Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजसुशांत मामले में संदीप सिंह ने अर्नब गोस्वामी को भेजा मानहानि का नोटिस: माँगा...

सुशांत मामले में संदीप सिंह ने अर्नब गोस्वामी को भेजा मानहानि का नोटिस: माँगा ₹200 करोड़ का मुआवजा

इसमें यह भी कहा गया कि संदीप की पीआर टीम ने मीडिया में डिस्ट्रिब्यूट करने के लिए उस समय तस्वीर क्लिक की थी। नोटिस के अनुसार रिपब्लिक टीवी की कुछ रिपोर्टों ने दावा किया कि संदीप सीबीआई जाँच के खिलाफ थे। इसमें एक #ArrestSandeepSingh हैशटैग का भी उल्लेख है जिसे रिपबल्कि भारत ने चलाया था।

सुशांत सिंह राजपूत के दोस्त संदीप सिंह ने रिपब्लिक टीवी और अर्नब गोस्वामी को 200 करोड़ रुपए का मानहानि नोटिस भेजा है। यह नोटिस आईपीसी की धारा 499 के तहत भेजा गया है जो धारा 500 के अंतर्गत दण्डनीय है। अपने इंस्टाग्राम पर संदीप ने यह पत्र शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा, “यह भुगतान का समय है।”

नोटिस में संदीप की ओर से लिखा गया कि उन्हें रिपब्लिक टीवी व उसके एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी ने ‘मुख्य साजिशकर्ता’ और ‘हत्यारा’ बताया था। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उनके खिलाफ चैनल पर चल रही न्यूज को रुकवाने के लिए चैनल के ही किसी शख्स ने उनसे मॉनेट्री बेनेफिट्स के लिए संपर्क किया था। हालाँकि उनके मना करने के बाद चैनल ने उनके खिलाफ़ कई रिपोर्ट्स लिखीं और कई संगीन आरोप लगाए।

वसूली करने का आरोप लगाते हुए नोटिस में कहा गया कि रिपब्लिक भारत ने जो संदीप सिंह पर आरोप लगाए वह सब निराधार हैं और उन्हें साबित करने के लिए कोई सबूत भी नहीं है। इसमें यह भी लिखा है कि चैनल ने स्मिता प्रकाश को बुलाकर संदीप को बदनाम करवाने का प्रयास किया। वहीं उन रिपोर्ट्स का भी जिक्र है जिनमें उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश हुई।

नोटिस के अनुसार, 3, 5, 14, और 20 अगस्त की रिपोर्टस में आपत्तिजनक सामग्री का इस्तेमाल करके संदीप को बदनाम करने की कोशिश हुई। शो के एक सेगमेंट में उन पर यह भी आरोप लगाए गए कि उन्होंने ही एंबुलेंस से कहा था कि बॉडी को कूपर अस्पताल लेकर जाया जाए।

इसमें यह भी कहा गया कि संदीप की पीआर टीम ने मीडिया में डिस्ट्रिब्यूट करने के लिए उस समय तस्वीर क्लिक की थी। नोटिस के अनुसार रिपब्लिक टीवी की कुछ रिपोर्टों ने दावा किया कि संदीप सीबीआई जाँच के खिलाफ थे। इसमें एक #ArrestSandeepSingh हैशटैग का भी उल्लेख है जिसे रिपबल्कि भारत ने चलाया था।

नोटिस में लिखा है कि 22 से 24 अगस्त में रिपब्लिक टीवी संवाददाता उनके आवास में घुसे और उनके सिक्योरिटी गार्ड व डोमेस्टिक हेल्पर्स को परेशान किया। सुशांत के तथाकथित दोस्त संदीप के अनुसार, यह दूसरा प्रयास था उन्हें बदनाम करने का।

नोटिस में कहा गया है कि चैनल अपने प्लैटफॉर्म से इस तरह की सारी सामग्री हटाए और वास्तविक तथ्यों के साथ उनसे माफी माँगे। इस नोटिस में रिपब्लिक टीवी को 15 दिन का समय दिया गया है वरना यह मामला कोर्ट में फाइल किया जाएगा।

गौरतलब है कि 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत का शव उनके घर में फंदे से लटका मिलने के बाद इस मामले में कई उतार-चढ़ाव देखने को मिले। उनकी प्रेमिका रिया चक्रवर्ती पर इस मामले में कई गंभीर आरोप लगे। इसके अलावा कई बॉलीवुड हस्तियाँ भी चर्चा में आईं। एक्टर के निधन के बाद उनके घर सबसे पहले पहुँचने वाले दोस्तों में संदीप का नाम होने के कारण उन पर भी कई इल्जाम लगाए गए।

इसके बाद संदीप सिंह, रिया चक्रवर्ती समेत कई लोग शक के घेरे में आ गए। वर्तमान में इस पूरे मामले की जाँच तीन जाँच एजेंसियों द्वारा की जा रही है- ईडी, एनसीबी, और सीबीआई। ड्रग मामले में गिरफ्तार होने के बाद रिया को हाल ही में बेल मिली है और उनका भाई शौविक अब भी जेल में है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe