Wednesday, June 26, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'डोनर्स के फंड का सही इस्तेमाल नहीं, एजेंसियाँ कर रहीं जाँच': राणा अयूब के...

‘डोनर्स के फंड का सही इस्तेमाल नहीं, एजेंसियाँ कर रहीं जाँच’: राणा अयूब के सोशल वर्क की Ketto ने खोली पोल

राणा अयूब ने बताया है कि उन्हें अभियानों में लगभग ₹2.69 करोड़ मिले थे, जिसमें भारतीय दानदाताओं से ₹1.90 करोड़ और विदेशी दान में $1.09 लाख शामिल थे।

फंड इकट्ठा करने वाले प्लेटफॉर्म केटो (ketto) ने पत्रकार राणा अयूब के सोशल वर्क की पोल खोली है। पता चला है कि इस प्लेटफॉर्म से फंड रेज होने के बाद उसका सही इस्तेमाल नहीं हुआ और इस फंड का बहुत हिस्सा अब भी अकाउंट में ही है। केटो ने राणा द्वारा चलाए जा रहे कैंपेन में शामिल डोनर्स को मेल भेजकर बताया कि भारतीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा यह सूचित किया गया है कि राणा अयूब द्वारा जुटाए गए धन का उपयोग अभियानों में उल्लिखित उद्देश्यों के लिए नहीं किया गया था।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक केटो पर राणा अयूब ने तीन कैंपेन चलाए। एक झुग्गीवासियों और किसानों के लिए; दूसरा असम, बिहार और महाराष्ट्र में राहत कार्य के लिए और तीसरा भारत में कोविड -19 प्रभावित लोगों की मदद के लिए। मालूम हो कि इन अभियानों की वैधता के बारे में संदेह पहले से ही उठाया गया था, क्योंकि पत्रकार होने के बावजूद, अयूब एफसीआरए पंजीकरण के बिना विदेशी दान स्वीकार कर रहीं थी और इस प्रकार वह FEMA के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन कर रही थीं।

Image
केटो द्वारा भेजा गया मेल

प्लेटफॉर्म के अनुसार, राणा अयूब ने उन्हें बताया है कि उन्हें अभियानों में लगभग ₹2.69 करोड़ मिले थे, जिसमें भारतीय दानदाताओं से ₹1.90 करोड़ और विदेशी दान में $1.09 लाख शामिल थे। एकत्र किए गए कुल ₹2.69 करोड़ में से, उन्होंने लगभग ₹1.25 करोड़ खर्च किए और उन्हें कर के रूप में फंड से ₹90 लाख का भुगतान करना बाकी है। इसका मतलब है कि लगभग ₹1.44 करोड़ अभी भी खातों में पड़े हैं। इसमें से ₹90 लाख टैक्स लायबिलिटी है, जबकि शेष ₹54 लाख कभी भी इच्छित लाभार्थियों तक नहीं पहुँचे।

केटो ने कहा कि वे अभियान के दानदाताओं को इसकी सूचना दे रहे हैं, क्योंकि इस मामले को भारत में कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने उठाया है। उन्होंने बताया कि वह अपने मंच पर अभियानों के माध्यम से जुटाए गए धन के उपयोग की पुष्टि, या पर्यवेक्षण नहीं करते हैं। केटो ने कहा कि दानदाताओं को उपयोग किए गए धन के विवरण के लिए प्रचारकों से संपर्क करना होगा।

बता दें कि कोविड-19 राहत कार्य के नाम पर फंड रेजिंग में सामने आई हेरफेर के बाद राणा अयूब ने इस अभियान को खत्म कर दिया था। इस मामले में ऐसे सवाल उठे थे कि राणा देश के FCRA कानूनों का उल्लंघन कर रही थीं। इसके अलावा लोगों की चिंता ये भी थी कि वह एक एनजीओ के माध्यम से अभियान चलाने के बजाय अपने निजी बैंक खातों का उपयोग कर रही थीं। सभी प्रश्नों के बीच राणा ने इस साल मई में अपने फंड रेजिंग अभियान को समाप्त करने का फैसला किया था।

उल्लेखनीय है कि इस पूरे मामले में एक ओर राणा अयूब यह घोषणा कर चुकी थीं कि वो एफसीआरए के उल्लंघन से बचने के लिए विदेशी दान वापस कर देंगी, लेकिन दूसरी ओर केटो मेल यह स्पष्ट करता है कि उन्होंने किसी भी विदेशी दान को वापस नहीं किया है। उन्होंने विदेशी चंदे में $1.09 लाख एकत्र किए थे और केटो मेल में किसी भी धनवापसी का उल्लेख नहीं है, जिसका अर्थ है कि उन्होंने दान वापस करने के बारे में झूठ बोला था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -