Wednesday, May 19, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया लेफ्टिस्ट प्रोपेगेंडा वेबसाइट The Quint ने अपने 45 एम्प्लॉई को अनिश्चितकाल के लिए बिना...

लेफ्टिस्ट प्रोपेगेंडा वेबसाइट The Quint ने अपने 45 एम्प्लॉई को अनिश्चितकाल के लिए बिना वेतन के छुट्टी पर भेजा

“अगले कुछ हफ्तों में भारत इस कोरोना COVID-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में बहुत बुरा प्रदर्शन करने वाला है या चमत्कारिक ढंग से बच निकलेगा, अभी कोई नहीं कह सकता। दूसरी बात कोरोना महामारी के चलते जिस तरह से शट डाउन है लॉकडाउन है इसने एक आर्थिक तूफान के केंद्र में हमें ला दिया है। यह एक अप्रत्याशित दोहरी मार के समान है।"

चरमपंथी लेफ्टिस्ट प्रोपोगंडा वेबसाइट The Quint ने अपने 45 एम्प्लॉई को वुहान कोरोना वायरस के चलते अनिश्चित काल तक के लिए अवैतनिक अवकाश पर भेज दिया है। प्रोपोगंडा वेबसाइट ने जिन जिन को अवैतनिक अवकाश पर भेजा है उनमें रिपोर्टर्स हैं, कॉपी एडिटर्स हैं, एक ब्यूरो चीफ है, प्रॉडक्शन स्टॉफ है और पूरी टेक्नोलॉजी टीम है।

टीम को इस बात की सूचना ईमेल के जरिए सोमवार को दी गई, जो OpIndia के पास है। इन एम्प्लॉई को 15th अप्रैल से ‘फरलो’ पर अनिश्चित काल तक के लिए भेज दिया गया है।

ईमेल कहती है, “अगले कुछ हफ्तों में भारत इस कोरोना COVID-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में बहुत बुरा प्रदर्शन करने वाला है या चमत्कारिक ढंग से बच निकलेगा, अभी कोई नहीं कह सकता। दूसरी बात कोरोना महामारी के चलते जिस तरह से शट डाउन है लॉकडाउन है इसने एक आर्थिक तूफान के केंद्र में हमें ला दिया है। यह एक अप्रत्याशित दोहरी मार के समान है।”

“हमने कभी ऐसा विश्व नहीं देखा जहाँ उपभोक्ता व्यय 50% कम हो गई हो, जहाँ सालों में बने एसेट्स की वैल्यू कुछ दिनों में मिट्टी में मिल जाती हो। हमें बिलकुल नहीं पता यह सब कहाँ खत्म होगा।

ईमेल आगे जोड़ती है, “इन स्थितियों में यह साफ़ है कि अगले 3-4 महीनों के दौरान हमारे राजस्व स्रोत बेहद दबाव में होंगे। इस समय किसी के लिए भी प्राथमिक उद्देश्य होने चाहिए- a. सभी स्वस्थ रहें। b. आपके इस तरुण संगठन को इस दौरान बचाये रखना जिससे, भविष्य में लड़ाई लड़ी जा सके।”

“यह सिर्फ तभी हो सकता है जब हम इमरजेंसी एक्शन लें और ऐसे कदम उठाएँ जो सिर्फ ‘rarest of rare’ परिस्थितियों में उठाए जाते हैं, ऐसे कदम जो शायद हमें संकुचित करने वाले हों, पर इस कठिन समय में वो हमारे सर्वाइवल के लिए मददगार हो सकतें हैं।”

The Quint ने दावा किया कि वह अपने एम्प्लॉई को अनिश्चितकाल के लिए अवैतनिक अवकाश पर भेज कर खुश नहीं है, और वह अपने इन एम्प्लॉई की हमेशा शुक्रगुजार रहेगी। The Quint के अलावा दूसरे मीडिया संगठनों से भी कोरोना वायरस के चलते फरलो और नौकरी से निकाले जाने की खबरें आ रहीं हैं।

बहुत सारे लोगों ने इस महामारी के चलते अपनी नौकरियाँ गँवाईं हैं और आशंका है कि जैसे-जैसे ये संकट बढ़ेगा और लोग भी नौकरियाँ खो सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी स्ट्रेन’: कैसे कॉन्ग्रेस टूलकिट ने की PM मोदी की छवि खराब करने की कोशिश? NDTV भी हैशटैग फैलाते आया नजर

हैशटैग और फ्रेज “#IndiaStrain” और “India Strain” सोशल मीडिया पर अधिक प्रमुखता से उपयोग किया गया। NDTV जैसे मीडिया हाउसों को शब्द और हैशटैग फैलाते हुए भी देखा जा सकता है।

कॉन्ग्रेस टूलकिट का प्रभाव? पैट कमिंस और दलाई लामा को PM CARES फंड में दान करने के लिए किया गया था ट्रोल

सोशल मीडिया पर पीएम मोदी को बदनाम करने के लिए एक नया टूलकिट सामने आने के बाद कॉन्ग्रेस पार्टी एक बार फिर से सुर्खियों में है। चार-पृष्ठ के दस्तावेज में पीएम केयर्स फंड को बदनाम करने की योजना थी।

₹50 हजार मुआवजा, 2500 पेंशन, बिना राशन कार्ड भी फ्री राशन: कोरोना को लेकर केजरीवाल सरकार की ‘मुफ्त’ योजना

दिल्‍ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने कोरोना महामारी में माता पिता को खोने वाले बच्‍चों को 2500 रुपए प्रति माह और मुफ्त शिक्षा देने का ऐलान किया है।

ख़लीफ़ा मियाँ… किसाण तो वो हैं जिन्हें हमणे ट्रक की बत्ती के पीछे लगाया है

हमने सब ट्राई कर लिया। भाषण दिया, धमकी दी, ज़बरदस्ती कर ली, ट्रैक्टर रैली की, मसाज करवाया... पर ये गोरमिंट तो सुण ई नई रई।

कॉन्ग्रेस के इशारे पर भारत के खिलाफ विदेशी मीडिया की रिपोर्टिंग, ‘दोस्त पत्रकारों’ का मिला साथ: टूलकिट से खुलासा

भारत में विदेशी मीडिया संस्थानों के कॉरेस्पोंडेंट्स के माध्यम से पीएम मोदी को सभी समस्याओं के लिए जिम्मेदार ठहराया गया।

‘केरल मॉडल’ वाली शैलजा को जगह नहीं, दामाद मुहम्मद रियास को बनाया मंत्री: विजयन कैबिनेट में CM को छोड़ सभी चेहरे नए

वामपंथी सरकार की कैबिनेट में सीएम विजयन ने अपने दामाद को भी जगह दी है, जो CPI(M) यूथ विंग के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं।

प्रचलित ख़बरें

जैश की साजिश, टारगेट महंत नरसिंहानंद: भगवा कपड़ा और पूजा सामग्री के साथ जहाँगीर गिरफ्तार, साधु बन मंदिर में घुसता

कश्मीर के रहने वाले जान मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर को साधु के वेश में मंदिर में घुस कर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या करनी थी।

अल्लाह-हू-अकबर चिल्लाती भीड़ का हमला: यहूदी खून से लथपथ, बचाव में उतरी लड़की का यौन शोषण

कनाडा में फिलिस्तीन समर्थक भीड़ ने एक व्यक्ति पर हमला कर दिया जो एक अन्य यहूदी व्यक्ति को बचाने की कोशिश कर रहा था। हिंसक भीड़ अल्लाह-हू-अकबर का नारा लगाते हुए उसे लाठियों से पीटा।

विनोद दुआ की बेटी ने ‘भक्तों’ के मरने की माँगी थी दुआ, माँ के इलाज में एक ‘भक्त’ MP ने ही की मदद

मोदी समर्थकों को 'भक्त' बताते हुए मल्लिका उनके मरने की दुआ माँग चुकी हैं। लेकिन, जब वे मुश्किल में पड़ी तो एक 'भक्त' ने ही उनकी मदद की।

भारत में दूसरी लहर नहीं आने की भविष्यवाणी करने वाले वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने सरकारी पैनल से दिया इस्तीफा

वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने भारत में कोविड-19 के प्रकोप की गंभीरता की भविष्यवाणी करने में विफल रहने के बाद भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) के वैज्ञानिक सलाहकार समूह के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया।

मेवात के आसिफ की हत्या में सांप्रदायिक एंगल नहीं, पुरानी राजनीतिक दुश्मनी: हरियाणा पुलिस

आसिफ की मृत्यु की रिपोर्ट आने के तुरंत बाद, कुछ मीडिया हाउसों ने दावा किया कि उसे मारे जाने से पहले 'जय श्री राम' बोलने के लिए मजबूर किया गया था, जिसकी वजह से घटना ने सांप्रदायिक मोड़ ले लिया।

ओडिशा के DM ने बिगाड़ा सोनू सूद का खेल: जिसके लिए बेड अरेंज करने का लूटा श्रेय, वो होम आइसोलेशन में

मदद के लिए अभिनेता सोनू सूद को किया गया ट्वीट तब से गायब है। सोनू सूद वास्तव में किसी की मदद किए बिना भी कोविड-19 रोगियों के लिए मदद की व्यवस्था करने के लिए क्रेडिट का झूठा दावा कर रहे थे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,390FansLike
96,203FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe