Tuesday, April 13, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया गणपति को हीन दिखाने में जुटे राजदीप सरदेसाई, बोला - 'महामारी के आगे झुकते...

गणपति को हीन दिखाने में जुटे राजदीप सरदेसाई, बोला – ‘महामारी के आगे झुकते हैं भगवान भी’

"इस बार लालबागचा नहीं आएँगे: कोरोना के कारण मुंबई की सालों पुरानी परंपरा भी चली गई। सोचिए भगवान ने भी महामारी के आगे घुटने टेक दिए! इस साल लाल बाग चा राजा नहीं मनाया जाएगा!"

कोरोना महामारी के कारण कई जरूरी काम इस साल स्थगित कर दिए गए। कई त्यौहारों में भी वो रौनक नहीं दिखी, जो पिछले साल तक उत्सवों में थी। इसी क्रम में गणेश चतुर्थी भी अब आने वाली है। लेकिन पूरा महाराष्ट्र उसकी तैयारियों की जगह विश्वव्यापी महामारी से उभरने में लगा हुआ है। जिसके कारण गणेशोत्सव से जुड़ी इस बार मुंबई की 87 साल पुरानी परंपरा भी छूट गई। मगर, उसकी जगह मानवता की मिसाल को कायम करने का फैसला लिया गया।

इस बार कोरोना महामारी के कारण मुंबई में मशहूर लालबागचा राजा यानी लालबाग के राजा गणेश भगवान की मूर्ति नहीं बिठाई जाएगी। आज ही इस समारोह के रद्द किए जाने की घोषणा हुई है। फैसला लिया गया है कि इस बार ब्लड डोनेशन और प्लाज्मा डोनेशन के लिए कैंप आयोजित होंगे। इस खबर के आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों की अलग-अलग प्रतिक्रिया आ रही है। लोग इस फैसले को लेकर अपनी-अपनी राय प्रकट करके समझाने में लगे हुए हैं।

लेकिन, इसी बीच मीडिया गिरोह के कुछ लोग भी हैं, जो अपनी धूर्तता दिखाने से बाज नहीं आ रहे। इंडिया टुडे के वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई को ही देखिए। राजदीप इस खबर को बताते हुए अपनी मूर्खता का प्रदर्शन करने से नहीं चूकते।

वे लिखते हैं, “इस बार लालबागचा नहीं आएँगे: कोरोना के कारण मुंबई की सालों पुरानी परंपरा भी चली गई। सोचिए भगवान ने भी महामारी के आगे हार मान ली! इस साल लाल बागचा राजा नहीं मनाया जाएगा!”

जी हाँ। सही पढ़ा आपने, राजदीप ने भगवान गणेश के लिए महामारी के सामने ‘हार मानने’ जैसे शब्द का ही प्रयोग किया है। लेकिन ऐसा करते हुए शायद राजदीप भूल गए कि जिन देवाधिदेव गणपति को लेकर वह अपनी टुच्ची मानसिकता को उजागर कर रहे हैं, उन गणपति के प्रति लोगों के मन में इतनी श्रद्धा है कि मात्र एक साल के गैप के कारण वो आने वाले समय में इस परंपरा को खत्म नहीं होने देंगे।

रही बात घुटने टेक देने की या हार मान जाने की, तो राजदीप को यह जानना आवश्यक है कि हिंदू धर्म में, हर शुभ कार्य को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए गणपति का स्मरण किया जाता है और माना जाता है कि उनके ध्यान मात्र से आने वाले विघ्नों का हरण होगा। बावजूद उसके कोई काम किसी कारणवश पूरा न हो पाए, या हमारी गलतियों व परिस्थिति के कारण वह अधूरा रह जाए तो ये भूलकर भी नहीं कहा जाता है कि परेशानी इतनी विकराल थी कि गणपति भी उसमें कारगर साबित नहीं हो पाए।

अपने सेकुलर अजेंडे की रोटियाँ सेंकते-सेंकते शायद राजदीप भूल चुके हैं कि धार्मिक भावनाएँ क्या होती हैं? भगवान के प्रति श्रद्धा किसे कहते हैं? उन्हें तो किसी कार्यक्रम के रद्द होने के पीछे सिर्फ़ एक नजरिया दिखता है, जिसमें वो किसी भी प्रकार से हिंदुओं की भावना को ठेस पहुँचाना चाहते हैं। या फिर गणपति भगवान को किसी सरकारी तंत्र या विपक्षी पार्टी की तरह मानते हैं, जिनके घुटने टेकने से राजदीप जैसों में खुशी की लहर दौड़ती है।

खैर! सोशल मीडिया पर राजदीप सरदेसाई के इस घटिया कॉमेंट के लिए उन्हें खूब लताड़ लगाई जा रही है। पुलिस अधिकारी प्रणव महाजन राजदीप को जवाब देते हुए कहते हैं कि सर्वशक्तिमान कभी घुटने नहीं टेकते। बल्कि वे तो खुश हैं कि उनके भक्त ये जानते हैं कि इस चुनौती का समाधान कैसे करना है।

गौरतलब हो कि इस वर्ष लालाबागचा राजा सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल ने इस बड़े समारोह का आयोजन करने की जगह ‘आरोग्य उत्सव’ मनाने का ऐलान किया है। इस आयोजन के तहत वह ब्लड व प्लाज्मा डोनेशन कैंप लगाने जा रहे हैं। ताकि कोरोना महामारी के कारण उपजे हालातों से लड़ने में जरूरतमंदों की मदद हो सके।

लालबाग मंडल के सचिव सुधीर साल्वी ने कहा, “हमने इस साल गणेश उत्सव नहीं मनाने का फैसला किया है। हम इसे हेल्थ फेस्टिवल की तरह मनाएँगे। यह फैसला महामारी के चलते लिया गया है। त्योहार के उन 10 दिनों में हम ब्लड डोनेशन कैंप लगाएँगे, वहीं प्लाज़्मा डोनेशन के लिए लोगों को बढ़ावा देने के लिए जागरूक करेंगे। हम महामारी के चलते अपनी जान देने वाले पुलिसकर्मी और जवानों के परिवारों की भी मदद करेंगे। हम महामारी के लिए मुख्यमंत्री कोष में भी 25 लाख की रकम जमा कर रहे हैं।”

वहीं अधिकांश गणेश मंडल की ओर से भी इस बार तड़कता-भड़कता आयोजन न करने का ऐलान किया गया है। लेकिन बावजूद इन सभी मतों व प्रस्ताव के, राजदीप का इस पक्ष को एकदम नकारना और केवल भगवान का नाम लेकर लोगों को बरगलाने की कोशिश करना, यह बताता है कि उनकी चिंता इस बार लालबागचा का न आना या फिर मुंबई की सालों पुरानी परंपरा को छूटना नहीं है। बल्कि उनका एजेंडा तो यह है कि किस प्रकार से वामपंथी प्रोपेगेंडे को महामारी के समय में हवा देकर हिंदू आस्था को आहत किया जाए।

बता दें कि राजदीप सरदेसाई की इस टिप्पणी ने इस बार शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी तक को आहत कर दिया। जिसके कारण प्रियंका ने राजदीप को आड़े हाथों लेते हुए समझाया- लालबागचा ने महामारी के आगे घुटने नहीं टेके। बल्कि समाज को मार्ग दर्शाया है कि कैसे प्लाज्मा डोनेशन कैंप को आयोजित करके महामारी से लड़ा जा सकता है। प्रियंका चतुर्वेदी लिखती हैं कि राजा और त्यौहार पर आधी जानकारी से भरा ट्वीट उसे भयानक बनाता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मरकज से कुम्भ की तुलना पर CM तीरथ सिंह ने दिया ‘लिबरलों’ को करारा जवाब, कहा- एक हॉल और 16 घाट, इनकी तुलना कैसे?

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की तुलना तबलीगी जमात के मरकज से करने वालों को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने करारा जवाब दिया है।

यूपी पंचायत चुनाव लड़ रहे एक प्रत्याशी के घर से भारी मात्रा समोसे-जलेबी की जब्ती, दक्षिण भारत में छिड़ा घमासान

क्या ज़माना आ गया है। चुनाव के मौसम में छापे मारने पर समोसे और जलेबियाँ बरामद हो रही हैं! जब ज़माना अच्छा था और सब ख़ुशी से जीवनयापन करते थे तब चुनावी मौसम में पड़ने वाले छापे में शराब जैसे चुनावी पेय पदार्थ बरामद होते थे।

100 करोड़ की वसूली के मामले में अनिल देशमुख को CBI का समन, 14 अप्रैल को होगी ‘गहन पूछताछ’

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 100 करोड़ रुपए की वसूली मामले में पूछताछ के लिए समन जारी किया है। उन्हें 14 अप्रैल को जाँच एजेंसी के सामने पेश होना पड़ेगा।

आंध्र या कर्नाटक… कहाँ पैदा हुए रामभक्त हनुमान? जन्म स्थान को लेकर जानें क्यों छिड़ा है नया विवाद

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) द्वारा गठित एक विशेषज्ञ पैनल 21 अप्रैल को इस मामले पर अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है। पैनल में वैदिक विद्वानों, पुरातत्वविदों और एक इसरो वैज्ञानिक भी शामिल हैं।

‘गुस्ताख-ए-नबी की इक सजा, सर तन से जुदा’: यति नरसिंहानंद के खिलाफ मुस्लिम बच्चों ने लगाए नारे, वीडियो वायरल

डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद के खिलाफ सोमवार को मुस्लिम बच्चों ने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाए। पिछले हफ्ते आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर महंत की गर्दन काट देने की बात की थी।

कुम्भ और तबलीगी जमात के बीच ओछी समानता दिखाने की लिबरलों ने की जी-तोड़ कोशिश, जानें क्यों ‘बकवास’ है ऐसी तुलना

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की दुर्भावनापूर्ण इरादे के साथ सोशल मीडिया पर सेक्युलरों ने कुंभ तुलना निजामुद्दीन मरकज़ के तबलीगी जमात से की है। जबकि दोनों ही घटनाओं में मूलभूत अंतर है।

प्रचलित ख़बरें

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।

गुफरान ने 5 साल की दलित बच्ची का किया रेप, गला घोंट मार डाला: ‘बड़े सरकार की दरगाह’ पर परिवार के साथ आया था

गुफरान अपने परिवार के साथ 'बड़े सरकार की दरगाह' पर आया हुआ था। 30 वर्षीय आरोपित ने रेप के बाद गला घोंट कर बच्ची की हत्या की।

SHO अश्विनी की हत्या के लिए मस्जिद से जुटाई गई थी भीड़: बेटी की CBI जाँच की माँग, पत्नी ने कहा- सर्किल इंस्पेक्टर पर...

बिहार के किशनगंज जिला के नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार की शनिवार को पश्चिम बंगाल में हत्या के मामले में उनकी बेटी ने इसे षड़यंत्र करार देते हुए सीबीआई जाँच की माँग की है। वहीं उनकी पत्नी ने सर्किल इंस्पेक्टर पर केस दर्ज करने की माँग की है।

कुरान की 26 आयतों को हटाने वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज, वसीम रिजवी पर 50000 रुपए का जुर्माना

वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में कुरान की 26 आयतों को हटाने के संबंध में याचिका दाखिल की थी। इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,160FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe