदान-प्रदान करते हुए देखा जा सकता है। उन्हें पूरे मीडिया आउटलेट के कामकाज की प्रशंसा करते हुए भी देखा जा सकता है। अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान राजदूत ने चेन्नई में स्टेट इंडस्ट्रीज प्रमोशन कॉरपोरेशन ऑफ तमिलनाडु (SIPCOT) औद्योगिक पार्क का भी दौरा किया और कार्यकारी दल के साथ दोस्ती के पेड़ लगाए। उन्होंने कहा, “चीन और भारत, दोनों उभरती अर्थव्यवस्थाओं में व्यापार और निवेश दोनों के लिए लाभकारी हैं।”

हालाँकि, चीनी राजदूत की वामपंथी मीडिया आउटलेट के मुख्यालय में यात्रा नेटिज़न्स को रास नहीं आई। जैसा कि अक्सर देखा गया है कि द हिंदू अपने लेखों में अक्सर चीन का और उसकी नीतियों का समर्थन करता दिखाई देता है। इसको लेकर एक यूजर ने कहा कि सन वेइदॉन्ग भारत में चीनी ऑफिस की एक ब्रांच का दौरा कर रहा है और अपने स्टाफ के साथ बातचीत कर रहा है। सीईओ का कर्मचारियों से बात करने के लिए ऑफिस में आना कोई नई बात नहीं है।

इस बीच, एक अन्य यूजर ने ट्विटर पर याद किया कि ‘द हिंदू’ ने वर्ष 2021 में चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना के 100 साल पूरे होने का जश्न मनाते हुए फुल पेज का चीनी विज्ञापन प्रकाशित किया था।

चीनी राजदूत की वामपंथी मीडिया हाउस में यात्रा को लेकर कुछ दूसरे रिएक्शन:

1 जुलाई को ‘द हिंदू’ ने चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की शताब्दी की वर्षगाँठ पर पूरे पृष्ठ का विज्ञापन प्रकाशित किया। यह पेड कंटेंट समाचार पत्र के तीसरे पेज पर था। दिलचस्प बात यह है कि चीन द्वारा जो पेड कंटेंट प्रकाशित किया गया था, वह नियमित रिपोर्ट की तरह ही दिखाई दे रहा था, लेकिन बारीकी से देखने पर पता चला कि यह चीन द्वारा पेड कंटेंट था।

जुलाई 2021 में द हिंदू द्वारा प्रदर्शित पेड कंटेंट

बता दें कि 1 अक्टूबर, 2020 को, द हिंदू ने अपने राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर चीन द्वारा पेड एक फुल पेज का विज्ञापन प्रकाशित किया था। पैसा कमाने और कम्युनिस्ट प्रचार को आगे बढ़ाने की जल्दी में, द हिंदू ने भारतीय सैनिकों के बलिदान वाले दिन खुले तौर पर एक चीनी विज्ञापन प्रकाशित किया था। इसके बाद में आयकर विभाग ने अखबार और चीन के बीच कथित वित्तीय लेनदेन को लेकर अंग्रेजी दैनिक समाचार पत्र के खिलाफ जाँच शुरू की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

8 लोग थे निशाने पर, एक डॉक्टर को वीडियो बना माँगनी पड़ी थी माफ़ी: उमेश कोल्हे के गले पर 5 इंच चौड़ा, 7 इंच...

उमेश कोल्हे के गले पर जख्म 5 इंच चौड़ा, 5 इंच लंबा और 5 इंच गहरा था। साँस वाली नली, भोजन निगलने वाली नली और आँखों की नसों पर भी वार किए गए थे।

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe