Sunday, December 6, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया 'तुम सच्ची पत्रकारिता पर धब्बा हो': कश्मीरी हिंदुओं पर झूठ फैलाने पर लोगों ने...

‘तुम सच्ची पत्रकारिता पर धब्बा हो’: कश्मीरी हिंदुओं पर झूठ फैलाने पर लोगों ने बरखा दत्त पर उतारा गुस्सा, माँगी माफी

वीडियो में महिला को कहते सुना जा सकता है कि यदि कश्मीरी पंडित के पास वहाँ मोनोपॉली होती तो वे कभी भागते नहीं। वे कहती हैं उनके साथ वहाँ जो हुआ है। अगर बरखा के साथ होता तो वह भी कश्मीर में नहीं रुकतीं। कट्टरपंथियों के अत्याचार याद करते हुए वे आगे कहती हैं कि कश्मीरी पंडितों के साथ और उनकी बेटियों के साथ क्या कुछ नहीं हुआ।

मीडिया जगत का एक जाना-माना नाम बरखा दत्त ट्विटर पर आज अचानक ट्रेंड करने लगीं। इस ट्रेंड के पीछे उनकी कोई नई रिपोर्टिंग नहीं बल्कि साल 2004 की एक रिपोर्टिंग थी। जिसका विषय कश्मीरी पंडित थे। इस ट्रेंड में बरखा के नाम के आगे Apologise भी लिखा नजर आया। सैंकड़ों लोगों ने इस #ApologiseBarkha पर ट्वीट किया और बरखा से उनके शब्दों पर माफी माँगने को बोला।

इस हैशटैग के अंतर्गत सोशल मीडिया यूजर्स ने बरखा की साल 2004 में एनडीटीवी के लिए की गई रिपोर्टिंग की क्लिप शेयर की। साथ ही उसी को आधार बनाकर कुछ ऐसे ट्वीट भी शेयर किए गए जिसमें उन्हें उनके अलग-अलग मामलों पर अलग-अलग मत रखने के लिए पाखंडी कहा गया और राहुल गाँधी जितना मूर्ख बताया गया।

अब इस वीडियो में ऐसा क्या है? जो शो एयर होने के 16 साल बाद उनपर ये परेशानी आ पड़ी। तो बता दें, इस वीडियो में बरखा ये कहती हुई सुनी जा सकती हैं कि कश्मीरी पंडित कश्मीर के विशेषाधिकृत लोग थे। वे कहती हैं कि कश्मीरी पंडित भले ही घाटी में अल्पसंख्यक थे। लेकिन उनका वहाँ सरकारी नौकरी जैसी जगहों पर एकाधिकार था और उन्होंने सबको दबाकर रखा हुआ था।

अब इस बात में कितनी सच्चाई है और कितना झूठ? इस बात को ऐसे समझा जा सकता है कि पिछले दिनों एक बुजुर्ग कश्मीरी हिंदू महिला बरखा का ये इंटरव्यू देखने के बाद बेहद दुखी हो गई थीं और उन्होंने कहा था कि वो बरखा दत्त की बातों से बिलकुल सहमत नहीं हैं।

वीडियो में महिला को कहते सुना जा सकता है कि यदि कश्मीरी पंडित के पास वहाँ मोनोपॉली होती तो वे कभी भागते नहीं। वे कहती हैं उनके साथ वहाँ जो हुआ है। अगर बरखा के साथ होता तो वह भी कश्मीर में नहीं रुकतीं। कट्टरपंथियों के अत्याचार याद करते हुए वे आगे कहती हैं कि कश्मीरी पंडितों के साथ और उनकी बेटियों के साथ क्या कुछ नहीं हुआ।

वे बताती हैं कि मुस्लिम उनसे कहते थे कि हम यहाँ पाकिस्तान बनाना चाहते हैं। हम कश्मीरी पंडित औरतों को चाहतें हैं। लेकिन कश्मीरी पंडित आदमियों के बगैर…”वहाँ हमने जो कमाया जो हमारे पास था, सब हमारी मेहनत थी। अगर हम वहाँ गरीबों पर अत्याचार करते तो हम अपना घर कभी नहीं छोड़ते। हम कैसे भागे हैं, हमारे साथ क्या हुआ है।”

महिला के अनुसार, उनके खुद के बच्चों के नाम मस्जिद में लिख दिए गए थे और ऐलान हुआ था कि ये पंडित हैं इन्हें मारो। वे कहती हैं, “हम जानते हैं कि हम अपने बच्चों को बचाने के लिए कैसे भागे। ये बरखा कैसी बात कर रही है। उसे ऐसी बात नहीं करनी चाहिए। वो हमेशा फेक न्यूज लिखती हैं। क्योकि उसे उसके पैसे मिलते हैं। मुझे उसपर गुस्सा आ रही है। उसे इसके लिए माफी माँगनी चाहिए। उसने ये गलत बात क्यों बोली।”

यहाँ बता दें, कई संगठनों के अलावा इस समय बरखा से ट्विटर पर कई लोग माफी माँगने को बोल रहे हैं। लोग बरखा को सच्ची पत्रकारिता पर धब्बा बता रहे हैं क्योंकि उन्होंने गरीब व सताए गए कश्मीरी पंडितों को अपनी वीडियो में विशेषाधिकृत बोला। लोगों का कहना है कि ये उनके पक्षपात का साफ उदाहरण है।

बरखा दत्त की रिपोर्टिंग को ऑल्ट न्यूज का साथ

गौरतलब हो कि सोशल मीडिया पर बरखा की हकीकत का एक और सबूत मिलने के बाद एक ओर जहाँ अधिकांश लोग उनपर अपना गुस्सा निकाल रहे हैं। वहीं आल्ट न्यूज सफाई दे रहा है कि ये वीडियो तो साल 2004 की है और लोग इसलिए वायरल कर रहे हैं कि वो एक नरसंहार पर स्पष्टीकरण दे रही हैं। इस लेख को बरखा ने भी शेयर किया है।

ऑल्ट न्यूज के इस गहरे अध्य्यन पर बरखा ने लिखा है कि जब ट्रोलर को कुछ नहीं मिलता तो वो फेक न्यूज चलाते हैं। लेकिन ऑल्टन्यूज ने इसका भांडाफोड़ किया है और बताया है कि ये क्लिप पंडितों के साथ हुए अन्याय पर एक लंबी चर्चा थी। इसलिए अब ट्रोलर जाएँ और नया झूठ तलाशें।

सोचिए जरा! इतना सब होने के बावजूद भी बरखा दत्त और उनकी लॉबी के ये लोग मानने को तैयार नहीं हैं कि उनसे कोई गलती हुई है। साल 2004 में भले ही कोई बरखा या एनडीटीवी से जवाब माँगने वाला नहीं था। लेकिन अब आतताइ चेहरों की हकीकत से सब वाकिफ हैं और ये भी जानते हैं कि इनके अपराधों को दूसरा कोण देकर लीपा-पोती करने वाले आखिर क्या चाहते हैं।

जिन कश्मीरी पंडितों के लिए बरखा अपनी 23 सेकेंड की क्लिप में ये बोलते दिख रहीं हैं कि उनकी मोनोपॉली थी। उन्हें याद करना चाहिए वो हिंदू सरपंच जिसे हाल ही में गोली मारी गई और जानना चाहिए कि आज भी वहाँ की स्थिति पूरी तरह से सुधरी नहीं है। आज भी वहाँ हिंदू भय में है।

लेकिन हाँ! अब उन्हें ये सहारा है कि जिस अनुच्छेद 370 को परिधि में रखकर पहले उन पर अत्याचार हो रहे थे। वे अब उससे मुक्त हैं और जिस भूमि को एक समय कट्टरपंथी पाकिस्तानी भूमि कहते थे वो अब पूर्ण रूप से भारत की है। आज हिंदुओं को वहाँ अपना अधिकार पता चलता है और ‘हर घर से अफजल निकलेगा’ जैसे नारे बोलने से पहले कोई भी व्यक्ति बार-बार सोचेगा।

और शायद अब देश की जनता भी तकनीक के माध्यम से और अन्य संसाधनों की वजह से इतनी सशक्त हो गई है कि बरखा जैसे लोगों की पक्षपाती रिपोर्टिंग आर्काइव समझकर सहेजने से ज्यादा उन्हें उजागर करना अपना कर्तव्य समझता है।

यहाँ बता दें कि केवल बरखा नहीं है जो अपने कुकर्मों पर मीडिया लॉबी का साथ पाकर अपनी गलती को भी जस्टिफाई करने की कोशिश कर रही। एक कॉन्ग्रेस नेता भी है। जिन्होंने पूर्व में मान रखा है कि उन्हें भारत बिलकुल नहीं पसंद और वो भारत से नफरत करते हैं।

वो भी आज कश्मीरी पंडितों के साथ हुए अत्याचार का ठीकरा कट्टरपंथियों से हटाकर भाजपा पर फोड़ रहे हैं। सलमान निजामी नाम का ये नेता अपने ट्वीट में लिख रहा है कि कश्मीरी पंडितों के साथ जो हुआ वो भारत का ध्रुविकरण करने के लिए भाजपा का प्लान था। बस समुदाय विशेष को बलि का बकरा बना दिया गया। उस समय वीपी सरकार गठबंधन में थी और आडवाणी, वाजपेयी, मुफ्ती और जगमोहन द्वारा मुख्य भूमिका में थे। यह एक कठोर सच्चाई है!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गुपकार गैंग के पास जब सत्ता थी तो रिफ्यूज़ियों को वोट का अधिकार नहीं दिया, आज कहते हैं कोई तिरंगा नहीं उठाएगा’

"अरे उनसे पूछो, जिन्होंने हिन्दुस्तान को तब गले लगाया जब भारत का विभाजन हुआ और हिन्दुस्तान की धरती को चुना और रिफ्यूजी बनकर यहाँ आए। उनसे पूछो कि तिरंगे की शान क्या है।”

‘महाराष्ट्र में स्थिर सरकार चाहते हैं तो टिप्पणी करना बंद करें’: राहुल गाँधी पर शरद पवार के बयान से भड़की कॉन्ग्रेस

"यदि आप महाराष्ट्र में स्थिर सरकार चाहते हैं तो कॉन्ग्रेस के नेतृत्व पर टिप्पणी करना छोड़ दें। हर किसी को गठबंधन के बुनियादी नियमों का पालन करना चाहिए।”

पश्चिम बंगाल के आसनसोल में बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला, 7 घायल: पार्टी ने लगाया TMC के गुंडों पर आरोप

पश्चिम बंगाल में शनिवार (दिसंबर 5, 2020) को एक बार फिर से हिंसक वारदात की खबर सामने आई है। इसमें बीजेपी के 5 से 7 कार्यकर्ता घायल बताए जा रहे हैं।

जबरन धर्म-परिवर्तन के खिलाफ योगी सरकार के कानून बनाते ही बदले मौलानाओं के सुर, जारी किया फतवा

"'लव' एक अंग्रेजी शब्द है और 'जिहाद' अरबी। इन्हें जोड़ कर नहीं देखा जाना चाहिए, क्योंकि शरीयत में इसकी कोई हैसियत नहीं।"

इंडिया टुडे की डाटा इंटेलीजेंस यूनिट का मैथ फिर गड़बड़ाया, हैदराबाद निकाय चुनाव के नतीजों में जोड़-घटाव भी गलत

हैदराबाद निकाय चुनाव के नतीजों के बाद इंडिया टुडे की डाटा इंटेलिजेंस यूनिट फिर से सोशल मीडिया में आलोचनाओं का केंद्र बनी हुई है।

‘जब इनकी माँ-बेटियाँ अहमद शाह दुर्रानी ले जाता तो उधर टके-टके की बिकती थी’: किसान आंदोलन में घृणा की खेती

"जिस सरकार की आप बात कर रहे हैं केंद्र की, आपको पता है कि ये कौन हैं? ये वही हैं, जो अपनी बेटियों की डोली हाथ जोड़ कर मुगलों के हवाले कर देते थे।"

प्रचलित ख़बरें

‘जब इनकी माँ-बेटियाँ अहमद शाह दुर्रानी ले जाता तो उधर टके-टके की बिकती थी’: किसान आंदोलन में घृणा की खेती

"जिस सरकार की आप बात कर रहे हैं केंद्र की, आपको पता है कि ये कौन हैं? ये वही हैं, जो अपनी बेटियों की डोली हाथ जोड़ कर मुगलों के हवाले कर देते थे।"

जब नक्सलियों की ‘क्रांति के मार्ग’ में डिल्डो अपनी जगह बनाने लगता है तब हथियारों के साथ वाइब्रेटर भी पकड़ा जाता है

एक संघी ने कहा, "डिल्डो मिलने का मतलब वामपंथी न तो क्रांति कर पा रहे न वामपंथनों को संतुष्ट। कामपंथियों के बजाय रबर-यंत्र चुनने पर वामपंथनों को सलाम!"

आदिपुरुष में दिखाएँगे रावण का मानवीय पक्ष, सीता हरण को बताएँगे जायज: लंकेश का किरदार निभा रहे सैफ अली खान ने बताया

सैफ अली खान ने कहा है कि 'आदिपुरुष' में राम के साथ रावण द्वारा युद्ध किए जाने को सही साबित किया जाएगा।

‘ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती हूँ’: कंगना और दिलजीत दोसांझ में ट्विटर पर छिड़ी जंग

कंगना ने दिलजीत को पालतू कहा, जिस पर दिलजीत ने कंगना से पूछा कि अगर काम करने से पालतू बनते हैं तो मालिकों की लिस्ट बहुत लंबी हो जाएगी।

अवॉर्ड वापसी का सीजन लौटा, किसानों की धमकी के बीच कंगना का सवाल- अभी का सिस्टम ठीक तो आत्महत्या को मजबूर क्यों?

आज केंद्र सरकार और किसानों के बीच 5वें राउंड की वार्ता होनी है। किसान संगठनों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान भी कर रखा है।

‘तारक मेहता…’ के राइटर ने की आत्‍महत्‍या: परिवार ने कहा- उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे, हमें दे रहे हैं धमकी

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के लेखक अभिषेक मकवाना ने आत्महत्या कर ली है। शव कांदि‍वली स्‍थ‍ित उनके फ्लैट से 27 नवंबर को मिला।

असम: टेरर फंडिंग के आरोपित AIUDF प्रमुख बदरुद्दीन अजमल द्वारा संचालित ‘अजमल फाउंडेशन’ के खिलाफ FIR

ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF) के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल द्वारा संचालित 'अजमल फाउंडेशन' के खिलाफ असम के दिसपुर पुलिस स्टेशन में शुक्रवार को मामला दर्ज किया गया है।

‘गुपकार गैंग के पास जब सत्ता थी तो रिफ्यूज़ियों को वोट का अधिकार नहीं दिया, आज कहते हैं कोई तिरंगा नहीं उठाएगा’

"अरे उनसे पूछो, जिन्होंने हिन्दुस्तान को तब गले लगाया जब भारत का विभाजन हुआ और हिन्दुस्तान की धरती को चुना और रिफ्यूजी बनकर यहाँ आए। उनसे पूछो कि तिरंगे की शान क्या है।”

मुख्तार के करीबी जफर अब्बास व सादिक हुसैन जमीन के धाँधली के आरोप में यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार

पुलिस अधीक्षक डॉ. ओपी सिंह ने बताया कि दोनों आरोपितों की लंबे समय से तलाश थी। इन्हें गिरफ्तार कर चालान कर दिया गया है। बाकी आरोपितों की तलाश जारी है।

संजय राउत को डॉक्टरों ने दी कम बोलने की सलाह, कंगना रनौत को कहा था- ‘हरामखोर’

“डॉक्टरों ने मुझे कम बात करने और तनाव मुक्त जीवन जीने के लिए कहा है। मैं डॉक्टरों की बातों का पालन करूँगा और आशा करता हूँ कि मुझे फिर से अस्पताल नहीं जाना पड़ेगा।”

कर्नाटक के हसन जिले में गोहत्या करने वाले बूचड़खानों का खुलासा करने वाली महिला पत्रकार पर मुस्लिम भीड़ ने किया हमला

भीड़ ने न केवल पत्रकार के साथ दुर्व्यवहार किया बल्कि उसके साथ छेड़छाड़ की, साथ ही वहाँ से नहीं निकलने पर उसे गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी भी दी।

नए कृषि कानून से खुश एमपी और राजस्थान के किसान, कहा- प्रदर्शनकारियों को बरगला और उकसा रहे विपक्षी नेता

एमपी ही नहीं राजस्थान के किसान भी पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के प्रदर्शनकारियों द्वारा दिल्ली के आसपास हो रहे विरोध प्रदर्शनों में शामिल नहीं हुए हैं। राजस्थान के एक किसान ने नए कृषि कानूनों को लाने के लिए पीएम मोदी को बहुत धन्यवाद दिया।

योगी सरकार ने शुरू किया मिशन रोजगार: 50 लाख युवाओं को रोजगार देने का लक्ष्य, दिशा-निर्देश जारी

योगी सरकार ने आज से प्रदेश में मिशन रोजगार शुरू किया है। अभियान के तहत सरकार ने 50 लाख युवाओं को रोजगार देने का लक्ष्य तय किया है।

अताबुद्दीन अंसारी ने नाम बदलकर हिन्दू युवती को प्रेमजाल में फँसाकर किया गर्भवती, निकला पहले से शादीशुदा और 1 बच्चे का बाप

जब पीड़िता के परिजनों ने जबरन उसकी छानबीन की तो तलाशी में युवक की जेब से आधार कार्ड बरामद हुआ। जिस पर युवक का नाम 27 वर्षीय अताबुद्दीन अंसारी, पिता हामित अंसारी होने का खुलासा हुआ।

‘महाराष्ट्र में स्थिर सरकार चाहते हैं तो टिप्पणी करना बंद करें’: राहुल गाँधी पर शरद पवार के बयान से भड़की कॉन्ग्रेस

"यदि आप महाराष्ट्र में स्थिर सरकार चाहते हैं तो कॉन्ग्रेस के नेतृत्व पर टिप्पणी करना छोड़ दें। हर किसी को गठबंधन के बुनियादी नियमों का पालन करना चाहिए।”

फिल्म ‘राम सेतु’ के लिए अक्षय कुमार को अयोध्या में शूटिंग करने की मिली परमिशन, CM योगी ने दी मंजूरी

फिल्म राम सेतु के पोस्टर में अक्षय श्रीराम की तस्वीर के आगे खड़े हुए एक अलग ही लुक में नजर आ रहे हैं। इस फिल्म की शूटिंग अयोध्या में होगी जिसकी इजाजत एक्टर को मिल गई है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,569FollowersFollow
359,000SubscribersSubscribe