Wednesday, May 25, 2022
Homeरिपोर्टमीडिया'2 BHK के लिए करना पड़ता है सपा को समर्थन' : UP नतीजों...

‘2 BHK के लिए करना पड़ता है सपा को समर्थन’ : UP नतीजों की भविष्यवाणी करने से रोहिणी सिंह ने बनाई दूरी, नेटिजन्स ने उड़ाया खूब मजाक

रोहिणी सिंह ने साल 2017 में अखिलेश यादव की सपा के लिए माहौल बनाने के क्रम में जमकर झूठ बोला था, जिसकी वजह से लोग आज भी उन्हें भला-बुरा सुनाते हैं, यही वजह है कि इस बार रोहिणी ने चुनाव पर कोई भी टिप्पणी करने से मना किया है।

अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी की खातिर सदैव मैदान में डटी रहने वाली द वायर पत्रकार रोहिणी सिंह ने साल 2022 में यूपी चुनावों के मद्देनजर कोई भी भविष्यवाणी करने से मना कर दिया है। अपने ट्वीट में उन्होंने बताया कि अगर उन्होंने विपक्षी पार्टी की जीत को लेकर अनुमान लगाए और वो नहीं जीतीं तो सत्ताधारी पार्टी की आईटी सेल उनके पीछे पड़ जाएगी।

ये ट्वीट रोहिणी ने 5 मार्च 2022 को किया। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, “बीजेपी की जीत की भविष्यवाणी करना और ऐसा नहीं होने पर, कोई कुछ नहीं कहता। मगर यदि आप विपक्षी दल की जीत की भविष्यवाणी करते हैं और ऐसा नहीं होता तो आईटी सेल और दशक की सबसे शक्तिशाली सरकार आप पर जोर दिखाएगी। चुनाव बराबरी का है ये कहना ही सबसे ज्यादा सुरक्षित है।”

रोहिणी के इस ट्वीट को देखने के बाद सोशल मीडिया पर यूजर्स उनका धड़ल्ले से मजाक उड़ा रहे हैं। लोगों का कहना है कि उन्हें 2017 में की गई भविष्यवाणी के बाद हुई फजीहत याद है। एक्स-सेकुलर नाम के ट्विटर हैंडल से रोहिणी सिंह के ट्वीट पर प्रतिक्रिया आई और तंज कसते हुए बताया गया कि जो रोहिणी ने कहा है उसका अनुवाद है, “मैंने साल 2017 में फेक न्यूज फैलाई कि सपा जीत रही है और मुझे बदले में 2 बीएचके फ्लैट मिला। आईटी भक्त आज भी मुझे ट्रोल करते हैं। इसलिए मैं अब कोई अनुमान नहीं लगाऊँगी।” 

सहेली मुखर्जी ने इस ट्वीट पर रोहिणी को आड़े हाथों लेते हुए एक और अनुवाद किया और बताया कि इस ट्वीट में रोहिणी कहना चाहती हैं, “मैं अच्छे से जानती हूँ कि भाजपा ही जीतेगी लेकिन मेरे 2 बीएचके के लए मुझे समाजवादी पार्टी को समर्थन देना है। इसलिए जब भी रिजल्ट आएँ तो कृपया मुझपर चिल्लाना मत।”

कुछ अन्य यूजर्स भी है जो इस तरह रोहिणी द्वारा कोई भी टिप्पणी न दिए जाने पर कह रहे हैं कि रोहिणी को मालूम है इस बार योगी सरकार आएगी। इसलिए निराश होकर वो ऐसे ट्वीट कर रही हैं। वहीं कुछ लोग कह रहे हैं कि उन्हें बुरा लग रहा है कि वो 2BHK फ्लैट को 3-4 BHK में अपग्रेड नहीं करवा पाएँगी, क्योंकि न तो सपा आएगी और न ही उन्हें ये फायदा मिलेगा।

साल 2017 में रोहिणी सिंह के दावे

गौरतलब है क पाँच साल पहले साल 2017 में जब विधानसभा चुनाव थे तब रोहिणी सिंह बीजेपी के ख़िलाफ़ माहौल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही थीं। 2017 में चुनाव के नतीजे आने से पहले तक रोहिणी का दावा यही था कि राज्य में बीजेपी संघर्ष कर रही है, उनका सत्ता में आने का कोई चांस नहीं है। एक ट्वीट में उन्होंने लिखा था, “यूपी में घूम रही हूँ और नोटबंदी के कारण गुस्सा हर जगह देखने को मिल रहा है। अचंभित हूँ कि दिल्ली के विश्लेषक कैसे इसे नजर अंदाज कर रहे हैं।” सपा के लिए माहौल बनाते हुए रोहिणी ने एक ट्वीट में अपना चुनावी विश्लेषण बताया था। उन्होंने लिखा था “सबसे बड़ी लूजर भाजपा होगी, आरएलडी को 2 फायदे होंगे। गठबंधन उम्मीद से भी ज्यादा फायदा देने वाला है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सिविल ड्रेस में रायफल के साथ घर में घुसे…आतंकियों की तरह घसीटा’: तजिंदर बग्गा ने शेयर किया पंजाब पुलिस का वीडियो

तेजिंदर बग्गा ने जो नया वीडियो शेयर किया है, उसमें रायफल के साथ सिविल ड्रेस में आई पंजाब पुलिस को उन्हें घसीट कर ले जाते हुए देखा जा सकता है।

शिक्षा का गुजरात मॉडल: सूरत के सरकारी स्कूलों में एडमिशन की होड़, लगातार तीसरे साल प्राइवेट स्कूल पीछे

दिल्ली के तथकथित शिक्षा मॉडल का आपने खूब प्रचार सुना होगा। इससे इतर गुजरात के सूरत के सरकारी स्कूलों में एडमिशन के लिए भारी भीड़ दिख रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,731FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe