Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाइंडिया टुडे के 'द लल्लनटॉप' ने गुजरात के APMC और नए कृषि कानूनों पर...

इंडिया टुडे के ‘द लल्लनटॉप’ ने गुजरात के APMC और नए कृषि कानूनों पर फैलाई फर्जी जानकारी: जानिए क्या है सच

वीडियो का 2-मिनट का शॉट कार्टूनिस्ट मंजुल द्वारा ट्विटर पर साझा किया गया था। सोशल मीडिया यूजर्स ने इस दावे का खंडन किया है कि भुज में कोई मंडियाँ नहीं हैं। अगर आप गूगल पर भी खोजते हैं तो आपको आसानी से भुज के एपीएमसी मंडी का पता और डिटेल मिल जाएगा।

एक तरफ जहाँ ‘किसानों’ का विरोध प्रदर्शन जारी है तो वहीं दूसरी तरफ कई ऐसे वीडियो सोशल मीडिया पर घूम रहे हैं, जिसके जरिए भ्रामक जानकारियाँ फैलाई जा रही है। इस बीच इंडिया टुडे ग्रुप के ‘द लल्लनटॉप’ का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें नई दिल्ली में विरोध में हिस्सा ले रहे एक किसान का इंटरव्यू है। YouTube पर 17 मिनट लंबे ऑरिजिनल वीडियो में दो किसानों के साथ एक इंटरव्यू है। किसान का आरोप है कि गुजरात के कच्छ जिले में एपीएमसी बाजार नहीं हैं और किसानों को कम कीमत पर अपनी उपज बेचनी पड़ती है।

क्या कच्छ में APMC बाजार नहीं है?

दावा: 2010 में गुजरात में शिफ्ट होने वाले सिंह ने दावा किया कि उन्हें नहीं पता था कि गुजरात में एपीएमसी बाजार नहीं हैं। सिंह ने कहा कि उन्होंने पहले गेहूँ और कपास उगाने और बेचने की कोशिश की लेकिन उन्हें खरीदार नहीं मिले। उन्हें स्थानीय डीलरों ने अन्य राज्यों की तुलना में बहुत कम कीमत दी। फिर उन्होंने अनार उगाने की कोशिश की, लेकिन बाजार में कीमत इतनी कम थी कि उसे जानवरों को खिलाना पड़ा।

तथ्य: वीडियो का 2-मिनट का स्निपेट कार्टूनिस्ट मंजुल द्वारा ट्विटर पर साझा किया गया था। सोशल मीडिया यूजर्स ने इस दावे का खंडन किया है कि भुज में कोई मंडियाँ नहीं हैं। अगर आप गूगल पर भी खोजते हैं तो आपको आसानी से भुज के एपीएमसी मंडी का पता और डिटेल मिल जाएगा। 

गुजरात राज्य कृषि बाजार बोर्ड की वेबसाइट पर उपलब्ध [PDF] सूची के अनुसार, कच्छ में आठ एपीएमसी बाजार हैं, जिसमें से एक भुज क्षेत्र में स्थित है। दिलचस्प बात यह है कि कच्छ अच्छी गुणवत्ता के फलों के एक्सपोर्ट के लिए काफी लोकप्रिय है, खासकर ड्रैगनफ्रूट और अनार के लिए। रिपोर्टों के अनुसार, ऑस्ट्रेलिया ने सितंबर 2020 में भारत से अनार के आयात की अनुमति दी है। कच्छ में 150 से अधिक किसान उच्च गुणवत्ता वाले ड्रैगन फ्रूट की खेती कर रहे हैं, जो अब भारत के होटलों में परोसा जा रहा है।

Jio कीमतों को नियंत्रित करेगा

दावा: फिरोजपुर पंजाब के एक और किसान दविंदर सिंह ने बड़ा ही विचित्र दावा किया। उन्होंने कहा कि सभी ने देखा है कि कैसे Jio ने टेलीकॉम मार्केट को बाधित किया है। अब, रिलायंस कृषि क्षेत्र में प्रवेश करेगी और इसे भी बाधित करेगी। उन्होंने दावा किया कि क्षेत्र में निजी प्लेयरों की वजह से कीमतें तेजी से बढ़ेंगी। उनका दावा था कि निजी कंपनियाँ पहले कुछ वर्षों में उच्च कीमत का भुगतान करेंगी, किसानों को निजी बाजारों में फसल बेचने के लिए आकर्षित करेगी।

दविंदर सिंह ने आगे अनुमान लगाया कि सरकार नुकसान के बहाने एपीएमसी बाजारों को बंद कर देगी, जिसके बाद निजी प्लेयर फसल की कीमत कम करना शुरू कर देंगे और किसानों को नुकसान होगा। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि किसानों को कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के तहत नुकसान होगा क्योंकि उन्हें कानून की समझ नहीं होगी। निजी प्लेयर उन क्लॉजों को शामिल करेंगे, जो किसानों के बजाय उन्हें लाभ देंगे।

तथ्य: कृषि कानूनों के अनुसार, एक प्रावधान है जिसके तहत सरकार मूल्य को नियंत्रित करेगी यदि यह प्रति व्यक्ति 100% और गैर-विनाशकारी उत्पादों में 50% बढ़ जाती है। कीमतों की तुलना पिछले बारह महीनों या पाँच वर्षों में कमोडिटी की लागत से की जाएगी। सरकार सार्वजनिक वितरण योजना (पीडीएस) के तहत उपज की खरीद बंद नहीं करने जा रही है। सरकार ने किसानों से हर समय उच्च खरीफ उपज की खरीद की है। 2021 के लिए अगली उपज के लिए एमएसपी पहले से ही निर्धारित किया गया है और सरकार ने खरीफ की उपज की खरीद पर 67,248.22 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

इसी तरह के दावे गुरुद्वारा बंगला साहिब से कथा वाचक बंता सिंह जी द्वारा किए गए थे, जिसका हाल ही में ऑपइंडिया ने खंडन किया। कई विपक्षी नेता और संघ के नेता भी इसी तरह के दावे कर रहे हैं। इतना ही किसानों ने सिम और फोन सहित Jio उत्पादों के बहिष्कार की घोषणा की है। हाल ही में, Reliance ने TRAI पर एक शिकायत दर्ज की है जिसमें आरोप लगाया गया है कि उसके प्रतिस्पर्धी Airtel और Vi कंपनी के खिलाफ अफवाह फैला रहे हैं कि यह किसान विरोधी है। हालाँकि, एयरटेल ने दावों का खंडन किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,341FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe