नमामि गंगे पर कानपुर में मोदी की क्लास, स्टीमर पर बैठ कर लिया सफाई कार्यों का जायजा

समीक्षा बैठक के बाद प्रधानमंत्री अन्य मंत्रियों और अधिकारियों के संग गंगा के दर्शन के लिए बैराज स्थित अटल घाट की ओर गए। स्टीमर पर सवार होकर वो सरसैया घाट के लिए रवाना हुए। इसके बाद गंगा में आधा घंटा तक सफाई कार्यों का जायजा लिया।

साल 2014 में सत्ता संभालने के साथ गंगा नदी को प्रदूषण रहित करने का बीड़ा उठाने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दूसरे कार्यकाल में भी गंगा को निर्मल बनाने के लिए प्रयासरत हैं। इसी क्रम में उन्होंने शनिवार को कानपुर में राष्ट्रीय गंगा परिषद पर हुई बैठक में हिस्सा लिया। साथ ही इस बैठक में उन्होंने गंगा नदी की निर्मलता के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा भी की।

शनिवार (दिसंबर 14, 2019) को चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के सभागार में आयोजित इस बैठक में पीएम मोदी को नमामि गंगे परियोजना की प्रगति पर जानकारी दी गई। इसके बाद उन्होंने गंगा की सफाई के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना की और परियोजना में तेजी लाने के लिए पर्याप्त धन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया।

इस दौरान उनके साथ राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत भी मौजूद रहे। इन्होंने अपने-अपने राज्यों में गंगा नदी की स्वच्छता के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी प्रधानमंत्री को दी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके अलावा समीक्षा बैठक में केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर, पर्यटन एवं सांस्कृतिक राज्यमंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल आदि भी उपस्थित रहे।

समीक्षा बैठक के बाद प्रधानमंत्री अन्य मंत्रियों और अधिकारियों के संग गंगा के दर्शन के लिए बैराज स्थित अटल घाट की ओर गए। स्टीमर पर सवार होकर वो सरसैया घाट के लिए रवाना हुए। इसके बाद गंगा में वे आधा घंटा तक स्टीमर पर रहे। जहाँ उन्होंने गंगा सफाई के लिए नालों और गंगा की सफाई का जायजा लिया।

स्टीमर पर सवार होकर गंगा का निरीक्षण करने पहुँचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
‘नमामि गंगे’ का मुरीद हुआ चीन, कहा- मोदी सरकार की ​परियोजना अनुकरणीय
फोटो फ़ीचर: ‘नमामि गंगे’ से बदलती माँ गंगा की सूरत
शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कंगना रनौत, आशा देवी
कंगना रनौत 'महिला-विरोधी' हैं, क्योंकि वो बलात्कारियों का समर्थन नहीं करतीं। वामपंथी गैंग नाराज़ है, क्योंकि वो चाहता है कि कंगना अँग्रेजों के तलवे चाटे और महाभारत को 'मिथक' बताएँ। न्यूज़लॉन्ड्री निर्भया की माँ को उपदेश देकर कह रहा है ये 'न्याय' नहीं बल्कि 'बदला' है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,833फैंसलाइक करें
35,978फॉलोवर्सफॉलो करें
163,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: