Thursday, February 25, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया ऑल्टन्यूज के जुबैर ने BJP प्रवक्ता गौरव भाटिया के दावे पर उठाए सवाल, फिर...

ऑल्टन्यूज के जुबैर ने BJP प्रवक्ता गौरव भाटिया के दावे पर उठाए सवाल, फिर खुद लगाई मुहर

गौरव भाटिया द्वारा ट्विटर पर वीडियो पोस्ट करते ही जुबैर ने उछलकर ऑल्टन्यूज के कथित फैक्ट चेक का एक लिंक डाला। हालाँकि यह बात अलग है कि उसमें बीजेपी प्रवक्ता ने जो कहा उनके एक शब्द को भी खारिज नहीं किया गया है।

धुर वामपंथी प्रोपेगेंडा वेबसाइट ऑल्टन्यूज को फैक्टचेकर के तौर पर लगातार गलत चीजों का बचाव करने और फेक न्यूज फैलाने की आदत पड़ गई है। तथ्यों को भी झुठलाने की कोशिश में ये कथित फैक्टचेकर भ्रामक निष्कर्ष निकालकर पेश करते हैं। ऐसा ही कुछ तब हुआ कि जब बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने एक मस्जिद में लोगों के इकट्ठा होने का वीडियो अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट किया।

गौरव भाटिया ने वीडियो साझा करते हुए कहा, “अगर यह जाहिलियत नहीं तो क्या है? क्या ये लोग देश के कानून से भी ऊपर हैं? यदि उनकी आलोचना करो तो कहते हैं कि हमारे धर्म को निशाना बनाया जा रहा है। खतरे में आप नहीं, बल्कि आपकी वजह से यह देश है। अब देखते है कितने लोग इनके समुदाय से (उनकी निंदा करने के लिए) सामने आते हैं। जिसको बुरा लगता है लगे, गलत है तो गलत है।”

बीजेपी के प्रवक्ता गौरव भाटिया ने साफ तौर पर इस बात का जिक्र करते हुए कहा कि कुछ लोग देश भर की मस्जिदों में लॉकडाउन के नियमों की धज्जियाँ उड़ाते हुए इकट्ठा होते रहते हैं और इसी के चलते लगातार कोरोना वायरस फैल रहा है।

गौरव भाटिया द्वारा ट्विटर पर वीडियो पोस्ट करते ही जुबैर ने उछलकर ऑल्टन्यूज के कथित फैक्ट चेक का एक लिंक डाला। इस प्रोपेगेंडावादी ने बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया के लिए कहा “ऐसी क्या मजबूरी आ पड़ी थी कि आपको लॉकडाउन से एक दिन पहले का यह वीडियो पोस्ट करना पड़ा? क्या आपको आईटी सेल से आदेश मिला था?”

फिर उसने अपने ट्वीट के अंत में ऑल्टन्यूज के कथित फैक्ट-चेक का लिंक जोड़ा। हालाँकि यह बात अलग है कि उसमें बीजेपी प्रवक्ता ने जो कहा उनके एक शब्द को भी खारिज नहीं किया गया है।

ऑल्टन्यूज के सह-संस्थापक जुबैर द्वारा पोस्ट किए गए फैक्ट चेक में कहा गया है कि यह वीडियो महाराष्ट्र की एक मस्जिद के बाहर रिकॉर्ड किया गया था, जो महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है। ऑल्टन्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई मिरर ने 23 मार्च को खबर दी थी कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को राज्यभर में कर्फ्यू लगा दिया, क्योंकि रविवार को जनता कर्फ्यू का सख्ती से पालन करने के बाद लोग लगातार धारा 144 का उल्लंघन कर रहे थे।

इसके अलावा फिर से ऑल्टन्यूज ने पीटीआई की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि सोमवार को पुलिस ने मस्जिद के ट्रस्टियों के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज की था, जहाँ करीब 150 लोग कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लागू सरकारी नियमों का उल्लंघन कर नमाज अदा करते हुए मिले थे। इससे यह साफ है कि जो लोग मस्जिद में इकट्ठा हुए थे उन्होंने कोरोना की रोकथाम के लिए जारी किए गए सरकारी आदेशों की अवहेलना की थी।

ऑल्टन्यूज द्वारा किए गए फैक्ट चेक का स्क्रीनशॉट

आपको बता दें कि गौरव भाटिया ने अपने ट्वीट में तारीख या फिर किसी स्थान और समय का उल्लेख नहीं किया था। इस वीडियो का प्रयोग उन्होंने केवल एक उदाहरण के रूप में किया था। जो सवाल उन्होंने खड़ा किया किया था वह आज भी है। इस बात में कोई दोराय नहीं कि यह एक निर्विवाद तथ्य है कि वीडियो में दिखाई दे रहे इकट्ठा लोगों ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी सरकारी आदेशों की अवहेलना की थी और दूसरों के जीवन को खतरे में डाला था। इस तरह की कई घटनाएँ सामने आ चुकी है।

लॉकडाउन उल्लंघन की अन्य घटनाएँ

आपको बता दें कि इस हफ्ते की शुरुआत में औरंगाबाद की एक मस्जिद में चालीस के आसपास लोग जमा हो गए थे, जबकि राज्य में कोरोनो वायरस का कहर जारी है। जब पुलिस मौके पर पहुँची तो भीड़ द्वारा उन पर हमला किया गया और यहाँ तक ​​कि हमले में महिलाएँ भी शामिल थीं। इस घटना में तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए थे।

वहीं मंगलवार को पश्चिम बंगाल के हावड़ा में लॉकडाउन का पालन कराने गए पुलिसकर्मियों पर हमला किया गया। अहमदाबाद के गोमतीपुर में तबलीगी जमात के सदस्यों की खोज करने गए पुलिसकर्मियों पर हमला किया गया। इस दौरान हुए पथराव में एक सिपाही भी घायल हो गया था। इस मामले को दो आरोपितों को हिरासत में लिया गया था।

गौरव भाटिया और जुबैर के बीच वास्तव में क्या हुआ

दरअसल बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया एक बड़े मुद्दे की ओर इशारा करने के लिए इस घटना का उपयोग कर रहे थे। उनके ट्वीट से इस बात का कोई संकेत नहीं मिलता है कि उनका मतलब कुछ और था या उनका इरादा यह बताने का था कि भीड़ एक वैकल्पिक स्थान या समय पर थी। इसके बावजूद भी जुबैर ने भ्रामक टिप्पणी करते हुए प्रतिक्रिया दी कि यह भाजपा के आईटी सेल के दबाव में किया गया है।

ऐसा कर वह यह दिखाना चाहते थे कि लॉकडाउन का उल्लंघन सिर्फ दूसरें समुदाय के लोग ही कर रहे हैं। वास्तव में ऑल्टन्यूज की रिपोर्ट भी उसकी ही पुष्टि करती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल: PM मोदी ने जिस मैदान में रैली की, TMC नेताओं ने वहाँ किया गंगाजल छिड़ककर ‘शुद्धिकरण’

PM मोदी ने सोमवार को हुगली के जिस मैदान में जनसभा को संबोधित किया था वहाँ रैली के अगले ही दिन TMC के कार्यकर्ताओं ने जाकर गंगाजल छिड़का और उसका 'शुद्धिकरण' किया।

वोटर समझदार होता है, हमें उनका सम्मान करना चाहिए: राहुल के उत्तर-दक्षिण वाले बयान पर कॉन्ग्रेस नेता कपिल सिब्बल

राहुल गाँधी के बयान पर कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि हमें मतदाताओं का सम्मान करना चाहिए, चाहे वो उत्तर से हो या दक्षिण से, वोटर्स समझदार होते हैं।

कर्नाटक: चलती बस में छात्रा को छेड़ने वाला अरबी स्कूल का शिक्षक मोहम्मद सैफुल्ला गिरफ्तार

कर्नाटक की उप्पिनंगडी पुलिस ने 32 वर्षीय अरबी शिक्षक मोहम्मद सैफुल्ला को बस में एक छात्रा के साथ यौन उत्पीड़न के आरोप में में गिरफ्तार किया है।

बंगाल: फ्री वैक्सीन बाँटने के लिए दीदी ने ‘दंगाबाज’ मोदी से माँगी मदद, भाषण में उगला जहर

ममता ने एक ओर पीएम मोदी से वैक्सीन के लिए मदद माँगी है और दूसरी ओर पीएम मोदी व अमित शाह को रावण-दानव तक करार देते हुए 'दंगाबाज' बताया।

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस ने मुस्लिम और मराठा आरक्षण के समर्थन में किया प्रस्ताव पारित

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस की संसदीय समिति की एक बैठक ने राज्य में मुस्लिम और मराठा आरक्षण के समर्थन में एक प्रस्ताव पारित किया है।

UP: लव-जिहाद के खिलाफ विधेयक विधानसभा में ध्वनि मत से पास, नाम बदलकर निकाह करने वालों के ‘अच्छे दिन’ समाप्त

उत्तर प्रदेश विधानसभा में 'लव जिहाद' के खिलाफ कानून यानी, उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध विधेयक-2021 ध्वनिमत से पारित हो गया है।

प्रचलित ख़बरें

उन्नाव मर्डर केस: तीसरी लड़की को अस्पताल में आया होश, बताई वारदात से पहले की हकीकत

विनय ने लड़कियों को कीटनाशक पिलाकर बेहोश किया और बाद में वहाँ से चला गया। बेहोशी की हालत में लड़कियों के साथ किसी तरह के सेक्सुअल असॉल्ट की बात सामने नहीं आई है।

ई-कॉमर्स कंपनी के डिलीवरी बॉय ने 66 महिलाओं को बनाया शिकार: फीडबैक के नाम पर वीडियो कॉल, फिर ब्लैकमेल और रेप

उसने ज्यादातर गृहणियों को अपना शिकार बनाया। वो हथियार दिखा कर रुपए और गहने भी छीन लेता था। उसने पुलिस के समक्ष अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

महिला ने ब्राह्मण व्यक्ति पर लगाया था रेप का झूठा आरोप: SC/ST एक्ट में 20 साल की सज़ा के बाद हाईकोर्ट ने बताया निर्दोष

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा, "पाँच महीने की गर्भवती महिला के साथ किसी भी तरह की ज़बरदस्ती की जाती है तो उसे चोट लगना स्वाभाविक है। लेकिन पीड़िता के शरीर पर इस तरह की कोई चोट मौजूद नहीं थी।”

लोगों को पिछले 10-15 सालों से थूक वाली रोटियाँ खिला रहा था नौशाद: पूरे गिरोह के सक्रीय होने का संदेह, जाँच में जुटी पुलिस

नौशाद के साथ शादी समारोह में लगे ठेकेदारों की जानकारी भी जुटाई जा रही है। वो शहर की कई मंडपों और शादियों में खाना बना चुका है।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

UP: भीम सेना प्रमुख ने CM आदित्यनाथ, उन्नाव पुलिस के खिलाफ SC/ST एक्ट के तहत दर्ज की FIR

भीम सेना प्रमुख ने CM योगी आदित्यनाथ और उन्नाव पुलिस अधिकारियों पर गुरुग्राम में SC/ST एक्ट के तहत शिकायत दर्ज करवाई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

291,795FansLike
81,855FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe