Monday, July 26, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाकाम पर लग गए 'कॉन्ग्रेसी' पत्रकार: पश्चिम बंगाल में 'मौत' वाले मौलाना से गठबंधन...

काम पर लग गए ‘कॉन्ग्रेसी’ पत्रकार: पश्चिम बंगाल में ‘मौत’ वाले मौलाना से गठबंधन और कलह से दूर कर रहे असम की बातें

पत्रकार रोहिणी सिंह ने लिखा कि जितने भी राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं, उन सब में असम में कॉन्ग्रेस का प्रचार अभियान सटीक तरीके से चल रहा है। गौरव गोगोई जैसे 'युवा नेता' के ट्वीट्स भी रीट्वीट करते हुए...

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस कट्टरवादी मौलाना की पार्टी के साथ गठबंधन कर रही है। ऐसे में पत्रकारों (कॉन्ग्रेसी) ने बंगाल चुनाव से ध्यान भटका कर असम की बातें करनी शुरू कर दी है। पत्रकार रोहिणी सिंह लगातार सोशल मीडिया पर असम की बातें कर रही हैं।

ओपिनियन पोल में भी वहाँ भाजपा को वापसी करते हुए दिखाया जा रहा है, बावजूद इसके रोहिणी सिंह सरीखे पत्रकार कॉन्ग्रेस के प्रचारक बन कर दिन-रात एक हुए हैं।

रोहिणी सिंह ने ट्विटर पर लिखा, “जितने भी राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं, उन सब में असम में कॉन्ग्रेस का प्रचार अभियान सटीक तरीके से चल रहा है। साथ ही सभी नेताओं ने ध्यान भी दिया हुआ है। सभी नेता ठीक तरह से साथ मिल कर कार्य कर रहे हैं। अभी शुरुआती दौर में कुछ भी कहना मुश्किल है कि क्या होगा, क्योंकि भाजपा राज्य में खासी मजबूत है।”

ट्विटर पर उन्होंने कॉन्ग्रेस की खूब तारीफ की। साथ ही वो अपने हैंडल से गौरव गोगोई के ट्वीट्स भी रीट्वीट कर रही हैं, जो असम में कॉन्ग्रेस के बड़े नेता हैं।

उन्होंने उनकी बड़ाई करते हुए लिखा भी कि गौरव गोगोई जैसे ‘युवा नेता’ अपनी पार्टी के लिए कड़ी मेहनत करते हुए चुनाव प्रचार में लगे हैं, वहीं आनंद शर्मा जैसे अनुभवी और विभिन्न पदों पर बैठे नेता चुनाव के बीच में अपनी ही पार्टी पर हमला बोल रहे हैं। उन्होंने दोनों को एकदम उलटा करार दिया। उनका इशारा G-23 की तरफ था।

जम्मू में कॉन्ग्रेस के 23 अनुभवी नेताओं ने मिल कर आलाकमान को कड़ा संदेश दिया। पार्टी में लोकतंत्र की स्थापना और अध्यक्ष पद के लिए चुनाव कराने की माँग की गई।

रोहिणी सिंह ने ये भी लिखा कि असम का चुनाव पश्चिम बंगाल से खासा रोचक होगा। जब एक व्यक्ति ने खंडित जनादेश की भविष्यवाणी की तो रोहिणी ने लिखा कि कॉन्ग्रेस वहाँ रोचक चुनाव प्रचार अभियान चला रही है और देखते हैं कि क्या होता है।

दरअसल, ये सब इसीलिए किया जा रहा है ताकि पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस की कलह और इस्लामी कट्टरपंथियों से गठजोड़ को छिपाया जा सके।

पश्चिम बंगाल में गठबंधन को लेकर कलह अब सामने है। प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी और आनंद शर्मा आपस में लड़ रहे हैं। फुरफुरा शरीफ के मौलाना अब्बास सिद्दीकी को गठबंधन में शामिल किया गया है, जो भारतीयों को वायरस से मरने की दुआ माँगता है। साथ ही वो मुस्लिमों के बहुमत में होने की बात भी करता है।

फ़िलहाल प्रियंका गाँधी चुनाव प्रचार के क्रम में असम पहुँची हुई हैं और चाय बागान में काम करने वाले मजदूरों के साथ उन्होंने पत्तियाँ तोड़ते हुए कई तस्वीरें भी क्लिक करवाई हैं, जिन्हें कॉन्ग्रेस ने सोशल मीडिया पर शेयर किया।

साधुरु टी गार्डन में प्रियंका ने मजदूरों के साथ मुलाकात की। हालाँकि, इस दौरान वो कई बार असहज भी नजर आईं और अपने सिर पर रखे गमछे को संभालती हुई दिखीं, जिसे मजदूर महिलाओं ने ठीक किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe