Saturday, May 25, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाधर्मेंद्र चतुर का इस्तीफा, कैलिफोर्निया के जेरेमी केसल को ट्विटर ने बनाया ग्रीवेंस ऑफिसर

धर्मेंद्र चतुर का इस्तीफा, कैलिफोर्निया के जेरेमी केसल को ट्विटर ने बनाया ग्रीवेंस ऑफिसर

नए आईटी रूल के अनुसार भारतीय यूजर्स की शिकायतों पर कार्रवाई के लिए सोशल मीडिया कंपनियों में शिकायत अधिकारी की नियुक्ति जरूरी है।

नए आईटी नियमों को लेकर केंद्र सरकार के साथ जारी खींचतान के बीच माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर (Twitter) के भारत में नियुक्त किए गए अंतरिम शिकायत अधिकारी धर्मेंद्र चतुर ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उनकी हाल ही में इस पद पर नियुक्ति की गई थी। चतुर के बाद अब ट्विटर ने कैलिफोर्निया के रहने वाले जेरेमी केसल के भारत में नया शिकायत अधिकारी नियुक्त किया है।

जेरेमी केसल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के ‘ग्लोबल लीगल पॉलिसी’ डायरेक्टर हैं। दरअसल, देश के नए आईटी रूल-2021 के अनुसार भारतीय यूजर्स की शिकायतों पर कार्रवाई के लिए सोशल मीडिया कंपनियों में शिकायत अधिकारी की नियुक्ति जरूरी है। धर्मेंद्र चतुर की इस पद पर नियुक्ति नए आईटी नियमों के तहत ही की गई थी।

रिपोर्ट्स के मुताबिक ट्विटर ने फिलहाल इस मामले में किसी भी तरह का बयान देने से इनकार कर दिया है। इसके साथ ही सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से चतुर का अकाउंट भी डिलीट हो गया है। अब वहाँ पर उनका नाम नहीं है। जबकि, नए आईटी नियमों के तहत ट्विटर पर अधिकारी का नाम और पता होना आवश्यक है।

25 मई से लागू हो चुका है नया आईटी रूल

देश में 25 मई 2021 से नया आईटी रूल लागू हो चुका है। इसके बाद भी ट्विटर ने नियमों के तहत आवश्यक अधिकारियों की नियुक्ति नहीं की थी। इससे उसने डिजिटल कंपनियों को मिलने वाले संरक्षण का अधिकार खो दिया। नए नियमों के मुताबिक, 50 लाख से अधिक यूजर वाली सभी सोशल मीडिया कंपनियों के लिए शिकायतों के निपटान के लिए अधिकारी की नियुक्ति करना अनिवार्य है। इसके अलावा इन अधिकारियों के नाम, पते और कॉन्टैक्ट डिटेल्स को भी शेयर करना होगा।

नए नियमों के पालन को तैयार ट्विटर

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर ने इसी महीने 5 जून 2021 को केंद्र सरकार की नोटिस के जवाब में बताया था कि वो देश के नए आईटी नियमों का पालन करेगा। साथ ही जल्द ही मुख्य अनुपालन अधिकारी की नियुक्ति भी करेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -