Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाNDTV की सेकुलर पत्रकारिता: तबरेज पर बताया धर्म, राहुल की मॉब लिंचिंग पर मजहब...

NDTV की सेकुलर पत्रकारिता: तबरेज पर बताया धर्म, राहुल की मॉब लिंचिंग पर मजहब छिपाया

राहुल से जुड़ी खबर में एनडीटीवी यह बताया कि मोबाइल चोरी के आरोप में एक 23 साल की युवक पीटकर हत्या कर दी गई। चूॅंकि इस मामले में आरोपित एक खास मजहब के थे तो पीड़ित का धर्म गायब हो गया और चोरी का आरोप प्रमुख।

पश्चिमी दिल्ली के नारायणा में शुक्रवार (अगस्त 28, 2020) को 32 साल के राहुल की मोबाइल चोरी के आरोप में पीट-पीट कर हत्या कर दी। आरोपितों के नाम हैं- मुश्ताक, शिराज, अनीश और इश्तिहार। लेकिन, कथित सेकुलर मीडिया इस घटना पर मौन है। एनडीटीवी ने इसे सामान्य घटना की तरह पेश किया है।

यह वही एनडीटीवी है जो तबरेज अंसारी की मौत पर चीख-चीखकर उसका मजहब बताते नहीं थक रहा था। तबरेज की भी चोरी के आरोप में भीड़ ने पिटाई कर दी थी। बाद में उसकी मौत हो गई। लेकिन, एनडीटीवी समेत तमाम सेकुलर मीडिया ने इसे संप्रदाय विशेष की मॉब लिंचिंग के तौर पर पेश किया था।

एनडीटीवी ने इससे संबंधित अपनी खबर की हेडलाइन में बताया था कि झारखंड में संप्रदाय विशेष के एक युवक की पीट-पीटकर भीड़ ने हत्या कर दी और ऐसा करने वालों ने उससे जय श्रीराम का नारा भी लगवाया। हेडलाइन में यह नहीं बताया कि यह घटना क्यों हुई। जोर इस बात पर था कि आप जानें कि संप्रदाय विशेष के एक इंसान को हिंदुओं ने मार डाला।
लेकिन, राहुल से जुड़ी खबर में एनडीटीवी यह बताया कि मोबाइल चोरी के आरोप में एक 23 साल की युवक पीटकर हत्या कर दी गई। चूॅंकि इस मामले में आरोपित एक खास मजहब के थे तो पीड़ित का धर्म गायब हो गया और चोरी का आरोप प्रमुख।

वैसे कथित सेकुलर मीडिया ने ऐसा कारनामा पहली बार नहीं किया है। पालघर में साधुओं की हत्या के समय भी चोरी के आरोप में तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या करके मीडिया में खबर चलाई गई थी।

यही कारण है कि संप्रदाय विशेष के किसी व्यक्ति की कथित मॉब लिंचिंग होने पर मोदी सरकार को कोसने वाला सेकुलर मीडिया राहुल की हत्या पर मौन है। उसे हिन्दू युवक का यह मॉब लिंचिंग दिखाई नहीं दे रहा है। अगर यह घटना संप्रदाय विशेष के किसी युवक के साथ हुई होती, तो सेकुलर गैंग टीवी चैनलों में बहस और सोशल मीडिया पर पोस्ट करते नजर आता। दिल्ली से लेकर बॉलीवुड तक सभी के हाथों में प्लेकार्ड और पोस्टर नजर आता। लेकिन आज सभी गायब हैं।

किसी भी व्यक्ति की हत्या मानवीय संवेदनाओं को झकझोर कर रख देती है, मरने वाला चाहे किसी भी धर्म, जाति या रंग का हो। लेकिन सेकुलर गैंग और बुद्धिजीवी व्यक्ति के धर्म, जाति और रंग को आधार बनाकर विरोध करते हैं। महज क्षुद्र राजनीतिक और व्यक्तिगत स्वार्थ के कारण कुछ लोग मोदी सरकार के खिलाफ मॉब लिंचिंग के नाम पर झूठ फैलाने से बाज नहीं आते हैं। सेकुलर और टुकड़े-टुकड़े गैंग हमेशा पक्षपाती चिंता जाहिर कर अपना हित साधने की कोशिश करता है।

गौरतलब है कि राहुल को एक पेड़ से बाँधकर डंडों और लोहे के छड़ों से उसे बेहरहमी से मारा। जिससे उसकी मौत हो गई। चारो आरोपितों को घटना के तुरंत बाद ही गिरफ्तार कर लिया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

कीचड़ मलती ‘गोरी’ पत्रकार या श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग… समाज/मदद के नाम पर शुद्ध धंधा है पत्रकारिता

श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग और जलती चिताओं की तस्वीरें छापकर यह बताने की कोशिश की जाती है कि स्थिति काफी खराब है और सरकार नाकाम है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe