Saturday, July 24, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाMHRC में रिपब्लिक TV के CEO की गिरफ्तारी के खिलाफ याचिका, मुंबई पुलिस की...

MHRC में रिपब्लिक TV के CEO की गिरफ्तारी के खिलाफ याचिका, मुंबई पुलिस की कार्रवाई पर उठे सवाल

रिपब्लिक’ का आरोप है कि मुंबई पुलिस बिना किसी कागजात के पहुँची थी और इस कार्रवाई को अंजाम दिया। चैनल ने कहा है कि ये कार्रवाई मुंबई पुलिस की प्रतिशोध और दुर्भावना से युक्त इरादों को दर्शाती है, जो उसने ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ के खिलाफ पाल रखा है। अर्णब गोस्वामी की गिरफ़्तारी के 39 दिन बाद ये कार्रवाई की गई है।

मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) विकास खानचंदानी को कथित टीआरपी (टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट्स) घोटाले के सिलसिले में रविवार (13 दिसंबर, 2020) सुबह गिरफ्तार किया। इस ‘अवैध गिरफ्तारी’ के खिलाफ महाराष्ट्र मानवाधिकार आयोग (MHRC) के समक्ष याचिका दायर की गई है। इसमें मामले पर तत्काल विचार करने और हस्तक्षेप की माँग की गई है।

बता दें यह याचिका अधिवक्ता आदित्य मिश्रा द्वारा दायर की गई है। उन्होंने MHRC से विकास द्वारा समन का अनुपालन करने का हवाला देते हुए कहा, “खानचंदानी पहले ही 12.10.2020 को पुलिस के समक्ष पेश होकर जाँच में सहयोग दे चुके हैं और मुंबई की क्राइम ब्रांच के सामने संबंधित दस्तावेज़ों को पेश कर चुके हैं। उनसे कथित तौर पर 9 घंटे के लिए पूछताछ की गई थी। फिर वे 7 दिसंबर 2020 को भी पुलिस के सामने पेश हुए।”

इसके साथ ही उन्होंने मामले को लेकर मुंबई पुलिस के रवैए पर सवाल उठाया है। याचिका में मुंबई पुलिस के अधिकार क्षेत्र को लेकर पूछा गया कि क्या ऐसे मामलों में ‘बल द्वारा दंडात्मक कार्रवाई की गई थी?’

उन्होंने कहा, “अगर तर्कों के लिए अभियोजन पक्ष के आरोपों को सही भी माना जाए तो फिर भी उपयुक्त मंच भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग है जो इस तरह के आरोपों को देखता है। पुलिस द्वारा दंडात्मक कार्रवाई बिलकुल भी सही नहीं थी, खासतौर पर तब जब आधार टीआरपी बढ़ाने के लिए नगद भुगतान के अस्पष्ट आरोपों का हो।”

बता दें CEO की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस का कहना है कि TRP स्कैम मामले की चल रही जाँच के क्रम में ये कार्रवाई की गई है। लेकिन ‘रिपब्लिक’ का कहना है कि ये इन सबके बावजूद किया गया है कि विकास खानचंदानी ने पुलिस की 100 घंटों की पूछताछ का सामना किया और जाँच प्रक्रिया के साथ पूरी तरह सहयोग किया, सवालों के जवाब दिए।

वहीं रिपब्लिक’ का यह भी आरोप है कि मुंबई पुलिस बिना किसी कागजात के वहाँ पर पहुँची थी और इस कार्रवाई को अंजाम दिया। चैनल ने कहा है कि ये कार्रवाई मुंबई पुलिस की प्रतिशोध और दुर्भावना से युक्त इरादों को दर्शाती है, जो उसने ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ के खिलाफ पाल रखा है। अर्णब गोस्वामी की गिरफ़्तारी के 39 दिन बाद ये कार्रवाई की गई है।

गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने CEO विकास खानचंदानी के घर पर छापेमारी कर उन्हें गिरफ्तार किया गया। सोमवार को ही इस मामले में उनकी अग्रिम जमानत की याचिका पर सुनवाई होनी थी, ऐसे में इससे पहले होने वाली इस कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं। अर्णब गोस्वामी ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “मुंबई पुलिस ने जान-बूझकर ऐसा किया है। ये कोर्ट की अवमानना है और लोग इसके ख़िलाफ़ आवाज़ उठाएँ।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमने मोदी को जिताया की रट लगाते हो, खुद 2 बार लड़े तो क्यों नहीं जीत गए?’ महिला पत्रकार ने उतार दी राकेश टिकैत...

'इंडिया 1 न्यूज़' की गरिमा सिंह ने राकेश टिकैत के इस बयान को लेकर भी सवाल पूछा जिसमें वो बार-बार कहते हैं कि इस सरकार को 'हमने जिताया'।

UP में सपा-AIMIM का मुस्लिम डिप्टी CM, मायावती का ब्राह्मण प्रेम और राहुल गाँधी को पसंद नहीं ‘अमेठी’ के आम: 2022 की तैयारी

राहुल गाँधी ने कहा कि उन्हें यूपी के आम का स्वाद पसंद नहीं। उन्होंने कहा कि उन्हें आंध्र प्रदेश के आम पसंद हैं। ओवैसी ने सपा को दिया गठबंधन का ऑफर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,931FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe