Friday, July 30, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाबांग्लादेशी घुसपैठियों ने BSF के 2 जवानों को बनाया निशाना, घायल कर लूट लिया...

बांग्लादेशी घुसपैठियों ने BSF के 2 जवानों को बनाया निशाना, घायल कर लूट लिया बंदूक

"10-15 बांग्लादेशी नागरिकों के एक समूह ने सीमा सुरक्षा बल के 2 कर्मियों को रोंगतिला सीमा चौकी के निकट घेर लिया, उनके हथियार छीन लिए और उनमें से एक को घायल कर दिया।"

मेघालय में संदिग्ध बांग्लादेशी नागरिकों द्वारा एक सीमा चौकी को निशाना बनाए जाने की खबर आई है। बताया जा रहा है कि इन संदिग्धों ने बीएसएफ के 2 जवानों पर हमला किया और उनसे उनके हथियार छीन लिए। इस दौरान इन्होंने एक जवान को घायल भी कर दिया।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, हमले की सूचना देते हुए एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “पड़ोसी देश का एक समूह मेघालय के एक व्यक्ति के घर में घुस गया और रुपए, मोबाइल फोन और बंदूक लूट कर फरार हो गया। घर के मुखिया इस वारदात में घायल हो गए।”

गौरतलब है कि इस घटना पर पश्चिम जयंतिया हिल्स के पुलिस अधीक्षक लकादर सियेम ने बताया कि यह घटना देर रात करीब साढ़े 12 हुई अमदोह और रोंगतिला में हुई। ये इलाका भारत-बांग्लादेश सीमा से 5 किलोमीटर दूर है।

उन्होंने बताया, “10-15 बांग्लादेशी नागरिकों के एक समूह ने कथित तौर पर सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 2 कर्मियों को रोंगतिला सीमा चौकी (बीओपी) के निकट घेर लिया, उनके हथियार छीन लिए और उनमें से एक को घायल कर दिया।”

पुलिस अधीक्षक ने मामले में आगे की सूचना देते हुए बताया कि जवानों से छीने गए हथियार उन्होंने जंगल के पास से बरामद किए हैं। वहीं, दोनों बीएसएफ जवान को दौकी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया है। इस हमले को मेघालय के शिक्षा मंत्री लंखमेन रेम्बुई ने निंदाजनक बताया है।

बता दें कि बांग्लादेशियों द्वारा सेना के जवानों को निशाना बनाने का ये पहला मामला नहीं है। इससे पहले पश्चिम बंगाल से भी कई बार जवानों पर हमला करने की खबरें आई हैं। पिछले साल जुलाई में हुई घटना में तो एक बांग्लादेशियों ने जवान के हाथ पर बम फोड़ दिया था, जिससे अनीसुर रहमान नामक बीएसएफ जवान का हाथ कोहनी से फटकर ही नीचे गिर गया था।

NRC की आहट से सहमे घुसपैठिए, रात के अँधेरे में भाग रहे बांग्लादेश

दिल्ली में हुई हिंसा में 15 से ज्यादा बांग्लादेशी भी थे शामिल, शिकंजा कसने की तैयारी में SIT

NRC का असर: घर लौटने लगे घुसपैठिए, बांग्लादेश ने माना 2 महीने में 445 भारत से वापस आए

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘2 से अधिक बच्चे तो छीन लें आरक्षण और वोटिंग का अधिकार’: UP के जनसंख्या नियंत्रण कानून के पक्ष में 97% लोग

जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर उत्तर प्रदेश विधि आयोग को मिले सुझाव में से ज्यादातर में सख्त कानून का समर्थन किया गया है।

रोज के ₹300, शराब के साथ शबाब भी: देह व्यापार का अड्डा बना टिकरी बॉर्डर, टेंट में नंगे पड़े रहते हैं ‘किसान’

किसान आंदोलन के नाम पर फर्जी किसान टीकरी बॉर्डर शराब और लड़कियों के साथ झाड़ियों के पीछे अय्याशी करते देखे जा सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,980FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe