Tuesday, October 4, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाबिना नंबर वाली स्कार्पियो, उस पर लिखा 'मुस्लिम फॉरएवर': CRPF ने रोका तो अंधाधुंध...

बिना नंबर वाली स्कार्पियो, उस पर लिखा ‘मुस्लिम फॉरएवर’: CRPF ने रोका तो अंधाधुंध फायरिंग, एक मरा-एक भागा

जम्मू-कश्मीर में आतंकी लगातार अपना डर कायम करने के लिए कभी आम लोगों को तो कभी सुरक्षाबल को निशाना बना रहे हैं। गुरुवार को ही श्रीनगर के एक स्कूल में एक कश्मीरी पंडित शिक्षक और वहाँ की सिख प्रिंसिपल को मारा गया था।

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में इस बार सीआरपीएफ कर्मियों को निशाना बनाया गया। गुरुवार (अक्टूबर 7, 2021) को मोंघल ब्रिज के पास 2 संदिग्ध एक बिना नंबर प्लेट वाली गाड़ी से जा रहे थे, जब सुरक्षाबल ने उन्हें रोकना चाहा तो गाड़ी में बैठे दोनों लोगों ने उन पर फायरिंग की और उसके बाद वहाँ से गाड़ी नाका पार्टी की तरफ दौड़ा दी। जवानों को अपनी आत्मरक्षा में जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी, जिसके कारण गाड़ी में बैठे एक संदिग्ध की मौत हो गई और ड्राइवर वहाँ से भागने में सफल रहा।

सुरक्षाबल, फरार ड्राइवर की खोज में जुटे हैं। फिलहाल उन्हें वो गाड़ी मिली है जिसे बिना नंबर प्लेट नाका पार्टी की ओर लाया गया। इसके फ्रंट पर लिखा है- “मुस्लिम फॉरएवर।” टीवी9 की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में आधिकारिक सूत्रों ने जानकारी दी है कि गुरुवार को 40 जवानों ने मोंघल ब्रिज पर नाका लगाया। इस दौरान वहाँ से जाने वाली एक सिल्वर स्कॉर्पियों को रुकने के लिए कहा गया। लेकिन वो नियम तोड़ते हुए आगे बढ़ गया। इसी के बाद सीआरपीएफ ने फायरिंग की और एक संदिग्ध की मौत हो गई। 

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में आतंकी लगातार अपना खौफ दोबारा कायम करने की कोशिशों में जुटे हैं। इस बार उनके निशाने पर केवल कश्मीरी पंडित और हिंदू नहीं हैं, बल्कि इस बार वो सिखों को भी अपना निशाना बना रहे हैं। गुरुवार की ही घटना है जब श्रीनगर के गवर्नमेंट ब्यॉज हायर सेकेंडरी स्कूल के अंदर घुसकर आतंकियों ने आईडी कार्ड देखने के बाद 2 शिक्षकों की गोली मारकर हत्या कर दी। इनकी पहचान स्कूल की प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और शिक्षक दीपक चंद के रूप में हुई।

इससे पहले भी मंगलवार को तीन अलग-अलग स्थानों पर तीन व्यक्तियों को मौत के घाट उतारा गया था। पहला हमला एक फार्मेसी कारोबारी के ऊपर हुआ था। दूसरा अटैक मदीन साहिब में एक स्ट्रीट हॉकर पर था और तीसरा हमला बांदीपोरा जिला में हुआ था, जहाँ आतंकियों ने एक आम नागरिक की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि घाटी में जो आम नागरिकों पर हमले हो रहे हैं वो पूरी तरह से जम्मू-कश्मीर में दहशत फैलाने के लिए किए जा रहे हैं। निर्दोष लोगों को निशाना बनाया जा रहा है ताकि लोगों का आपस में भाईचारा खत्म हो सके। उन्होंने इन लगातार होते हमलों पर दुख जताया और बताया कि पुलिस हमलावरों की तलाश में जुटी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक मिनट में दागेगा 750 गोलियाँ, ऊँचाई वाले स्थानों पर दुश्मन की खैर नहीं: जानें 5800 किलो के स्वदेशी ‘प्रचंड’ के बारे में, जो...

'प्रचंड' चॉपर दुश्मनों के लड़ाकू विमानों को ध्वस्त करने, आतंकवाद विरोधी अभियानों को अंजाम देने, कॉम्बैट सर्च और बचाव कार्यों में सक्षम हैं।

कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष ने भारत आए चीतों को बताया लंपी वायरस का कारण, नामीबिया को बताया ‘नाइजीरिया’: BJP नेता ने कहा – इनको...

महाराष्ट्र कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा है कि देश में फैले हुए लंपी वायरस के लिए 'नाइजीरिया' से आए चीते जिम्मेदार हैं। हुई जगहँसाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
226,129FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe