Saturday, July 31, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षामुस्लिम आतंकियों और केरल के माओवादियों के बीच गहरे संबंध- CPM

मुस्लिम आतंकियों और केरल के माओवादियों के बीच गहरे संबंध- CPM

केरल में कोझिकोड जिले में सीपीएम के सचिव पी मोहनन ने कहा है कि माओवादियों और इस्‍लामिक आतंकवादियों के बीच बेहद घनिष्‍ठ संबंध हैं, जिसकी राज्‍य की पुलिस को जाँच करनी चाहिए।

केरल की सत्ताधारी पार्टी सीपीआई (मार्क्‍सवादी) ने इस्लामिक आतंकवाद पर एक बड़ा बयान देते हुए कहा है कि मुस्लिम आतंकवादी राज्य में माओवादियों को बढ़ावा दे रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार केरल में कोझिकोड जिले में सीपीएम के सचिव पी मोहनन ने कहा है कि माओवादियों और इस्‍लामिक आतंकवादियों के बीच बेहद घनिष्‍ठ संबंध हैं, जिसकी राज्‍य की पुलिस को जाँच करनी चाहिए।

उनके अनुसार, “राज्य में माओवादियों की शक्ति मुस्लिम आतंकवादी संगठन हैं जो उन्हें खाद-पानी देकर बढ़ावा दे रहे हैं। पुलिस को इस एंगल की जाँच करनी चाहिए।”

उनके मुताबिक नेशनल डेवेलपमेंट फ्रंट (एनडीएफ) और इस्लामिक फंडामेंटालिस्ट्स माओवादियों का समर्थन करने के लिए बहुत उत्साहित रहते हैं।

यहाँ बता दें कि एक ओर जहाँ पी मोहनन का ये बयान आया है वहीं 28 अक्टूबर को पलक्कड़ जिले के अट्टापेडी में पुलिस के दो दिन के तलाशी अभियान के दौरान मुठभेड़ में मारे गए 4 माओवादियों की घटना पर केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने फिलहाल न्यायिक जाँच करवाने से इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि पुलिस की ओर से यदि कोई गलती हुई है तो उसका पता लगाने के लिए मैजिस्ट्रेट जाँच चल रही है।

नवभारत की रिपोर्ट के मुताबिक विजयन ने कहा, “पुलिस ने आत्मरक्षा में गोलियाँ चलाईं। माओवादी पुलिस की ड्यूटी में बाधक बन रहे थे। पुलिस की ओर से कोई चूक होने के आरोपों को हम देख रहे हैं। मैजिस्ट्रेट जाँच जारी है। “

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,242FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe