Saturday, June 15, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाअक्षय तृतीया पर लिए सात फेरे, अक्षय तृतीया पर ही तिरंगे में लिपटे घर...

अक्षय तृतीया पर लिए सात फेरे, अक्षय तृतीया पर ही तिरंगे में लिपटे घर आए देबाशीष बिस्वालः इफ्तारी के लिए फल लेकर लौट रहे थे बलिदानी

देबाशीष और संगीता की एक सात महीने की बेटी है जिसका चेहरा तक देबाशीष ने नहीं देखा था। माता-पिता कुछ कहने की अवस्था में नहीं हैं जबकि परिजनों को संगीता और उनकी नवजात बच्ची की चिंता है।

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में गुरुवार (20 अप्रैल 2023) को इफ्तारी का सामान लेकर सांगियोटे गाँव लौट रहे पाँच सेना के जवान वाहन आग लगने के बाद बलिदान हो गए। ये आग आतंकवादी हमले के कारण गाड़ी में लगी। बलिदानियों में पंजाब के 4 जवानों के साथ एक ओडिशा के देबाशीष बिस्वाल भी थे। देबाशीष का पार्थिव शरीर शनिवार (22 अप्रैल 2023) को भुवनेश्वर एयरपोर्ट पर आया।

इस दौरान देबाशीष की की पत्नी संगीता भी वहाँ मौजूद रहीं। ये संयोग बहुत अजीब था कि 2 साल पहले अक्षय तृतीया के दिन ही संगीता और देबाशीष की शादी हुई थी और अक्षय तृतीया पर ही उनका पार्थिव शरीर लौटकर भुवनेश्वर आया। दोनों की एक सात महीने की बेटी है जिसका चेहरा तक देबाशीष ने नहीं देखा था। माता-पिता कुछ कहने की अवस्था में नहीं हैं जबकि परिजनों को संगीता और उनकी नवजात बच्ची की चिंता है।

उन्हें श्रद्धांजलि देने भाजपा नेता संबित पात्रा भी भुवनेश्वर एयरपोर्ट पर आए। उन्होंने कहा कि यह देश देबाशीष के सर्वोच्च बलिदान को सदैव श्रद्धापूर्वक याद करेगा।

गाँव को दिया था इफ्तारी का निमंत्रण

बता दें कि देबाशीष सेना की राष्ट्रीय राइफल्स ईकाई का हिस्सा थे। उनकी तैनाती जम्मू कश्मीर में थी। गुरुवार को वह इफ्तारी के फल लेकर लौट रहे थे क्योंकि सेना की ओर से पूरे गाँव को निमंत्रण दिया गया था। जानकारी के मुताबिक करीबन 4000 लोग उस दिन शाम 7 बजे होने वाली इफ्तारी में शिरकत करते। सेना ने इनके लिए अपने वाहन में बालाकोट के बसूनी के आरआर मुख्यालय से सामग्री ली थी, और भीमबेर गली क्षेत्र के रास्ते में उन्होंने गाड़ी में और सामान रखा था। लेकिन पुंछ और राजौरी के बीच रास्ते में आतंकी हमले के बाद यह घटना घट गई।

करीबन 3 बजे वाहन पर टोटा गली के पास आतंकी हमला हुआ। इस हमले से सेना के ट्रक में आग लग गई। जब अन्य जवानों और ग्रामीणों ने पास जाकर देखा तो पाँच जवानों वहाँ बलिदान हो चुके थे और छठे की हालत गंभीर थी। इस घटना के बाद उस गाँव के लोगों ने ईद न मनाने का फैसला किया जिन्हें उस दिन सेना ने इफ्तार पर बुलाया था। सरपंच बोले- क्या इफ्तार जब हमारे पाँच जवान ही हादसे में बलिदान हो गए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW – अमित शाह ने सबको बुलाया: कश्मीर में ‘एक्शन’ की तैयारी में...

NSA अजीत डोभाल के अलावा उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, तीनों सेनाओं के प्रमुख के अलावा IB-R&AW के मुखिया व अर्धसैनिक बलों के निदेशक भी मौजूद रहेंगे।

अब तक की सबसे अधिक ऊँचाई पर पहुँचा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, उधर कंगाली की ओर बढ़ा पाकिस्तान: सिर्फ 2 महीने का बचा...

एक तरफ पाकिस्तान लगातार बर्बादी की कगार पर पहुँच रहा है, तो दूसरी तरफ भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार बढ़ता जा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -